अलग अलग होगी दोनो टीकों की वैक्सीन तो कोविड के खिलाफ सुरक्षा मिलेगी ज्यादा

By भाषा | Published: June 18, 2021 12:55 PM2021-06-18T12:55:19+5:302021-06-18T12:55:19+5:30

If the vaccine of both the vaccines will be different, then there will be more protection against Kovid | अलग अलग होगी दोनो टीकों की वैक्सीन तो कोविड के खिलाफ सुरक्षा मिलेगी ज्यादा

अलग अलग होगी दोनो टीकों की वैक्सीन तो कोविड के खिलाफ सुरक्षा मिलेगी ज्यादा

Next

मॉरीन फेरान, एसोसिएट प्रोफेसर ऑफ बायोलॉजी, रोचेस्टर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी

रोचेस्टर (अमेरिका), 18 जून (द कन्वरसेशन) अमेरिका में ज्यादातर जगहों पर कोविड-19 का टीका लगवाना हालांकि अब काफी आसान हो गया है, लेकिन दुनिया के अन्य हिस्सों में वैक्सीन की कमी, असमान पहुंच और सुरक्षा को लेकर चिंता के चलते वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया काफी धीमी या असंगत रही है।

शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि कोविड-19 टीकों के लिए मिक्स-एंड-मैच दृष्टिकोण इन मुद्दों को कम करने में मदद करेगा और लोगों के लिए उपलब्ध टीकाकरण के नियमों में अधिक लचीलापन पैदा करेगा।

दुनिया भर में, विभिन्न दवा कंपनियों ने टीके विकसित करने के लिए अलग-अलग दृष्टिकोण अपनाए हैं। फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्ना ने एमआरएनए वैक्सीन बनाए। ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन ने ऐसी वैक्सीन की तरफ जाने का फैसला किया, जो वायरल वैक्टर कहलाते हैं। नोवावैक्स कोविड-19 वैक्सीन प्रोटीन आधारित है।

ऐसे में विभिन्न कोविड-19 वैक्सीन का मिश्रण एक से दूसरे दवा निर्माता, जैसे पहली डोज फाइजर की और दूसरी डोज मॉडर्ना, की तरफ जाना भर नहीं है,। बल्कि ऐसा करना इनकी उपलब्धता और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर कर सकता है।

विभिन्न ब्रांड और कोविड-19 वैक्सीन के अलग अलग प्रकारों को लेने का सबसे बड़ा लाभ इसकी उपलब्धता से जुड़ा है। लोग बिना किसी चिंता के जो भी वैक्सीन उपलब्ध हैं, उसे ले सकते हैं।

वैश्विक टीकाकरण अभियान में तेजी लाने से, टीकों को मिलाकर और मिलान करने से इस महामारी को समाप्त करने में मदद मिल सकती है। शोधकर्ताओं को यह भी उम्मीद है कि अलग-अलग टीकों के संयोजन से एक ही टीके की दोनों खुराक प्राप्त करने की तुलना में अधिक मजबूत, लंबे समय तक चलने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होगी। यह दृष्टिकोण लोगों को वायरस के उभरते हुए नये रूपों से बेहतर ढंग से बचा सकता है।

मिक्स-एंड-मैच दृष्टिकोण के जैविक प्रभाव

वैज्ञानिकों को संदेह है कि कुछ तरीके हैं जिनसे दो अलग-अलग कोविड-19 टीके प्राप्त करने से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हो सकती है।

प्रत्येक कंपनी ने अपने फॉर्मूलेशन में सार्स-कोव-2 स्पाइक प्रोटीन के थोड़े अलग प्रकारों का इस्तेमाल किया।

यह वायरस का स्पाइक प्रोटीन है जिस पर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया करती है, इसलिए स्पाइक प्रोटीन के विभिन्न भागों के संपर्क में आने का मतलब यह होता है कि आपका शरीर संबंधित एंटीबॉडी की एक श्रृंखला बनाएगा जो भविष्य के संक्रमण को रोक सकता है और इस संभावना को बढ़ाता है कि आप प्रोटीन में परिवर्तन वाले वेरिएंट से भी सुरक्षित रहेंगे।

फाइजर और मॉडर्ना के टीके एमआरएनए के एक छोटे स्निपेट से बने होते हैं। यह ऐसी आनुवांशिक सामग्री है, जिसमें सार्स-कोव-2 स्पाइक प्रोटीन का एक क्षेत्र बनाने का नुस्खा होता है।

टीका लगने के बाद यह एमआरएनए एक मोटे आवरण के साथ टीकाकृत व्यक्ति की कोशिकाओं में फिसल जाता है जहां यह वायरल प्रोटीन के उत्पादन को निर्देशित करता है। व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली तब बाहर से आए स्पाइक प्रोटीन को पहचानती है और इसके खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन करती है।

कई अन्य कोविड-19 टीके एक वायरल वेक्टर पर निर्भर करते हैं। इन मामलों में, शोधकर्ताओं ने एक एडेनोवायरस को संशोधित किया जो आमतौर पर सामान्य सर्दी को सार्स-कोव-2 स्पाइक प्रोटीन के एक हिस्से के उत्पादन के लिए डीएनए निर्देश देने का कारण बनता है।

संशोधित वायरस सुरक्षित है क्योंकि यह इनसानों में जाकर अपनी संख्या बढ़ा नहीं सकता है। जॉनसन एंड जॉनसन और एस्ट्राजेनेका के साथ, वैश्विक स्तर पर उपयोग में आने वाले कोविड-19 वायरल वेक्टर टीकों के उदाहरणों में रूस की स्पुतनिक वैक्सीन शामिल है।

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली स्वयं वायरल वेक्टर वैक्सीन के लिए एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित कर सकती है, जो कोरोनावायरस के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता को कम कर सकती है। विशेषज्ञों को उम्मीद है कि अलग अलग वैक्सीन का संयोजन, उदाहरण के लिए एक एमआरएनए- आधारित वैक्सीन का उपयोग करना या दूसरी खुराक के लिए एक अलग वायरल वेक्टर शामिल करना, उस जोखिम को कम कर सकता है।

वैक्सीन के संयोजन की सुरक्षा और प्रभावशीलता की जांच करना

दुनिया भर में, जानवरों और लोगों में सुरक्षा, उत्पन्न होने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के प्रकार और एक व्यक्ति को दो अलग-अलग कोविड-19 टीके प्राप्त होने पर प्रतिरक्षा कितनी देर तक चलती है, इसकी जांच के लिए अध्ययन चल रहे हैं।

600 से अधिक लोगों के एक स्पेनिश परीक्षण के परिणामों ने संकेत दिया कि वायरल-वेक्टर एस्ट्राजेनेका और एमआरएनए-आधारित फाइजर-बायोएनटेक कोविड-19 टीकों के साथ टीकाकरण सार्स-कोव-2 वायरस के खिलाफ एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पैदा करता है।

एक जर्मन अध्ययन के प्रारंभिक परिणामों की हालांकि अभी तक सहकर्मी-समीक्षा नहीं की गई है, जिसमें पाया गया कि पहले एस्ट्राजेनेका वैक्सीन प्राप्त करने के बाद फाइजर वैक्सीन के परिणामस्वरूप अधिक सुरक्षात्मक एंटीबॉडी का उत्पादन हुआ और दो एस्ट्राजेनेका खुराक की तुलना में संबद्ध वेरिएंट के खिलाफ बेहतर सुरक्षा मिली।

ब्रिटेन- में कॉम-कोव अध्ययन रोगियों को एस्ट्राजेनेका और फाइजर-बायोएनटेक शॉट्स का संयोजन देने की सुरक्षा और प्रभावशीलता की भी जांच कर रहा है।

उभरते कोरोनावायरस वेरिएंट टीकों को मिलाने पर विचार करने के सबसे पेचीदा कारणों में से एक हैं। विभिन्न प्रकारों को लक्षित करने वाले टीकों का प्रशासन व्यापक सामूहिक प्रतिरक्षा प्रदान करेगा और नए संभावित रूप से अधिक खतरनाक वेरिएंट के हमले को सीमित करेगा।

यह संभव है कि वर्तमान में जिन लोगों का टीकाकरण पूरा हो गया है उन्हें नए रूपों में अनुवांशिक मतभेदों को दूर करने के लिए तीसरे शॉट की आवश्यकता पड़े। इस बूस्टर शॉट के लिए प्लेटफॉर्म बदलना - उदाहरण के लिए, यदि आपका पहला राउंड वायरल-वेक्टर आधारित था, तो एमआरएनए या एक प्रोटीन-आधारित वैक्सीन की तरफ जाना - आपकी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: If the vaccine of both the vaccines will be different, then there will be more protection against Kovid

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे