मृत मिला भारतीय परिवार आखिर कैसे पहुंचा अमेरिका-कनाडा बॉर्डर के पास पहुंचा? मानव तस्करी सहित कई पहलुओं पर जांच

By भाषा | Published: January 28, 2022 04:45 PM2022-01-28T16:45:41+5:302022-01-28T16:45:41+5:30

अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार को लेकर गुत्थी सुलझाने का प्रयास जारी है। कनाडा के पुलिस अधिकारियों के अनुसार परिवार 12 जनवरी को ही टोरंटो आया था।

How Indian family found dead reached near US-Canada border, know all detail | मृत मिला भारतीय परिवार आखिर कैसे पहुंचा अमेरिका-कनाडा बॉर्डर के पास पहुंचा? मानव तस्करी सहित कई पहलुओं पर जांच

अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार से जुड़ी गुत्थी की जांच जारी (फोटो- ट्विटर)

Next

 न्यूयॉर्क /टोरंटो: अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले चार भारतीय नागरिकों के परिवार की पहचान हो गई है और अब कनाडा के अधिकारी इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि यह परिवार सीमा के पास कैसे पहुंचा। मैनिटोबा की ‘रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस’ ने कहा कि मृतकों की पहचान जगदीश बलदेवभाई पटेल (39), वैशालीबेन जगदीशकुमार पटेल (37), विहंगी जगदीशकुमार पटेल (11) और धार्मिक जगदीशकुमार पटेल (3) के तौर पर हुई है।

ये सभी एक ही परिवार के सदस्य थे, जो 19 जनवरी को कनाडा-अमेरिका सीमा से लगभग 12 मीटर दूर मैनिटोबा के इमर्सन के पास मृत मिले थे। यह परिवार भारत के गुजरात राज्य का रहने वाला था। अधिकारियों ने पहले बताया था कि परिवार में एक वयस्क पुरुष, एक वयस्क महिला, एक किशोर और एक शिशु शामिल हैं, लेकिन अब मृतकों में एक किशोर की जगह किशोरी के होने की बात सामने आई है।

भारतीय परिवार 12 जनवरी को आया था टोरंटो

मैनिटोबा की ‘रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस’ के मुख्य अधीक्षक रॉब हिल ने एक बयान में कहा, ‘‘ शुरुआत में हमने, एक मृतक की पहचान किशोर के रूप में की थी। हम इसके लिए माफी चाहते हैं, लेकिन समझने की कोशिश करें जिस तरह जमी हुई हालत में शव मिले थे, उनकी एकदम से पहचान कर पाना मुश्किल था। इसलिए ही उनके नामों का पता लगाने में भी समय लगा।’’

हिल ने बताया कि पटेल परिवार 12 जनवरी 2022 को टोरंटो आया था। वहां से 18 जनवरी के आसपास इमर्सन के लिए निकला। इसके एक दिन बाद ही कड़ाके की ठंड की चपेट में आने से सीमा के पास उनकी मौत हुई थी।

उन्होंने कहा कि मौके से कोई वाहन बरामद नहीं हुआ है, जिससे प्रतीत होता है कि कोई परिवार को सीमा तक लाया था और फिर उन्हें वहीं छोड़कर चला गया। हिल ने कहा, ‘‘ कनाडा में उनकी गतिविधियों और अमेरिका में जो गिरफ्तारी हुई है, उससे यह मामला मानव तस्करी का लगता है।’’

मानव तस्करी सहित हर पहलू पर अधिकारी कर रहे जांच

उन्होंने कहा कि कनाडा की प्रमुख अपराध सेवाओं तथा संघीय पुलिस के अधिकारी उनकी यात्रा के हर पहलू पर गौर कर रहे हैं, जिसमें उनके 12 जनवरी को टोरंटो से 18 जनवरी के आसपास इमर्सन जाने तक का सफर शामिल है। हिल ने कहा कि यह एक ऐसा समय था, जिस दौरान कनाडा से अपरिचित एक परिवार देश भर में यात्रा कर रहा था।

उन्होंने कहा, ‘‘ जांच में यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या इस यात्रा का बंदोबस्त किसी व्यक्ति या किसी समूह ने तो नहीं किया था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमारा मानना है कि कनाडा में रहने के दौरान लोगों ने पटेल परिवार के साथ बातचीत की होगी। इसमें होटल, गैस स्टेशन या रेस्तरां के कर्मचारी शामिल हो सकते हैं।’’

उन्होंने पटेल परिवार के सम्पर्क में आए सभी लोगों या ‘‘ उनके सीमा तक जाने की यात्रा के बारे में कोई भी जानकारी रखने वालों से’’ सामने आने और अधिकारियों को इसकी जानकारी देने का आग्रह किया।

मामले की जांच में लग सकते हैं महीनों

हिल ने कहा, ‘‘ कनाडा में बिताए उनके समय से जुड़ी कोई भी जानकारी हमारे जांचकर्ताओं के लिए बहुत मददगार होगी। इससे जांच में मदद मिलेगी। हमें पता है कि इसमें महीनों लग सकते हैं, लेकिन हमारे अधिकारी इसकी गुत्थी सुलझाने को प्रतिबद्ध हैं।’’ आरसीएमपी ने इस बात का पता लगाने के लिए गहन जांच शुरू कर दी है कि पटेल परिवार कैसे कनाडा आया और फिर इमर्सन कैसे पहुंचा।

हिल ने कहा कि उनका विभाग आरसीएमपी सम्पर्क अधिकारियों के साथ भी मिलकर काम कर रहा है, जो नई दिल्ली और वाशिंगटन में तैनात हैं। वह अमेरिकी सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा और होमलैंड सुरक्षा जांच से भी नियमित सम्पर्क में हैं। अधिकारी शनिवार को कनाडा के विनिपेग शहर पहुंचे भारतीय वाणिज्य दूतावास के अधिकारियों से भी नियमित रूप से बात कर रहे हैं। 

Web Title: How Indian family found dead reached near US-Canada border, know all detail

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे