रूस के साइबेरिया में भयानक हादसाः कोयला खदान में आग लगने से 52 लोगों की मौत, 285 खनिकों में किसी के जिंदा नहीं बचने की उम्मीद

By अनिल शर्मा | Published: November 26, 2021 07:51 AM2021-11-26T07:51:41+5:302021-11-26T10:19:06+5:30

प्राधिकारियों ने बताया कि 11 खनिक मृत पाए गए और तीन बचावकर्मियों की भी बाद में उन खनिकों की खोज के दौरान मौत हो गई जो खदान के काफी भीतर फंसे हुए थे।

coal mine fire in russia Siberia kills 14 dozens missing | रूस के साइबेरिया में भयानक हादसाः कोयला खदान में आग लगने से 52 लोगों की मौत, 285 खनिकों में किसी के जिंदा नहीं बचने की उम्मीद

रूस के साइबेरिया में भयानक हादसाः कोयला खदान में आग लगने से 52 लोगों की मौत, 285 खनिकों में किसी के जिंदा नहीं बचने की उम्मीद

Next
Highlightsघटना के वक्त लिट्सव्याजहन्या खदान में कुल 285 लोग थे आशंका है कि किसी चिंगारी के कारण मीथेन विस्फोट हुआ, जिससे आग लगीवर्ष 2016 में रूस के सुदूर उत्तर में एक कोयला खदान में मीथेन गैस विस्फोट में 36 खनिक मारे गए थे

मॉस्को: रूस के साइबेरिया में एक कोयला खदान में आग लगने की घटना में 52 खनिकों और बचावकर्मियों की मौत हो गई है। रूस की समाचार एजेंसियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने पहले बताया था कि बचाव दल को 14 शव मिले हैं। वहीं, आग से उत्पन्न जहरीले धुएं के फैलने के कारण 38 लापता लोगों की तलाश के लिए चलाए जा रहे अभियान को रोक दिया गया था।

आधिकारिक समाचार एजेंसी ‘तास’ और ‘आरआईए-नोवोस्ती’ ने आपात सेवाओं के अधिकारियों के हवाले से बताया कि किसी के जिंदा बचने की कोई उम्मीद नहीं है। समाचार एजेंसी ‘इंटरफैक्स’ ने क्षेत्रीय प्रशासन के एक अधिकारी के हवाले से बताया कि iगुरुवार की घटना में मरने वालों की संख्या 52 हो गई है।

घटना के वक्त लिट्सव्याजहन्या खदान में कुल 285 लोग थे

दक्षिण-पश्चिमी साइबेरिया के केमेरोवो क्षेत्र में घटना के वक्त लिट्सव्याजहन्या खदान में कुल 285 लोग थे और ‘वेंटिलेशन सिस्टम’ के माध्यम से खदान में धुआं जल्दी ही भर गया। इससे पहले, बचाव दल ने 239 खनिकों को सुरक्षित बाहर निकाला, जिनमें से 49 घायल थे। रूस के उप अभियोजक जनरल दिमित्री देमशिन ने संवाददाताओं से कहा कि आशंका है कि किसी चिंगारी के कारण मीथेन विस्फोट हुआ, जिससे आग लगी। खनन के दौरान कोयले से निकलने वाली मीथेन (रंगहीन एवं गन्धहीन गैस) के कारण विस्फोट की घटनाएं दुर्लभ हैं, लेकिन वे कोयला खनन उद्योग में सबसे अधिक मौत का कारण बनती हैं।

रूस की जांच समिति ने सुरक्षा नियमों के उल्लंघन के कारण आग लगने के आरोप की आपराधिक जांच शुरू की है। खदान के निदेशक और दो वरिष्ठ प्रबंधकों को हिरासत में भी लिया गया है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मृतकों के परिजन के प्रति संवेदना व्यक्त की और सरकार को घायलों को हर संभव सहायता प्रदान करने का निर्देश दिया है।

2016 में भी हुआ था हादसा, 36 खनिक मारे गए थे

वर्ष 2016 में रूस के सुदूर उत्तर में एक कोयला खदान में मीथेन गैस विस्फोट में 36 खनिक मारे गए थे। इसके बाद, अधिकारियों ने देश की 58 कोयला खदानों की सुरक्षा की समीक्षा की और उनमें से 20 को संभावित रूप से असुरक्षित घोषित किया। हालांकि, उस समय लिट्सव्याजहन्या खदान को असुरक्षित खदानों की श्रेणी में नहीं रखा गया था।

Web Title: coal mine fire in russia Siberia kills 14 dozens missing

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे