CECA does not grant Indian nationals unconditional access, immigration privileges: Singapore | CECA समझौता भारतीय नागरिकों को बिना शर्त पहुंच या आव्रजक विशेषाधिकार मुहैया नहीं कराता: सिंगापुर
सिंगापुर ने भारत के साथ हुए CECA समझौते किया स्पष्ट

Highlightsसिंगापुर ने स्पष्ट किया है कोई भी एफटीए आव्रजन के संबंध में सिंगापुर पर कोई बोझ नहीं डालतामंत्री का दावा, 'सिंगापुर के लोगों की नौकरियां छिनने के दावों का लक्ष्य भय पैदा करना'

सिंगापुर:सिंगापुर के व्यापार एवं उद्योग मंत्री चान चुन सिंग ने कहा है कि भारत के साथ व्यापक आर्थिक सहयोग समझौता (सीईसीए) भारतीय नागरिकों को सिंगापुर में बिना शर्त पहुंच या आव्रजक विशेषाधिकार मुहैया नहीं कराता। चान ने शनिवार को कहा कि इस द्विपक्षीय समझौते से सिंगापुर के लोगों की नौकरियां छिनने के दावों का लक्ष्य आर्थिक अनिश्चितता के समय में भय पैदा करना है।

मंत्री का यह बयान उस वीडियो के ऑनलाइन सामने आने के बाद आया है जिसमें एक पूर्व भारतीय नागरिक पॉश रिहाइशी परिसर ‘ऐट रिवरसुइट’ में सुरक्षाकर्मी पर चिल्ला रहा है।

पुलिस ने बताया कि सिंगापुरी नागरिक रमेश एरामल्ली के खिलाफ ‘‘सुरक्षा अधिकारी को जानबूझकर प्रताड़ित’’ करने के मामले में जांच की जा रही है। यह घटना दीवाली के दौरान हुई। ऐट रिवरसुइट में रात 11 बजे के बाद पार्किंग के लिए मेहमानों को 10 सिंगापुरी डॉलर का भुगतान करना होता है।

इस वीडियो में एरामल्ली इसी बात को लेकर सुरक्षाकर्मी को अपशब्द कहते दिख रहे थे। इस वीडियो के सामने आने के बाद सिंगापुर में एरामल्ली की खासी आलोचना हुई। एरामल्ली ने इसके बाद सुरक्षाकर्मी से माफी मांग ली थी।

‘चैनल न्यूज एशिया’ ने अपनी एक खबर में बताया कि मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को लेकर भी झूठी बातें फैलाई जा रही है। दावा किया जा रहा है कि सीईसीए ने भारतीय नागरिकों को सिंगापुर के लोगों से पेशेवर, प्रबंधन संबंधी, कार्यकारी संबंधी और तकनीकी (पीएमईटी) नौकरियां छीनने की अनुमति दी है।

मंत्री चान ने स्पष्ट किया था कि सीईसीए समेत कोई भी एफटीए आव्रजन के संबंध में सिंगापुर पर कोई बोझ नहीं डालता। चैनल ने चान के हवाले से कहा, ‘‘किसी भी अन्य पेशेवर की तरह भारतीय पेशेवरों को भी सिंगापुर में काम करने के लिए एमओएम (श्रमबल मंत्रालय) की मौजूदा अनिवार्यताओं को पूरा करना होगा। यही रोजगार पास, एस पास और कार्य वीजा पर भी लागू होता है।

उन्होंने कहा, ‘‘सीईसीए भारतीयों को आव्रजन पहुंच के लिए कोई विशेषाधिकार नहीं देता। सिंगापुर की नागरिकता के लिए आवेदन देने वाले हर व्यक्ति को मौजूदा मापदंडों को पूरा करना होगा।’’ उन्होंने कहा कि सिंगापुर में पीएमईटी नौकरियां जाने के दावे के विपरीत एफटीए देशों के नेटवर्क ने नौकरियों के अवसर बढ़ाए हैं। चान ने स्वीकार किया कि मौजूदा आर्थिक अनिश्चितताओं के कारण रोजगार सुरक्षा को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं लेकिन लोगों को गुमराह करके भय पैदा करना सही नहीं है। 


Web Title: CECA does not grant Indian nationals unconditional access, immigration privileges: Singapore
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे