AFP news agency: Legendary architect IM Pei dies at 102, reports media. | नहीं रहे अनोखे चितेरे और जानेमाने अमेरिकी वास्तुकार आईएम पई, शोक में डूबा फ्रांस
उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालन में भी अध्ययन किया। 1954 में उन्हें अमेरिका की नागरिकता मिली। 

Highlightsउन्हें अमेरिका के मेडल ऑफ फ्रीडम, फ्रांस के लीजेंड द ऑनर जैसे अनेक पुरस्कारों से नवाजा गया था।चीनी मूल के पई ने मैसाच्युसेट्स इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी से 1940 में वास्तुकला मे पढ़ाई पूरी की थी।

तीक्ष्ण रेखाओं और मजबूत ढांचे के अनोखे चितेरे और जानेमाने अमेरिकी वास्तुकार आई.एम. पई का निधन हो गया है। उनके कंपनी की तरफ गुरुवार को यह जानकारी दी गई। वह 102 वर्ष के थे।



 

चीन में पैदा हुये पई को पेरिस में बनाए लूव्र पिरामिड के लिए अपार ख्याति मिली पर एक वक्त ऐसा भी था जब तीस साल पहले करीब 90 फीसदी फ्रांसीसी इस इमारत को बेकार की कवायद के रूप में देखते थे। शीशे की बनी इस इमारत को आज आधुनिक वास्तुकला में मील के पत्थर के रूप में देखा जाता है।

इसके अलावा वह वाशिंगटन की नेशनल गैलेरी ऑफ आर्ट, जापान के शिगो में मिन्हो संग्रहालय, बोस्टन में जॉन एफ. कैनेडी पुस्तकालय भवन, कतर के दोहा में म्यूजियम ऑफ इस्लामिक आर्ट जैसी आधुनिक शैली की इमारतों के लिए मशहूर हुये।

उन्हें अमेरिका के मेडल ऑफ फ्रीडम, फ्रांस के लीजेंड द ऑनर जैसे अनेक पुरस्कारों से नवाजा गया था। चीनी मूल के पई ने मैसाच्युसेट्स इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी से 1940 में वास्तुकला मे पढ़ाई पूरी की थी। बाद में उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालन में भी अध्ययन किया। 1954 में उन्हें अमेरिका की नागरिकता मिली। 


Web Title: AFP news agency: Legendary architect IM Pei dies at 102, reports media.
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे