Shivraj Singh Chouhan Trolled Over giving wrong History fact about Chandragupta Maurya | चंद्रगुप्त मौर्य की जयंती पर गलत जानकारी देकर ट्रोल हुए शिवराज सिंह चौहान, यूजर बोले- 'मामाजी रहम करो, आप चौथी बार CM बने फिर भी...'
Shivraj Singh Chouhan (File Photo)

Highlightsशिवराज सिंह चौहान ट्विटर पर काफी एक्टिव रहते हैं। ऐसा पहली बार नहीं है जब वह अपने किसी ट्वीट को लेकर ट्रोल हुए हो।शिवराज सिंह चौहान ने पिछले महीने कमलनाथ की सरकार गिरने के बाद MP के सीएम पद की शपथ ली है।

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता शिवराज सिंह चौहान अपने एक ट्वीट को लेकर ट्रोल हो गए हैं। शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट में इतिहास से लेकर एक गलत जानकारी से साझा की है, जिसके बाद ट्विटर यूजर ने शिवराज सिंह चौहान को ट्रोल करना शुरू किया। शिवराज सिंह चौहान ने चंद्रगुप्त मौर्य की जयंती को लेकर ट्वीट किया था। आइए जानें ट्वीट में उन्होंने क्या लिखा था...

शिवराज सिंह चौहान ने 15 अप्रैल को किए अपने ट्वीट में लिखा, ''महान योद्धा, अद्वितीय रणनीतिकार, मौर्य साम्राज्य के संस्थापक, आक्रमणकारी सिकंदर को मार भगाने वाले महान सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य की जयंती पर उनके चरणों में कोटि-कोटि नमन! अखंड भारत के निर्माण का सपना साकार करने वाले कुशल प्रशासक के रूप में आपको युगों-युगों तक याद किया जायेगा।" 

इस ट्वीट में ये लाइन, जिसमें लिखा है कि ''आक्रमणकारी सिकंदर को मार भगाने वाले महान सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य'' ये गलत है।  सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य ने सिकंदर के साथ कोई युद्ध नहीं की थी और ना ही इतिहास में उसे चंद्रगुप्त मौर्य द्वारा मारा गया है, इसका कोई प्रमाण है। 

ट्विटर पर लोग इसी गलत जानकारी के बारे में शिवराज सिंह को बताते हुए अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। पत्रकार मृणाल पांडे ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है, एक बिल्कुल नया ऐतिहासिक खुलासा, उर्फ सिकंदर का मुकद्दर। 

देखें लोगों की प्रतिक्रिया 

चंद्रगुप्त मौर्य का सामना सिकंदर के पूर्वसेनापति व सीरिया के ग्रीक सम्राट् सेल्यूकस के साथ हुआ था

चद्रंगुप्त का सामना सिकंदर के पूर्वसेनापति और उनके समकालीन सीरिया के ग्रीक सम्राट् सेल्यूकस के साथ हुआ था। ग्रीक इतिहासकार जस्टिन के उल्लेखों से प्रमाणित होता है कि सिकंदर की मृत्यु के बाद सेल्यूकस को उसके स्वामी के सुविस्तृत साम्राज्य का पूर्वी भाग उत्तराधिकार में प्राप्त हुआ। सेल्यूकस, सिकंदर की भारतीय विजय पूरी करने के लिए 305 ई.पू. के लगभग भारत आया था। लेकिन भारत की राजनीतिक स्थिति तब-तक बदल चुकी थी। लगभग सारा क्षेत्र एक शक्तिशाली शासक के नेतृत्व में था। ग्रीक लेखक इस युद्ध का ब्योरेवार वर्णन नहीं करते। किंतु ऐसा प्रतीत होता है कि चंद्रगुप्त की शक्ति के संमुख सेल्यूकस को झुकना पड़ा।

Web Title: Shivraj Singh Chouhan Trolled Over giving wrong History fact about Chandragupta Maurya
ज़रा हटके से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे