उत्तराखंड को 'देवभूमि' कहा जाता है। यहां भगवान शिव के सैकड़ों मंदिर हैं लेकिन यहां की खूद्सूरत वादियों में कई ऐसे अनोखे मंदिर भी है, जिनसे कई रहस्य जुड़े हुए हैं और इनके बारे में लोग ज्यादा नहीं जानते हैं। आपको जानकार हैरानी होगी कि यहां सिर्फ शिवजी के ही नहीं बल्कि दुर्योधन, कर्ण और लक्ष्मण को समर्पित मंदिर भी हैं। उदाहरण के लिए चमोली में 'लाटू देवता मंदिर', जो वर्ष में केवल एक दिन बैसाख पूर्णिमा पर खुलता है। यहां भक्तों को गर्भगृह में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। यहां तक कि पुजारी भी आंखों पर पट्टी बांधकर प्रवेश करते हैं। 

लाटू देवता मंदिर, चमोली 
मान्यता यह है कि नागराज अपनी 'मणि' के साथ मंदिर के अंदर रहता है और किसी को सांप राजा को नग्न आंखों से नहीं देखना चाहिए। इसलिए मंदिर को बहुत कम समय के लिए खोला जाता है और इसके अंदरूनी हिस्सों के बारे में गोपनीयता रखी जाती है। ऐसा माना जाता है कि लाटू पर्वत देवी नंदा देवी का भाई हैं। वह एक बार उनसे मिलने के लिए कैलाश पर्वत की ओर जा रहे थे और इस गांव के जंगलों में अपनी यात्रा रोक दी।

प्यास लगने पर उन्होंने एक स्थानीय महिला से पानी मांगा। उसने कहा कि घर के अंदर तीन मिट्टी के बर्तनों में से एक में पानी रखा है। हालांकि, वह अनजाने में एक पॉट में रखी शराब पी गई और उसकी जीभ जमीन पर गिर गई। नंदा देवी ने बाद में दर्शन दिए और कहा कि उनकी पूजा का स्थान इस गाँव में होगा। तब से, मंदिर बनाया गया था और यहाँ लाटू देवता की पूजा की जाती है। 

दुर्योधन मंदिर, उत्तरकाशी
उत्तराखंड की पहाड़ियों में एक और अनूठा मंदिर है जो दुर्योधन को समर्पित है। यह मंदिर उत्तरकाशी के जाखोल में स्थित है। देश में अपनी तरह का एकमात्र मंदिर है, जो 100 कौरव भाइयों में सबसे बड़े को समर्पित है। स्थानीय इतिहासकारों का कहना है मंदिर के देवता दुर्योधन हैं, कई ग्रामीण इसे कौरव मंदिर के रूप में स्वीकार करने से इनकार करते हैं। उनका मानना है कि मंदिर भगवान सोमेश्वर को समर्पित है। 

उत्तराखंड के मशहूर इतिहासकार प्रहलाद सिंह रावत के अनुसार, खुदाई के दौरान इस क्षेत्र में पांडव और कौरव पाए गए हैं। ऐसा माना जाता है कि कौरव जब जाखोल के पास के इलाकों में रहते थे, तब पांडवों ने वर्तमान हिमाचल प्रदेश के उत्तराखंड की सीमा पर कब्जा कर लिया था। चूंकि दुर्योधन के साथ एक नकारात्मक छवि जुड़ी हुई है, इसलिए कई स्थानीय लोग यह स्वीकार करने से कतराते हैं कि मंदिर उन्हें समर्पित है।

कर्ण मंदिर, जाखोल  
ऐसा माना जाता है कि कौरव गांव के आस-पास के इलाकों में रहते थे जो जाखोल से बहुत दूर नहीं है। ऐसा ही एक अन्य तीर्थस्थल है, जो नेटवार गांव में स्थित है। यह मंदिर पांडवों के सौतेले भाई और दुर्योधन के विश्वासपात्र कर्ण को समर्पित है। कर्ण एक शक्तिशाली योद्धा थे, जो अत्यंत परोपकारी और उदार थे। यहां के लोग नियमित रूप से उनकी पूजा करते हैं।

लक्ष्मण मंदिर, गढ़वाल 
एक और अनूठा तीर्थस्थल है लोकपाल, जो बद्रीनाथ के करीब गढ़वाल हिमालय में हेमकुंड के पास स्थित है। इस मंदिर की विशिष्टता यह है कि राम के छोटे भाई लक्ष्मण को समर्पित है। माना जाता है कि लक्ष्मण ने लंका के युद्ध के बाद जमी हुई झील के किनारे ध्यान लगाया था। एक मान्यता यह है कि यह वो स्थान है, लक्ष्मण को युद्ध के दौरान घायल होने के बाद लाया गया था।


Web Title: Uttarakhand famous temple list, information, history, map, photo in Hindi
पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे