Eid-Ul-Fitr 2020, Eid kab hai, moon sighting moon rise date and timings in india know history of eid | Eid-Ul-Fitr 2020: आज हो गया चांद का दीदार तो कल पूरे देश में मनाई जाएगी ईद, कुछ ऐसा है इसका इतिहास
Eid-Ul-Fitr 2020: आज हो गया चांद का दीदार तो कल पूरे देश में मनाई जाएगी ईद, कुछ ऐसा है इसका इतिहास

Highlightsशव्वाल महीने के पहले दिन हजरत मुहम्मद मक्का शहर से मदीना के लिए निकले थे। रमजान के महीने में रोजे रखने के बाद अल्लाह के इस दिन पर बक्शीश और ईनाम दिया जाता है।

रमजान का पाक महीना अब खत्म होने वाला है। इसके बाद पूरे देश में ईद मनाई जाएगी। इस बार की मीठी ईद 24 अप्रैल को मनायी जाने की उम्मीद है। अगर 23 मई यानी आज रात को चांद दिख गया तो कल ईद मनाई जाएगी। इस ईद को मीठी ईद के नाम से भी जाना जाता है। ईद उल-फितर इस्लामी कैलेंडर के दसवें महीने शव्वाल के पहले दिन मनायी जाती हैं। 

ईद को पूरी दुनिया में पूरे धूम से मनाया जाता है। लोग इस दिन घरों में मीठे पकवान बनाते हैं। खासकर सेंवईंयां जरूर बनती है। लोग एक-दूसरे से गले मिलकर शिकवें दूर करते हैं। इस्लाम धर्म में ये त्योहरा भाईचाहे का संदेश देता है। मगर इस बार सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना जरूरी और उचित दोनों है। 

ईद-उल-फितर की तारीख की बात करें तो यदि 23 मई को चांद दिख गया तो 24 मई को ईद मनायी जाएगी। वहीं अगर 24 मई को चांद दिखा तो ईद 25 मई की होगी। इस दिन मुस्लिम समुदाय के लोग नए कपड़े पहनर नमाज अदा करते हैं और अपने परिवार के अमन चैन की दुआ करते हैं। इस दिन पढ़ी जाने वाली नमाज को सलात अल फज्र कहा जाता है। वहीं ईद से पहले हर मुसलमान के लिए फितरा देना फर्ज बताया गया है। 

गरीब भी मना सकें खुशियां

ईद से पहले हर इंसान को लगभगव पौने दो किलो अनाज या उसकी कीमत गरीबों को दी जाती है। जिससे गरीब व्यक्ति भी ईद की खुशी मना सकें। बताया जाता है कि इसी दिन पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब ने बद्र के युद्ध में फतह हासिल की थी। इसी युद्ध में फतह पाने की खुशी में लोग ईद को मनाते हैं। 

दी जाती है बक्शीश

रमजान के महीने में रोजे रखने के बाद अल्लाह के इस दिन पर बक्शीश और ईनाम दिया जाता है। इसलिए इस दिन को ईद कहते हैं। मुसलमान ईद में खुदा का शुक्रिया अदा करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि खुदा ने महीने भर के उपवास रखने की ताकत दी। वहीं ईद के ढाई महीने बाद ईद-उल-अजहा आती है। जिसे बकरीद कहा जाता है। 

ईद-उल-फितर का इतिहास

मान्यता है कि शव्वाल महीने के पहले दिन हजरत मुहम्मद मक्का शहर से मदीना के लिए निकले थे। मक्का से मोहम्मद पैगंबर के प्रवास के बाद पवित्र शहर मदीना में ईद-उल-फितर का उत्सव शुरू हुआ था। बताया ये भी जाता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद ने बद्र की लड़ाई में इस दिन जीत हासिल की थी। तभी से इस दिन लोग सेवईं खाकर मुंह मीठा करते हैं और ईद मनाते हैं। 

English summary :
The Holy month of Ramadan is about its end. After this, Eid will be celebrated in the whole country. The mithi Eid of this time is expected to be celebrated on 24 April. If the moon is seen on 23 May i.e. tonight, then Eid will be celebrated tomorrow.


Web Title: Eid-Ul-Fitr 2020, Eid kab hai, moon sighting moon rise date and timings in india know history of eid
पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे