Bihar: Case filed against Uddhav Thackeray and Sanjay Raut in Kangana Ranaut case | बिहार: कंगना रनौत मामले में उद्धव ठाकरे और संजय राउत के खिलाफ मुकदमा दर्ज, लोगों ने जलाए पुतले
बिहार में कंगना रनौत मामले में उद्धव ठाकरे और संजय राउत के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। (फाइल फोटो)

Highlightsमुजफ्फरपुर में कोर्ट में एक शख्स ने बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को धमकी देने को लेकर यह मुकदमा दर्ज कराया है.इस मामले में पटना में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा संभाग द्वारा उद्धव ठाकरे का पुतला दहन किया गया.

पटना। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शिवसेना नेता व सांसद संजय राउत के खिलाफ बिहार में लोगों का गुस्सा अब उबाल खाने लगा है. विरोध प्रदर्शनों के साथ अब इन लोगों के खिलाफ बिहार में केस दर्ज कराया गया है. मुजफ्फरपुर में कोर्ट में एक शख्स ने बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को धमकी देने को लेकर यह मुकदमा दर्ज कराया है. दोनों पर धमकी देने का आरोप लगाया है. जबकि दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में महाराष्ट्र की उद्धव सरकार सवाल पूछने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत का घर अलोकतांत्रिक तरीके से तोड़े जाने के खिलाफ आज पटना में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा संभाग द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का पुतला दहन किया गया.

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा संभाग द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का पुतला दहन किया गया, जिसका नेतृत्व महासभा के युवा प्रदेश अध्यक्ष जय सिंह राठौड और प्रदेश अध्यक्ष नीरज कुमार सिंह ने किया. यहां बडी संख्या में युवाओं ने उद्धव ठाकरे और संजय राउत के खिलाफ नारेबाजी की. इस मौके पर जय सिंह राठौड ने कंगना को क्षत्राणी बताया और कहा कि कंगना सच की लडाई लड रही हैं, जिसमें पूरा देश उनके साथ है. 

उन्होंने कहा कि कंगना रनौत ने बॉलीवुड के मूवी माफिया और ड्रग माफिया को बेनकाब करने का काम किया है, वरना क्षत्रिय समाज के बेटे की हत्या का सच बाहर नहीं आता. कंगना ने इन माफिया के बारे में सरकार से पूछा तो बाला साहेब की सोच को तिलांजलि देने वाली शिवसेना के नेताओं ने अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर एक क्षत्राणी का अपमान किया है, जो भारत की बेटी है. हम यह अपमान नहीं सहेंगे. आज पूरा देश कंगना के साथ है.

जय सिंह राठौड़ ने उद्धव ठाकरे सरकार द्वारा कंगना के दफ्तर में तोडफोड को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि महाराष्ट्र में लोकतंत्र को शिवसेना ने तार– तार करने का काम किया है. इस सरकार के लिए हाई कोर्ट के ऑर्डर भी मायने नहीं रखते, तभी तो स्टे के बाद भी बुलडोजर चलाए गए. पत्रकारों को गिरफ्तार किया गया. हम पूछना चाहते हैं कि महाराष्ट्र सरकार आखिर किस को बचा रही है? वहां लाखों इलीगल कंस्ट्रक्शन हैं, उनपर बुलडोजर क्यों नहीं चला? उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा पूरी मजबूती से कंगना के साथ है और जरूरत पडी तो हम बडा आंदोलन करेंगे. कंगना के अपमान हम बर्दाश्त नहीं करने वाले हैं.

यहां उल्लेखनीय है कि शिवसेना-और कंगना रनौत के बीच विवाद जारी है. शिवसेना नेता कंगना के खिलाफ बयान दे रहे हैं तो कंगना भी शिवसेना के नेता से लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर पलटवार कर रही हैं. यहां तक कंगना चुनौती देते हुए कहा कि आज मेरा ऑफिस टूटा है उद्धव कल तुम्हारा घमंड टूटेगा. शिवसेना के बीच विवाद के बीच बीएमसी ने मुंबई में स्थिति कंगना के ऑफिस को तोड़ दिया.

बीएमसी ने कहा कि इस ऑफिस का निर्माण अवैध है. इस कार्रवाई पर कंगना ने कहा था कि ''मणिकर्णिका फिल्म्ज में पहली फिल्म अयोध्या की घोषणा हुई, यह मेरे लिए एक इमारत नहीं राम मंदिर ही है, आज वहां बाबर आया है, आज इतिहास फिर खुद को दोहराएगा राम मंदिर फिर टूटेगा मगर याद रख बाबर यह मंदिर फिर बनेगा यह मंदिर फिर बनेगा, जय श्री राम, जय श्री रामप, जय श्री राम.''

कंगना के मुंबई में अपना ऑफिस बनवाई है. यह मुंबई के पाली हिल स्थित बंगलो नंबर 5 का पूरी तरह से री-कंस्ट्रक्शन किया गया. इसे वर्क स्टूडियो में बदला गया है. कंगना के इस ऑफिस को बनाने 48 करोड रुपए खर्च किया था. लेकिन बीएमसी ने कई हिस्सों को तोड डाला है. यहां बता दें कि संजय राउत के एक बयान के बाद कंगना ने मुंबई की तुलना पीओके से की थी.

Web Title: Bihar: Case filed against Uddhav Thackeray and Sanjay Raut in Kangana Ranaut case
राजनीति से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे