Coronavirus: कोरोना किन मरीजों को लंबे समय तक कर रहा है परेशान, जानिए किन कारणों से होती है लॉन्ग कोविड की परेशानी!

Published: June 17, 2021 03:37 PM2021-06-17T15:37:41+5:302021-06-17T15:37:41+5:30

Next

कोरोना मरीजों में लक्षणों को बेहतर ढंग से समझने के लिए दुनिया भर में शोध किए जा रहे हैं। एक नए अध्ययन के अनुसार, बिना लक्षण वाले पांच में से एक मरीज में संक्रमण के बाद एक महीने तक लंबे समय तक कोविड के लक्षण विकसित होते हैं। इसका मतलब है कि ये मरीज एक महीने बाद भी कुछ कोरोनरी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। जब लक्षण गंभीर नहीं होते हैं, तो अधिकांश रोगियों का इलाज घर पर ही आइसोलेशन में किया जाता है।

यह शोध अमेरिका के एक गैर सरकारी संगठन फेयर हेल्थ ने वहां 19 लाख लोगों द्वारा किए गए बीमा दावों के आधार पर किया था। एनजीओ के अध्यक्ष रॉबिन गेलबर्ड ने कहा।

गेलबर्ड ने कहा कि शोध के निष्कर्ष इस महत्वपूर्ण बिंदु पर प्रकाश डालते हैं। यह लंबे समय से पीड़ित रोगियों, बीमा पॉलिसी बनाने वालों, इसे बेचने वालों, इसके लिए भुगतान करने वालों और शोधकर्ताओं को काफी मदद मिलती है।"

लंबे समय तक रहने वाले कोविड रोगियों को चार सप्ताह से अधिक समय तक जोखिम रहता है। शोध में पाया गया है कि सभी उम्र के लोग सिरदर्द, सांस लेने में तकलीफ, उच्च कोलेस्ट्रॉल, बेचैनी, थकान और उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं।

कोरोनरी हृदय रोग से ठीक होने के 30 दिन या उससे अधिक समय बाद मरीजों के मरने का जोखिम 46 प्रतिशत अधिक था। बीमारी की सूचना मिलने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया और ठीक होने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। एक ही अस्पताल में भर्ती नहीं होने वालों में मरने वालों की संख्या कम थी।

शोध के अनुसार, 19 प्रतिशत कोरोनरी एसिम्प्टोमैटिक रोगियों में 30 दिनों के उपचार के बाद भी लंबे समय तक कोविड के लक्षण विकसित हुए। लक्षणों के साथ अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या 50 थी और लक्षणों के बावजूद अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या 27.5 प्रतिशत थी।

लॉन्ग कोविड के लक्षण उम्र के साथ दिखने लगते हैं। उदाहरण के लिए छोटे बच्चों में यह समस्या आंतों से संबंधित पाई जाती है। लॉन्ग कोविड के वही लक्षण पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक पाए गए। महिलाओं की तुलना में अधिक पुरुषों को हृदय की समस्याओं का निदान किया गया। इसके अलावा, कई लोगों में चिंता, अवसाद और समायोजन विकार पाए गए।

लॉन्ग कोविड को पोस्ट कोविड सिंड्रोम या पोस्ट एक्यूट सीक्वल कहा जाता है। इसका कारण अभी पता नहीं चला है।

शोध के मुताबिक, इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि वायरस बीमारी के शुरुआती दौर में नर्वस सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है। यह बहुत धीरे-धीरे ठीक हो जाता है और ऐसी स्थिति में शरीर में वायरस का स्तर कम रहता है।