If Sushil Kumar played, India would have won gold medal in Rio Olympics, says Baba Ramdev | अगर सुशील कुमार जाते तो भारत रियो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतता: बाबा रामदेव

नई दिल्ली, 17 अप्रैल: योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा है कि अगर पहलवान सुशील कुमार को 2016 के रियो ओलंपिक में भाग लेने से नहीं रोका जाता तो भारत कम से कम एक गोल्ड मेडल जीत सकता था। सुशील कुमार ने हाल ही में गोल्ड कोस्ट में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में तीसरी बार गोल्ड मेडल जीता है।

दिल्ली हाई कोर्ट ने रियो ओलंपिक में 74 किलोग्राम कैटिगरी के लिए चुने गए नरसिंह यादव के साथ ट्रायल कराए जाने की सुशील कुमार की याचिका खारिज कर दी थी। इसके बाद सुशील कुमार रियो ओलंपिक में भाग नहीं ले पाए थे। हालांकि इस इवेंट के लिए भारत की तरफ से दावेदारी के लिए चुने गए नरसिंह यादव भी ऐन ओलंपिक से पहले डोप टेस्ट में फेल होने की वजह से खेलों के महाकुंभ से बाहर हो गए थे।

भारत रियो ओलंपिक में एक भी मेडल नहीं जीत सका था और उसे सिर्फ एक सिल्वर (पीवी सिंधु) और एक ब्रॉन्ज मेडल (साक्षी मलिक) ही मिला था। 

हाल ही में गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में रेसलिंग में गोल्ड मेडल जीतने वाले सुशील कुमार ने मंगलवार को भारत लौटने पर दिल्ली में योग गुरु बाबा रामदेव से मुलाकात की। सुशील कुमार ने गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ में रेसलिंग में फ्रीस्टाइल 74 किलोग्राम कैटिगरी में गोल्ड मेडल जीता था। ये दो बार के ओलंपिक मेजल विडेता सुशील कुमार का इन खेलों में तीसरा गोल्ड मेडल था। (पढ़ें: CWG 2018: भारत ने 26 गोल्ड समेत 66 मेडल जीत किया यादगार समापन, तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन)


बाबा रामदेव ने कॉमनवेल्थ गेम्स में 125 किलोग्राम कैटिगरी में गोल्ड जीतने वाले एक और रेसलर सुमित मलिक से भी मुलाकात की। रामदेव ने सुशील और सुमित से मुलाकात के बाद कहा, हमें सुशील पर गर्व है, 'सुशील और सुमित ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को गौरवान्वित किया है। मैं युवाओं से उनसे प्रेरणा लेने की अपील करता हूं। अगर उन्हें (सुशील कुमार) को रियो ओलंपिक में भाग लेने से नहीं रोका जाता तो भारत वहां एक और गोल्ड मेडल जीत लेता।'  (पढ़ें: CWG 2018: भारत 26 गोल्ड जीत रहा तीसरे स्थान पर, जानिए किन-किन एथलीटों ने जीता गोल्ड)

सुशील कुमार ने भी रामदेव का शुक्रिया अदा किया और कहा, 'मुझे उम्मीद है कि सभी भारतीयों के शुभकामनाएं और आशीर्वाद मेरे साथ रहते हैं इसीलिए मैं अच्छा प्रदर्शन करता रहता हूं। मैं भारत के लिए खेलते रहना और जीतते रहना चाहता हूं। ये सभी लोगों के और स्वामी जी के आशीर्वाद की वजह से है।' (पढ़ें: CWG 2018: भारत ने 500 मेडल पूरे कर रचा इतिहास, जानिए किस देश ने जीते हैं सबसे ज्यादा मेडल)

2016 रियो ओलंपिक के बारे में सुशील ने कहा, 'मैं पहले ही ये मामला भूल चुका हूं और आगे बढ़ गया हूं। अगर ये मामला नहीं हुआ होता, तो मैं ये मेडल नहीं जीतता।' (पढ़ें: CWG 2018: भारतीय एथलीटों ने बनाए ये 10 कमाल के रिकॉर्ड, कई खेलों में गाड़े झंडे)


अन्य खेल से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे