हॉकी इंडिया प्रमुख ने बेल्जियम की आपत्तियों को ‘नस्लीय भेदभाव’ करार दिया

By भाषा | Published: October 13, 2021 07:16 PM2021-10-13T19:16:48+5:302021-10-13T19:16:48+5:30

Hockey India chief termed Belgium's objections as 'racial discrimination' | हॉकी इंडिया प्रमुख ने बेल्जियम की आपत्तियों को ‘नस्लीय भेदभाव’ करार दिया

हॉकी इंडिया प्रमुख ने बेल्जियम की आपत्तियों को ‘नस्लीय भेदभाव’ करार दिया

Next

नयी दिल्ली, 13 अक्टूबर हॉकी इंडिया ने दावा किया कि भारतीय खिलाड़ियों के एफआईएच सालाना पुरस्कारों में सभी पुरस्कार जीतने पर बेल्जियम की सार्वजनिक नाराजगी किसी ‘नस्लीय भेदभाव’ से कम नहीं है और विश्व संस्था को इस मामले पर जांच शुरू करनी चाहिए।

अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थिएरी वेल को कड़े शब्दों में लिखे गये पत्र में हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोम्बाम ने कहा कि बेल्जियम और उसके खिलाड़ियों का मतदान प्रणाली पर सवाल उठाकर भारतीय पुरस्कार विजेताओं का अपमान करना और उनकी उपलब्धियों को नीचा दिखाना था।

निंगोम्बाम ने पत्र में लिखा, ‘‘भारतीय विजेताओं की घोषणा पर नाराजगी के सार्वजनिक बयान बेहद अपमानजनक है और यह हॉकी खेल और खेल भावना के अंतर्गत नहीं है। ’’

उन्होंने लिखा, ‘‘बेल्जियम महासंघ की ओर से 2021 विजेताओं पर उठायी गयी आपत्तियों की एफआईएच संचालन पैनल द्वारा सावधानीपूवर्क जांच की जरूरत है जिसे मैं भेदभाव/नस्लीय भेदभाव के रूप में देखता हूं।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Hockey India chief termed Belgium's objections as 'racial discrimination'

अन्य खेल से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे