Give me a chance against Mary Kom: Nikhat Zareen | ओलंपिक क्वालिफायर्स के लिए मैरी कॉम को टक्कर देना चाहती है ये बॉक्सर, खेल मंत्री को लेटर लिख की ये मांग
ओलंपिक क्वालिफायर्स के लिए मैरी कॉम को टक्कर देना चाहती है ये बॉक्सर, खेल मंत्री को लेटर लिख की ये मांग

Highlightsनिकहत ने एम सी मैरी कॉम के खिलाफ ट्रायल मुकाबला करवाने की मांग की है।पूर्व जूनियर विश्व चैंपियन निकहत जरीन ने खेल मंत्री किरेन रिजिजू को पत्र लिखा है।

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर। पूर्व जूनियर विश्व चैंपियन निकहत जरीन ने खेल मंत्री किरेन रिजिजू को पत्र लिखकर अगले साल होने वाले ओलंपिक क्वालिफायर्स के लिए भारतीय टीम का चयन करने से पहले एम सी मैरी कॉम के खिलाफ ट्रायल मुकाबला करवाने की मांग की है। मैरी कॉम (51 किग्रा) ने रूस में हाल में समाप्त हुई विश्व चैंपियनशिप में अपना आठवां पदक हासिल किया। उन्हें इस प्रतियोगिता के लिए जरीन पर प्राथमिकता दी गई थी।

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने तब ट्रायल से इन्कार कर दिया था और मैरी कॉम के प्रदर्शन के आधार पर उन्हें टीम में रखने का फैसला किया था। बीएफआई की अब विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के कारण ओलंपिक क्वालिफायर्स के लिए भी मैरी कॉम को भेजने की योजना है। इस तरह से वह अपने पिछले फैसले से पीछे हट रहा है। तब उसने केवल स्वर्ण और रजत पदक विजेता का ही सीधा चयन करने का निर्णय किया था। क्वालिफायर्स अगले साल फरवरी में चीन में होंगे।

जरीन ने अपने पत्र में लिखा है, ‘‘सर, खेल का आधार निष्पक्षता है और किसी को हर समय खुद को साबित करने की जरूरत होती है। यहां तक कि ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता को भी अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिये फिर से मुकाबला करना होता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं किशोरावस्था से ही मेरीकोम से प्रेरित रही हूं। इस प्रेरणा के साथ न्याय करने का सबसे अच्छा तरीका यही हो सकता है कि मैं उनकी तरह एक महान मुक्केबाज बनने का प्रयास करूं। क्या मेरीकोम खेल की इतनी बड़ी हस्ती हैं कि उन्हें प्रतिस्पर्धा से दूर रखने की जरूरत है।’’ दिलचस्प बात यह है कि बीएफआई का पुरुष वर्ग के मानदंडों के अनुसार कांस्य पदक विजेता का भी सीधा चयन होगा।

जरीन ने लिखा है, ‘‘आखिर जब 23 बार के स्वर्ण पदक विजेता माइकल फेल्प्स को भी ओलंपिक के लिये हर बार नये सिरे से क्वालीफाई करना पड़ा, तो हम सभी को भी ऐसा करना चाहिए।’’

मेरीकोम कहती रही है कि चयन ट्रायल पर वह बीएफआई के दिशानिर्देशों का पालन करेंगी और अगर महासंघ कहता है तो ट्रायल में भाग लेंगी। खेल मंत्रालय किसी भी राष्ट्रीय महासंघ के चयन मामलों में तब तक हस्तक्षेप नहीं कर सकता जब तक कि उस खेल की अंतरराष्ट्रीय संस्था ऐसा करने के लिये नहीं कहे क्योंकि इस तरह का कोई भी कदम ओलंपिक चार्टर का उल्लंघन माना जाता है। जरीन ने कहा कि अगर ट्रायल होता है और वह हार जाती है तो उन्हें यह तो अहसास होगा कि उन्हें कम से कम मौका तो मिला।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं मदद नहीं केवल निष्पक्षता चाहती हूं। ट्रायल के बाद मेरीकोम या अन्य कोई भी मुक्केबाज क्वालीफाई करती है, तो कम से कम हम यह सोचकर चैन की नींद तो सो सकते हैं कि प्रत्येक दावेदार को ओलंपिक में भारत को गौरवान्वित करने के लिये हर संभव मौका दिया गया।’’


Web Title: Give me a chance against Mary Kom: Nikhat Zareen
अन्य खेल से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे