Varanasi flyover incident 20 dead: setu nigam and working unit fir registered in February | वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: कंस्ट्रक्शन कंपनी पर फरवरी में दर्ज हुई थी FIR, सोता रहा प्रशासन

लखनऊ, 16 मईः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर के दो बीम गिरने से मरने वालों की संख्या 20 हो चुकी है। तीन घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उत्तर प्रदेश की आदित्यनाथ सरकार ने घटना की जाँच के लिए जाँच समिति की गठन किया। जाँच समिति के प्रमुख राज प्रताप सिंह ने बुधवार (16 मई) को घटनास्थल का मुआयना किया। वहीं फ्लाईओवर सेतु निगम के 4 अफसरों को सस्पेंड कर दिया गया है। सीएम योगी ने हादसे की जांच के लिए एक कमेटी बना दी है। जो 48 घंटे में अपना रिपोर्ट सौंपेगी। 

ऐसे में अभी-अभी आई खबरों के मुताबिक सेतु निगम तथा निर्माणदायी संस्था के खिलाफ 19 फरवरी में ही एफआईआर दर्ज हुई थी। एफआईआर में कंट्रक्शन कंपनी पर फ्लाईओवर बनाने में लापरवाही का आरोप लगाया गया था। लेकिन स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रशासन ने इसपर कोई कार्रवाई नहीं की। इस एफआईआर के बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी इसका निरीक्षण करने पहुंचे थे। डिप्टी सीएम ने यहां पर काम की धीमी गति को देखते हुए इसे जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश भी दिया था।

वाराणसी फ्लाईओवर हादसे ने इन परिवारों को दिया जीवन भर का गम, परिजनों के आंखों में सूख गए आंसू

इधर फ्लाईओवर हादसे के बाद सेतु निगम तथा इस फ्लाईओवर का निर्माण कर रही संस्था के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या और हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है। वाराणसी में फ्लाईओवर निर्माण कर रही संस्था तथा उत्तर प्रदेश सेतु निगम के खिलाफ आज 304, 308, 427 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

मंगलवार (15 मई) शाम करीब छह बजे वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के सामने बन रहे फ्लाईओवर के दो बीम गिर गये। राज्य सरकार के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि उत्तर प्रदेश पुल निर्माण निगम इस 2261 मीटर लंबे फ्लाईओवर का निर्माण 129 करोड़ की लागत से कर रहा था। फ्लाईओवर का जो हिस्सा गिरा है, उसे तीन महीने पहले ही बनाया गया था। 

वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: मरने वालों की संख्या हुई 20, जांच समिति के प्रमुख ने किया घटनास्थल का दौरा

उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने  ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। प्रधानमंत्री एवं स्थानीय सांसद नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात करके स्थिति का जायजा लिया। योगी आदित्यनाथ सरकार मृतकों के परिजन को पांच-पांच लाख रुपये तथा घायलों को दो-दो लाख रुपये की सहायता का एलान भी किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय आपदा राहत बल, पुलिस और अन्य संगठनों को राहत कार्य के लिये वाराणसी रवाना कर दिया गया है।

लोकमत न्यूज के लेटेस्ट यूट्यूब वीडियो और स्पेशल पैकेज के लिए यहाँ क्लिक कर के सब्सक्राइब करें