दलित महिला ने बनाया मिड डे मील तो स्कूल के बच्चों ने किया खाने से इंकार, भोजनमाता को जानबूझकर भर्ती का पेरेंट्स ने लगाया आरोप

By आजाद खान | Published: December 22, 2021 04:23 PM2021-12-22T16:23:49+5:302021-12-22T16:26:31+5:30

प्रिंसिपल सिंह ने बताया कि वे इस मामले की जामकारी आला अधिकारियों को दे दी है। वे इसकी जांच कर रहे हैं।

uttarakhand news upper caste students reject mid day meal made by dalit women in a govt school | दलित महिला ने बनाया मिड डे मील तो स्कूल के बच्चों ने किया खाने से इंकार, भोजनमाता को जानबूझकर भर्ती का पेरेंट्स ने लगाया आरोप

दलित महिला ने बनाया मिड डे मील तो स्कूल के बच्चों ने किया खाने से इंकार, भोजनमाता को जानबूझकर भर्ती का पेरेंट्स ने लगाया आरोप

Next
Highlightsउत्तराखंड में ऊंची जाति के छात्रों ने दलित महिला के पकाए गए भोजन को खाने से इनकार कर दिया है।इस पर प्रिंसिपल सिंह ने कहा कि उन्हें सभी सरकारी मानदंडों के हिसाब से उसे नियुक्त किया है।वहीं सुखीढांग हाई स्कूल के कुल 57 छात्रों में से अनुसूचित जाति के 16 बच्चों ने ही भोजन किया है।

भारत: उत्तराखंड के चंपावत जिले में एक दलित महिला द्वारा गवर्नमेंट सेकेंडरी स्कूल में खाना बनाने से एक नया बवाल खड़ा हो गया है। इस पर ऊंची जाति के लोगों का कहना है कि स्कूल की प्रिंसिपल और मैनेजमेंट कमेटी ने जानबूझ कर एक दिलत महिला को स्कूल में खाना बनाने के लिए चुना है। उनका यह भी आरोप है कि उन लोगों ने सोची समझी साजिश से योग्य महिला को नहीं चुना और उसके जगह पर इस दलित महिला को सेलेक्ट किया। इस पर स्कूल की प्रिंसिपल ने कहा कि स्कूल में कुल 57 छात्र हैं जिसमें ऊंची जाति के छात्रों की संख्या ज्यादा है। उनका यह भी कहना है कि दलित महिला द्वारा दुसरे दिन बनाए गए भोजन को अनुसूचित जाति के केवल 16 ही बच्चों ने भोजन किया था। प्रिंसिपल ने मामले की जानकारी उच्च अधिकारियों को दे दी है।

क्या है पूरा मामला

मामले में जानकारी देते हुए सुखीढांग हाई स्कूल के प्रिंसिपल ने बताया कि सभी नियमों को देखते हुए मिड डे मील बनाने के लिए एक दलित महिला का चयन किया गया था। लेकिन इस चयन से ऊंची जाति के लोग खुश नहीं थे। ऊंची जाति के लोग अपने किसी एक जान पहचान वाली औरत को यह पद देना चाहते थे, लेकिन उस औरत को इस पद के लायक नहीं पाने पर प्रिंसिपल और स्कूल मैनेजमेंट कमेटी ने इस दलित महिला को चुना था। इस बात से नाराज ऊंची जाति के लोगों ने इसका विरोध किया और स्कूल में पढ़ रहे अपने बच्चों को दलित महिला द्वारा बनाए गए मिड डे मील को खाने से मना कर दिया।

योग्य कैंडिडेट को जानबूझकर नहीं चुना गया- ऊंची जाति

इस पर ऊंची जाति ने प्रिंसिपल और स्कूल मैनेजमेंट कमेटी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन लोगों ने जानबूझकर योग्य कैंडिडेट को नहीं चुना है। इस पर स्कूल के अभिभावक शिक्षक संघ के अध्यक्ष नरेंद्र जोशी ने कहा, "25 नवंबर को हुई ओपन मीटिंग में हमने पुष्पा भट्ट को चुना था, जिनका बच्चा स्कूल में पढ़ता है। वह भी जरूरतमंद थीं, लेकिन प्रिंसिपल और स्कूल मैनेजमेंट कमेटी ने उसे दरकिनार कर दिया और एक दलित महिला को भोजनमाता नियुक्त किया।"

Web Title: uttarakhand news upper caste students reject mid day meal made by dalit women in a govt school

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे