UP Metro Corporation registers FIR on Kite flyers | लॉकडाउन के दौरान पतंगबाजी से परेशान लखनऊ मेट्रो कॉर्पोरेशन ने दर्ज कराई प्राथमिकी, रोज हो जाती थी बिजली गुल
मांझे के बिजली के तारों से टकराने से मेट्रो की बिजली आपूर्ति बाधित होती है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Highlightsपीएमआरसी ने प्राथमिकी दर्ज कराई जिसके बाद पतंगबाजी कम हुई है।पतंगबाजी के कारण बिजली आपूर्ति लगातार बाधित होने लगी थी।

लखनऊ।उत्तर प्रदेशमेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (यूपीएमआरसी) के लगातार आगाह करने के बावजूद भी लॉकडाउन में मेट्रो कॉरिडोर के नज़दीक पतंगबाजी कम नहीं होने से यूपीएमआरसी ने प्राथमिकी दर्ज कराई जिसके बाद पतंगबाजी कम हुई है।

लखनऊ मेट्रो के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्व में पुलिस विभाग को यूपीएमआरसी ने अवगत कराया था कि निशातगंज, बादशाह नगर, आईटी चौराहा, परिवर्तन चौक और आलमबाग़ के इलाकों में पतंगबाज़ी बहुत होती है और लखनऊ मेट्रो का उत्तर-दक्षिण कॉरिडोर इन इलाकों से ही होकर गुज़रता है इसके बाद मेट्रो सुरक्षा कर्मचारियों एवं पुलिस की सक्रियता के फलस्वरूप उक्त इलाकों में मेट्रो कॉरिडोर के नज़दीक पतंगबाज़ी की घटनाएं कम हो गईं।

इस सम्बन्ध में मेट्रो के अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है कि समस्त मेट्रो स्टेशनों में नियुक्त सुरक्षा गार्डों को सूचित करें कि मेट्रो ट्रैक/लाइन के निकट पतंग उड़ाने वालों पर नज़र रखें तथा आवश्यकता पड़ने पर 112 नंबर डायल करके सूचित कर उन पर कार्रवाई कराएं तथा उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कारपोरेशन के सुरक्षा अधिकारियों को भी सूचित करें ताकि उसपर तत्काल कार्रवाई सुनिश्चित कराई जा सके।

इससे पहले एक अधिकारी ने बताया था कि पूरी दुनिया कोरोना वायरस से परेशान है लेकिन लखनऊ मेट्रो के अधिकारी महामारी के साथ ही इस लॉकडाउन के दौरान शहरवासियों की पतंगबाजी से भी परेशान हैं। पतंग उड़ाने के लिए इस्तेमाल किये जा रहे मांझे के बिजली के तारों से टकराने से मेट्रो की विद्युत आपूर्ति बाधित हो रही है।

उत्तर प्रदेश मेट्रो के अधिकारियों के मुताबिक आम दिनों में भी पतंग उड़ाने के कारण कभी-कभार ऐसे एक-दो मामले सामने आते थे लेकिन बंद की वजह से लोग जमकर पतंगबाजी का लुत्फ ले रहे हैं और इस वजह से बिजली आपूर्ति बाधित होने के मामलों में भी काफी बढ़ोतरी हुई है।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि “लोग कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर लगाए गए देशव्यापी बंद के दौरान धातु के धागों/तारों और चाइनीज मांझे से मेट्रो कॉरिडोर के आस-पास पतंग उड़ाने से बचें, क्योंकि 25000 वॉट के वोल्टेज वाली ‘ओवर हेड इक्विपमेंट’ (ओएचई) से दुर्घटना भी हो सकती है और लोग इसका शिकार होकर घायल भी हो सकते हैं।”

Web Title: UP Metro Corporation registers FIR on Kite flyers
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे