उप्र के कानून मंत्री ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाकर शोक प्रकट किया

By भाषा | Published: October 13, 2021 07:11 PM2021-10-13T19:11:26+5:302021-10-13T19:11:26+5:30

UP Law Minister condoles the house of BJP worker killed in Lakhimpur Kheri violence | उप्र के कानून मंत्री ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाकर शोक प्रकट किया

उप्र के कानून मंत्री ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाकर शोक प्रकट किया

Next

(शीर्षक में सुधार के साथ)

लखीमपुर खीरी (उत्तर प्रदेश), 13 अक्टूबर उत्तर प्रदेश के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने लखीमपुर खीरी जिले में हाल में हुई हिंसा के दौरान मारे गए एक भाजपा कार्यकर्ता तथा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के वाहन चालक के परिजन से बुधवार को मुलाकात कर शोक व्यक्त किया।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि कानून मंत्री बिना किसी आधिकारिक प्रोटोकॉल के लखीमपुर पहुंचे और शहर के शिवपुरी इलाके में भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा और फरधन (खीरी) इलाके के परसेहरा खुर्द गांव में गृह राज्य मंत्री के वाहन चालक हरिओम मिश्रा के परिवार से मिलने गए।

पिछली तीन अक्टूबर को जिले के तिकोनिया क्षेत्र में हुई हिंसा में मारे गए लोगों में शुभम मिश्रा और वाहन चालक हरिओम भी शामिल थे। इसके अलावा इस घटना में चार किसानों और एक स्थानीय पत्रकार की भी मौत हो गई थी।

सूत्रों ने बताया कि पाठक इस घटना में मारे गए एक अन्य भाजपा कार्यकर्ता श्याम सुंदर के घर किसी अन्य कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण नहीं गये। वह बाद में वहां जाएंगे।

शुभम मिश्रा के घर पर हो रहे धार्मिक अनुष्ठान में जिला भाजपा अध्यक्ष सुनील सिंह, जिला उपाध्यक्ष विजय शुक्ला रिंकू व अनुराग मिश्रा, अवध प्रांत प्रमुख कमलेश मिश्रा, बृजेश पाठक के साथ शामिल हुए।

जिला उपाध्यक्ष विजय शुक्ला और अनुराग मिश्रा ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया कि कानून मंत्री बृजेश पाठक ने पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की और हर तरह की सहायता का आश्वासन दिया।

पाठक का यह दौरा ऐसे वक्त हुआ है जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में पार्टी नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से दिल्ली में मुलाकात की और लखीमपुर खीरी कांड मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी की मांग की।

कानून मंत्री ने अपने लखीमपुर दौरे के दौरान मीडिया से बातचीत से परहेज किया लेकिन बाद में 'पीटीआई-भाषा' से बातचीत में उन्होंने कहा कि वारदात में मारे गए सभी लोग हमारे परिवार के हैं। यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है और मामले की निष्पक्ष जांच कराने के बाद दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पाठक ने कहा कि उन्होंने हिंसा में मारे गए दो लोगों के परिजन से मुलाकात की और उन्हें हर संभव मदद का आश्वासन दिया। वह बाद में बाकी पीड़ित परिवारों से भी मुलाकात करेंगे। परिवारों ने अपनी कोई मांग सामने नहीं रखी है। लेकिन सरकार पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाद्रा, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा तथा आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह और राघव चड्ढा तथा अन्य ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए चार किसानों तथा स्थानीय पत्रकार रमन कश्यप के परिजन से मुलाकात की लेकिन बाकी तीन मृतकों के परिजन से भेंट नहीं की।

हालांकि, भाजपा के कुछ स्थानीय नेताओं ने मृतक पार्टी कार्यकर्ताओं के परिजनों से मुलाकात की थी। लेकिन बृजेश पाठक ऐसे पहले प्रमुख नेता हैं जिन्होंने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की।

लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए दो भाजपा कार्यकर्ताओं और वाहन चालक के परिवारों को 45-45 लाख रुपये की सहायता दी गई है। इतनी ही धनराशि इस घटना में मारे गए चार किसानों और एक पत्रकार के परिजन को भी दी गई है।

लखीमपुर सदर से भाजपा के विधायक योगेश वर्मा ने वारदात में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा और वाहन चालक हरिओम मिश्रा के परिजन को पिछले बृहस्पतिवार को सहायता राशि के चेक वितरित किए थे।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: UP Law Minister condoles the house of BJP worker killed in Lakhimpur Kheri violence

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे