UP CM Yogi Adityanath Support JEE (Main) and NEET examination 2020 will start September | विरोध के बीच NEET-JEE एग्जाम के समर्थन में आए सीएम योगी, कहा- UP में भी हुईं दो परीक्षाएं, नहीं बढ़ा कोरोना
Yogi Adityanath (File Photo)

Highlightsगैर भाजपा शासित राज्यों के छह मंत्रियों ने शुक्रवार (28 अगस्त)  को सुप्रीम कोर्ट JEE-NEET परीक्षा रोकने को लेकर रुख किया है।कांग्रेस सहित देश के तमाम पार्टियों की मांग है कि कोरोना के कहर के बीच छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित कराना सही नहीं है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जेईई (JEE Main) और नीट (NEET) परीक्षाओं का समर्थन किया है। जहां एक और विपक्ष सहित लाखों छात्र सितंबर में होने वाली इस परीक्षा का विरोध कर रहे हैं, उसी बीच यूपी सीएम योगी ने परीक्षा को अपना समर्थन दिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है, उत्तर प्रदेश सरकार जेईई (JEE Main) और नीट (NEET) परीक्षाओं के आयोजन का समर्थन करती है। 9 अगस्त, 2020 को राज्य में बी.एड. की प्रवेश परीक्षा हुई थी, जिसमें लगभग 5 लाख अभ्यर्थी थे। इस परीक्षा में कहीं से संक्रमण की कोई समस्या संज्ञान में नहीं आई। इसी तरह लोक सेवा आयोग, उ.प्र. की परीक्षा भी कराई गई है। 

NEET और JEE परीक्षाओं को टालने के लिए गैर-BJP राज्य के 6 मंत्री पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

गैर भाजपा शासित राज्यों के छह मंत्रियों ने शुक्रवार (28 अगस्त)  को सुप्रीम कोर्ट का रुख कर कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच इस साल नीट (NEET) और जेईई (JEE MAIN)  प्रवेश परीक्षाएं कराने की केंद्र को अनुमति देने वाले आदेश पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया। पुनर्विचार याचिका पश्चिम बंगाल (मलय घटक), झारखंड (रामेश्वर ओरांव), राजस्थान (रघु शर्मा), छत्तीसगढ़ (अमरजीत भगत), पंजाब (बी एस सिंधु) और महाराष्ट्र (उदय रविंद्र सावंत) के मंत्रियों की ओर से दायर की गई है। यह याचिका अधिवक्ता सुनील फर्नांडिस के माध्यम से दायर की गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने 17 अगस्त को, इस साल सितंबर में निर्धारित मेडिकल एवं इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं - नीट और जेईई के आयोजन के मामले में हस्तक्षेप करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि जीवन चलते रहना चाहिए और विद्यार्थी वैश्विक महामारी के चलते अपना बहुमूल्य साल बर्बाद नहीं कर सकते। शीर्ष अदालत ने सायंतन बिश्वास की याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें नीट और जेईई दोनों परीक्षाओं का आयोजन करने वाली राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) को ये परीक्षाएं टालने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था। कोर्ट ने कहा था कि याचिका सुनवाई करने लायक नहीं है। 

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा- 17 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने डाउनलोड किए ए़डमिट कार्ड

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज (27 अगस्त) को कहा कि 17 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने जेईई और नीट परीक्षा के लिये अपना प्रवेश पत्र (एडमिट कार्ड) डाउनलोड कर लिया है और इससे स्पष्ट होता है कि छात्र हर हाल में परीक्षा चाहते हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब कोविड-19 के मामले बढ़ने के मद्देनजर नीट और जेईई मेन्स परीक्षा को स्थगित करने की कुछ वर्गो द्वारा मांग की जा रही है। 

निशंक ने कहा, राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) के अधिकारियों ने मुझे बताया कि 7 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने जेईई मेन्स परीक्षा के लिये प्रवेश पत्र डाउनलोड कर लिया है जबकि 10 लाख से अधिक अभ्यार्थियों ने नीट परीक्षा का प्रवेश पत्र डाउनलोड कर लिया है । इससे स्पष्ट होता है कि छात्र चाहते हैं कि परीक्षा हर हाल में आयोजित हो। 

उन्होंने कहा, हमें छात्रों और अभिभावकों से परीक्षा आयोजित किये जाने के पक्ष में ई मेल प्राप्त हुए हैं क्योंकि वे इस परीक्षा की तैयारी दो-तीन वर्षो से कर रहे थे। नीट के लिए 15.97 लाख विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया है। जेईई मेन्य के लिये करीब 8.58 लाख छात्रों ने पंजीकरण कराया था। 

Web Title: UP CM Yogi Adityanath Support JEE (Main) and NEET examination 2020 will start September
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे