बिहार विधानसभा की दो सीटों के लिए हो रहे उप चुनाव में सियासी पार्टियों के बीच छिड़ गई है जुबानी जंग,

By एस पी सिन्हा | Published: October 20, 2021 07:09 PM2021-10-20T19:09:27+5:302021-10-20T20:58:20+5:30

मछली पकड़ने को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के बीच जुबान जंग छिड गई है. उप चुनाव में मत्स्यजीवी मतदाताओं को लुभाने के लिए राजद और जदयू में जंग छिड़ी हुई है.

There has been a war of words between the political parties in the by-elections for the two seats of the Bihar Legislative Assembly. | बिहार विधानसभा की दो सीटों के लिए हो रहे उप चुनाव में सियासी पार्टियों के बीच छिड़ गई है जुबानी जंग,

फोटो सोर्स - सोशल मीडिया

Next
Highlightsतेजस्वी ने ललन के ऊपर मत्स्यजीवी समाज को अपमानित करने का आरोप लगाया है.ललन सिंह ने तेजस्वी यादव के मछली पकड़ने को लेकर साधा निशानातेजस्वी यादव का मछली पकड़ता वीडियो वायरल हुआ था

पटना : बिहार विधानसभा की दो खाली सीटों पर होने वाले उप चुनाव को लेकर सियासत में उबाल आ चूका है. सियासी पार्टियों के बीच सियासी जुमलेबाजी भी तेज हो गई है. इस बीच नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के बीच जुबान जंग छिड गई है. उप चुनाव में मत्स्यजीवी मतदाताओं को लुभाने के लिए राजद और जदयू में जंग छिड़ी हुई है.

दरअसल, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने चुनावी सभा के दौरान तारापुर में मछली पकड़ते भी नजर आए. तेजस्वी यादव का बच्चों के साथ बंसी लेकर मछली पकड़ने वाला फोटो वायरल हुआ था. जिसको लेकर ललन सिंह ने तेजस्वी यादव पर करारा तंज कसा था. इसके बाद तेजस्वी यादव ने जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह को निशाने पर ले लिया है. तेजस्वी ने ललन के ऊपर मत्स्यजीवी समाज को अपमानित करने का आरोप लगाया है.

आज उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मत्स्यजीवी समाज को कम आत्मविश्वास वाला और मछली पकडने को हेय काम बताने वाले नीतीश जी के 'राष्ट्रीय अध्यक्ष’ को पूरे मल्लाह समाज से माफी मांगनी चाहिए. इतना ही नहीं, तेजस्वी ने एनडीए नेताओं पर हमला बोलते हुए कहा कि ये जदयू और भाजपा वाले अपनी सामंती सोच को बस किसी तरह दबा, छुपा कर बैठे है. रह-रहकर वंचितों के प्रति जहर इनके मुंह से निकलता ही रहता है.तेजस्वी यादव, ललन सिंह के उस बयान को लेकर उन्हें घेरने की कोशिश कर रहे हैं जो उन्होंने मंगलवार को दिया था. अब तेजस्वी ने इसको मत्स्यजीवी समाज के अस्मिता से जड दिया, तो जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिहं ने भी नेता प्रतिपक्ष पर पलटवार किया.

तेजस्वी यादव के ट्वीट पर जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी भडक गये. उन्होंने तेजस्वी के ट्वीट पर पलटवार ट्वीट करते हुए कहा कि, 'पढाई में कक्षा छोडकर 9वीं फेल रहे, वैसे ही जनता से मुंह चुराकर मछली पकडने का नाटक राजनीतिक अविश्वास सिद्ध होगा. 2020 में सरेआम मत्स्यजीवी समाज के नेता व वर्तमान केबिनेट मंत्री मुकेश सहनी जी की बेइज्जती सबको याद है, ढोंग मत करिए प्रवासी बाबू, लोग जागरूक हैं!'इसबीच जदयू के प्रवक्ता अरविंद निषाद ने राजद और पार्टी के प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर तिखा हमला बोलते हुए कहा कि राजद और लालू ने मत्स्यजीवी समाज के साथ गलत व्यवहार किया है.

उन्होंने कहा कि लालू ने राजद के कद्दावर नेता विद्यासागर निषाद को मत्स्य एवं पशुधन विभाग के मंत्री बनाया और मंत्री बनाकर जेल भेजवाने का काम किया. जिस तूफानी राम जी को हेलीकॉप्टर में घुमाकर आत्महत्या के लिए मजबूर कर दिया गया. ऐसे में राजद और लालू प्रसाद यादव द्वारा मत्स्यजीवी समाज पर किया गया सलूक इतिहास में याद रखा जाएगा. मत्स्यजीवी समाज के लोग हमेशा इनके धुर्तई का शिकार हुआ है. इसके बाद राजद प्रवक्‍ता सारिका पासवान ने तीखा पलटवार करते हुए कहा कि लगता है ललन सिंह का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है. उन्‍हें 90 के दशक की बात याद रहती है, लेकिन 2021 की नहीं.

उनके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तो अभी हाल में दिल्‍ली एम्‍स में आंखों का आपरेशन करा कर लौटे हैं. लेकिन उन्‍हें यह याद नहीं. वे गजनी की तरह हो गए हैं. उनसे पूछना चाहिए कि वे किसी डिसार्डर से ग्रसित तो नहीं हैं. एक बार उन्‍हें अपना इलाज भी कराना चाहिए. उन्‍होंने यह भी कहा कि जदयू और उसकी सहयोगी पार्टी के लोगों की बुद्धि भ्रष्‍ट हो गई है. इस दौरान सारिका पासवान ने जदयू संसदीय दल के नेता उपेंद्र कुशवाहा को भी नहीं बख्‍शा. कहा कि उन्‍होंने अपने कार्यकर्ताओं को अनाथ कर दिया और नीतीश कुमार जी के पैरों में जाकर बैठ गए.

यहां बता दें कि पिछले दिनों तेजस्वी यादव का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें वह मछली मारते हुए दिखाई दे रहे थे. इसी वीडियो को लेकर बीते दिन जब पत्रकारों ने ललन सिंह ने यह पूछा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव मछली मार रहे हैं. क्या उनका कॉन्फिडेंस लेवल हाई है. इसपर ललन ने जवाब दिया कि "जिसका कॉन्फिडेंस लेवल हाई रहता है, वह मछली मारता है? हम जब मछली मार रहे हैं तो उसी से समझ लीजिये कि केतना कॉन्फिडेंस लेवल हाई है."

Web Title: There has been a war of words between the political parties in the by-elections for the two seats of the Bihar Legislative Assembly.

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे