Highlightsशिबदास मुखर्जी को भी 4 नवंबर को COVID-19 उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था।कोविड अस्पताल की लापरवाही की वजह से पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले में यह घटना घटी है।

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। मिल रही जानकारी के मुताबिक, एक कोरोना मरीज की मौत के बाद उसके परिवार वालों ने मृत शख्स का अंतिम संस्कार कर दिया। लेकिन, हैरान करने वाली बात तो तब हुई जब अंतिम संस्कार किए जाने के करीब एक सप्ताह बाद ही एक बार फिर से घर की चौखट पर उसी शख्स को परिवार के लोगों ने देखा।

जैसे ही कथित तौर पर मृत कोरोना मरीज शख्स के परिवार के लोगों को अस्पताल द्वारा फोन कर बताया गया कि उनके परिवार के मरीज जिंदा हैं तो सभी लोग आश्चर्यचकित रह गए। 

पुणेकरांनो काळजी घ्या! कोरोना बाधितांची संख्या वाढू लागली - Marathi News | number of corona patient increasing in pune | Latest pune News at Lokmat.com

टाइम्स नाऊ रिपोर्ट की मानें तो कोविड अस्पताल की लापरवाही की वजह से पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले में गलती से एक बुजुर्ग कोरोना संक्रमित मरीज को मृत घोषित कर दिया गया और अंतिम संस्कार के लिए उस कथित तौर पर मृत मरीज के रिश्तेदारों को एक अन्य मरीज के शव को सौंप दिया गया।

CoronaVirus News: मुंबईतील कोरोनाचे १३ हजार सक्रिय रुग्ण लक्षणविरहित - Marathi News | CoronaVirus 13,000 active corona patients in Mumbai are asymptomatic | Latest mumbai News at Lokmat.com

बता दें कि 24 परगना क्षेत्र के ही रहने वाले 75 वर्ष के शिबदास बनर्जी को कोरोनो वायरस पॉजिटिव पाए जाने के बाद 4 नवंबर को बलरामपुर बसु अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

13 नवंबर को, अस्पताल ने उनके रिश्तेदारों को सूचित किया कि उन्होंने संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया और परिजनों को एक शव सौंप दिया। इसके बाद परिवार वालों ने शव का तब अंतिम संस्कार भी कर दिया।

Jalgaon: 32 year old man escapes COVID-19 facility, found dead on road | english.lokmat.com

एक हफ्ते बाद, जब बनर्जी के श्राद्ध समारोह की तैयारियां उनके घर पर चल रही थीं, अस्पताल ने उनके परिवार को फोन किया और सूचित किया कि वह जीवित हैं और COVID-19 से वह ठीक हो गए हैं और जो शरीर उन्हें दिया गया था, वह किसी अन्य रोगी का था। इसके बाद परिवार के लोग अस्पताल गए और बनर्जी को वापस घर ले आए। 

इस मामले में अधिकारियों ने लापरवाही को स्वीकार करते हुए कहा कि शिबदास बनर्जी के परिवार की पहचान सही से नहीं कर पाने की वजह से मिलते-जुलते नाम होने के कारण मोहिनीमोहन मुखर्जी (75) नामक एक अन्य रोगी के शरीर को सौंप दिया गया था।

Watch Video! Sion hospital hands over wrong body to family, BMC suspends two staffers | english.lokmat.com

मुखर्जी को भी 4 नवंबर को COVID-19 उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन बाद में बारासात के एक कोरोना सेंटर में स्थानांतरित कर दिया गया था। 

Web Title: The family performed the last rites after the death of a corona patient, the person returned home after a week, know the whole matter

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे