सिद्धारमैया ने कहा, "विशुद्ध हिंदू हूं, लेकिन इच्छा होने पर बीफ भी खा सकता हूं"

By आशीष कुमार पाण्डेय | Published: May 24, 2022 08:48 PM2022-05-24T20:48:37+5:302022-05-24T20:52:01+5:30

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्दारमैया ने कहा कि मैं पूर्णरूप से विशुद्ध हिंदू हूं, आज तक मैंने बीफ नहीं खाया है लेकिन अगर मैं चाहूं और ऐसी मेरी इच्छा हो तो मैं बीफ भी खा सकता हूं।

Siddaramaiah said, "I am a pure Hindu, but I can also eat beef if I want" | सिद्धारमैया ने कहा, "विशुद्ध हिंदू हूं, लेकिन इच्छा होने पर बीफ भी खा सकता हूं"

फाइल फोटो

Next
Highlightsकर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्दारमैया ने कहा कि इच्छा होने पर मैं बीफ भी खा सकता हूं आज तक मैंने बीफ नहीं खाया है लेकिन इसे खाने के लिए मैं संवैधानिक तौर पर स्वतंत्रत हूं बीफ केवल मुसलमान खाते हैं, हिंदू भी बीफ खाते हैं और क्रिश्चियन भी खाते हैं

बेंगलुरु: कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष सिद्धारमैया ने ऐसा बयान दिया, जिससे कांग्रेस फिर मुश्किलों में फंस सकती है। राज्य में चल रहे बुरका विवाद, हिंदू मेलों में मुस्लिम दुकानदारों के बहिष्कार और हलाल मीट सहित अन्य सांप्रदायिक विवादों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्दारमैया ने बीफ को लेकर ऐसा बयान दिया है, जिससे राज्य की सियायत में उथल-पुथल मचनी तय है।

पूर्व सीएम सिद्दारमैया ने कहा, "मैं पूर्णरूप से विशुद्ध हिंदू हूं, आज तक मैंने बीफ नहीं खाया है लेकिन अगर मैं चाहूं और ऐसी मेरी इच्छा हो तो मैं एकदम बीफ खा सकता हूं और इसके लिए मैं संवैधानिक तौर पर पूरी तरह से स्वतंत्रत हूं। बीफ खाना या न खान केवल मेरी मर्जी पर तय है। किसी बाहरी दबाव पर नहीं।"

इसके साथ ही कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने राज्य के मौजूदा हालात के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि आरएसएस का मकसद केवल इंसानों के बीच मतभेद पैदा करना है।

कांग्रेसी नेता सिद्धारमैया ने यह बात तुमकुरु में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही। भाषण में उन्होंने संघ पर आरोप लगाया कि वो और अन्य संगठन कर्नाटक में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि संघ के लोग विभिन्न समुदायों के बीच टकराव पैदा कर रहे हैं ताकि धार्मिक गोलबंदी को बढ़ावा मिले। उन्होंने कहा कि बीफ खाने वाले सिर्फ एक ही समुदाय के लोग नहीं होते, जिसे इच्छा हो अपनी पसंद के अनुसार इसे अपने खाने में शामिल कर सकता है और इस पर किसी को आपत्ति करने का कोई हक नहीं है।

कार्यक्रम में बोलते हुए सिद्धारमैया ने कहा, "मैं मन, वचन और कर्म से विशुद्ध हिंदू हूं और मैंने जीवन में अभी तक बीफ नहीं खाया है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि मैं उसे नहीं का सकता हूं। अगर मैं चाहूं और मेरी इच्छा हो तो मैं एकदम बीफ खा सकता हू और कोई नहीं होता जो मुझसे मेरे खाने के बारे में सवाल पूछ सके।"

उन्होंने आगे कहा, "खानपान, पहनावा, और बोली अलग-अलग होते हैं और इसे हमें स्वीकार करना चाहिए। आखिर क्यों कोई किसी के खानपान पर सवाल उठायेगा, जबकि संविधान सभी को समान रूप से अपनी पसंद का जीवन जीने का अधिकार देता है।"

कर्नाटक के पूर्व सीएम ने कहा, "ये बात पूरी तरह से गलत है कि बीफ केवल मुसलमान खाते हैं, हिंदू भी बीफ खाते हैं और क्रिश्चियन भी खाते हैं। यहां तक कि मैंने एक बार कर्नाटक असेंबली में भी कहा था कि आप कौन होते हो, मुझे ये बताने वाले कि मैं बीफ खाऊं या न खाऊं। यह खाने की आदत से जुड़ा मामला है और इसमें सभी को समान अधिकार हासिल है।

मालूम हो कि कर्नाटक की मौजूदा बीजेपी सरकार ने जनवरी 2021 में कर्नाटक वध रोकथाम और मवेशी संरक्षण अधिनियम, 2020 लागू किया था। जिसके मुताबिक राज्य में गाय, बैल, भैंस और बैल सहित अन्य मवेशियों को खरीदना, बेचना, परिवहन करना, वध करना और व्यापार करना अवैध है।

लेकिन साथ ही इस कानून में 13 साल से अधिक उम्र की भैंस और गंभीर रूप से बीमार मवेशियों को इस कानून से बाहर रखा गया है लेकिन उन्हें वध करने से पहले किसी पशु चिकित्सक द्वारा प्रमाणित कराया जाना जरूरी है। अगर पशु चिकित्सक के प्रमाणपत्र के बिना किसी सशु का वध किया गया तो उसके लिए 7 साल तक की सजा का प्रावधान ह और साथ में 50 हजार रुपये से 5 लाख रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है। 

Web Title: Siddaramaiah said, "I am a pure Hindu, but I can also eat beef if I want"

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे