Reward of one lakh accused of murder of soldier killed in police encounter | यूपी: कासगंज सिपाही हत्याकांड का मुख्य आरोपी मोती पुलिस मुठभेड़ में ढेर, सिर पर एक लाख का था इनाम
कासगंज सिपाही हत्याकांड का मुख्य आरोपी मोती एनकाउंटर में ढेर (फाइल फोटो)

Highlightsकासगंज के सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के गांव नगला धीमर में सिपाही देवेंद्र सिंह की हत्या का आरोपी था मोतीशराब माफिया मोती और उसके साथियों को पकड़ने गई थी पुलिस, इसी दौरान फायरिंग में सिपाही की हुई थी मौतमोती सिंह के पास से लूटी गई सरकारी पिस्टल, खोखा, ज़िंदा कारतूस और तमंचा बरामद किया गया है

कासगंज (उत्तर प्रदेश): सिपाही की हत्या के आरोपी एक लाख रुपये के इनामी अपराधी मोती को पुलिस ने कासगंज में एक मुठभेड़ में रविवार तड़के मार गिराया। पुलिस ने यह जानकारी दी।

पुलिस के अनुसार कासगंज के सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के गांव नगला धीमर में नौ फरवरी को शराब माफिया मोती और उसके सहयोगियों द्वारा पुलिस पर हमला किया गया था, जिसमें सिपाही देवेंद्र सिंह की मौत हो गई थी जबकि एक दारोगा अशोक कुमार गम्भीर रूप से घायल हो गए।

मोती की गिरफ्तारी के लिए छह टीमें हुई थी गठित

कासगंज के पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सोनकर ने आज सुबह पत्रकारों को बताया कि एक लाख रुपये के इनामी मोती की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की छह टीमें गठित की गई थी।

सोनकर के मुताबिक बीती रात मुखबिर से सूचना मिली कि मोती अपने साथियों के साथ करतला रोड, काली नदी के पास जंगल में छिपा है। पुलिस टीम ने भोर में ढाई से तीन बजे के बीच घेराबंदी की तो बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी।

एसपी ने बताया कि पुलिस टीम ने जवाबी फायरिंग की जिसमें नगला धीमर, थाना सिढ़पुरा निवासी मोती को गोली लगी और वह घायल हो गया। एक बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया।

मोती की इलाज के दौरान मौत

उन्होंने बताया कि घायल मोती को पुलिस वाहन में इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सिढ़पुरा ले जाया गया, जहां से जिला अस्पताल कासगंज रेफर किया गया और वहां चिकित्सकों ने इलाज के दौरान उसे मृत घोषित कर दिया।

सोनकर ने बताया कि बदमाश के पास से दारोगा से लूटी गई सरकारी पिस्टल, खोखा, ज़िंदा कारतूस और 315 बोर का एक तमंचा बरामद किया गया है। बदमाश के शव का पंचायतनामा भरवा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

पुलिस के अनुसार बीती नौ फ़रवरी को ज़िले के थाना सिढ़पुरा पर तैनात उप निरीक्षक (दारोगा) अशोक कुमार व आरक्षी (सिपाही) देवेन्द्र सिंह वांछित अभियुक्त की तलाश के लिये क्षेत्र में गये हुए थे, तभी मुखबिर द्वारा सूचना दी गई कि ग्राम नगला धीमर कटरी में कुछ लोग अवैध भट्टी चलाकर कच्ची शराब का बना रहे हैं।

सूचना के आधार पर दोनों पुलिस कर्मियों द्वारा दबिश दी गई तो बदमाश मोती व उसका भाई एलकार व उसके साथियों ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया।

उन्होंने बताया कि इस हमले में दारोगा अशोक कुमार गम्भीर रूप से घायल हो गए एवं आरक्षी देवेन्द्र की मौत हो गई। बदमाश दारोगा अशोक कुमार की सरकारी पिस्टल एवं कारतूस भी लूट कर ले गए थे।

इस वारदात के बाद थाना सिढ़पुरा में सुसंगत धाराओं में मोती व एलकार एवं 5-6 अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत किया गया।

अपर पुलिस महानिदेशक आगरा जोन द्वारा अभियुक्त मोती की गिरफ्तारी के लिए एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था। इससे पहले नौ फ़रवरी की रात को ही पुलिस ने मोती के भाई एलकार को मुठभेड़ में मार गिराया था।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Reward of one lakh accused of murder of soldier killed in police encounter

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे