Rajasthan: Tense peace after a day of communal violence in Baran | राजस्थान: बारां में साम्प्रदायिक हिंसा के एक दिन बाद तनावपूर्ण शांति
राजस्थान: बारां में साम्प्रदायिक हिंसा के एक दिन बाद तनावपूर्ण शांति

कोटा (राजस्थान), 12 अप्रैल राजस्थान में बारां जिले के छबड़ा नगर में सांप्रदायिक झड़प के एक दिन बाद पुलिस की निगरानी में तनावपूर्ण शांति बनी रही जबकि कर्फ्यू जारी रहा और इंटरनेट सेवाएं निलंबित रहीं।

नगर में रविवार को दो युवकों पर चाकू से हमला किये जाने के बाद भीड़ द्वारा दर्जनों वाहनों और दुकानों में तोड़फोड़ और आगजनी की गई। हिंसा में करीब पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए।

अधिकारियों के अनुसार, स्थिति शांतिपूर्ण है और हिंसा की कोई अप्रिय घटना सामने नहीं आयी है।

हालांकि, कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की निगरानी में अतिरिक्त पुलिस बल को नगर के हर कोने में तैनात किया गया है।

पुलिस अधीक्षक, बारां विनीत बंसल ने कहा कि बारां जिला प्रशासन और पुलिस ने सामुदायिक संपर्क समूहों और समुदाय के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की और उनसे नगर में सद्भाव और कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि हिंसा से प्रभावित दुकानदारों और व्यापारियों को पुलिस रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कहा गया है।

बंसल ने कहा, ‘‘छबड़ा में स्थिति नियंत्रण में और शांतिपूर्ण है। रविवार को हुई हिंसा के संबंध में कम से कम छह प्राथमिकी दर्ज की गई हैं।’’

उन्होंने कहा कि आगजनी और हिंसा में शामिल लोगों की पहचान की जा रही है।

एसपी ने कहा कि हिंसा में कम से कम चार से पांच पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, हालांकि, नागरिकों में कोई जनहानि होने या किसी नागरिक के घायल होने की सूचना नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘रविवार को हिंसा में कथित रूप से शामिल कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है।’’ उन्होंने हालांकि हिरासत में लिये गए व्यक्तियों की संख्या या उनके नामों का खुलासा करने से इनकार कर दिया।

इस बीच, हिंसा के कुछ पीड़ित व्यक्ति सामने आए हैं।

नगर के अलीगंज इलाके स्थित एक भोजनालय के मालिक कालू गुर्जर के अनुसार, लाठी और लोहे की छड़ों से लैस लगभग 10 से 15 लोगों की भीड़ ने उनके भोजनालय को नुकसान पहुंचाया और लगभग 40,000 रुपये नकद लेकर भाग गए।

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने आज (सोमवार) पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करायी और उनमें से एक की पहचान की।’’

स्थानीय लोगों ने कहा कि आजाद सर्किल पर अरुण गर्ग नाम के एक व्यक्ति के स्वामित्व वाले एक मोबाइल शोरूम में तोड़फोड़ की गई, जिससे उन्हें 30-40 लाख रुपये का नुकसान हुआ।

कर्फ्यू और इंटरनेट सेवाओं के मंगलवार शाम 4 बजे तक निलंबित किये जाने के चलते सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ कि स्थानीय लोगों को दूध, ब्रेड और अंडे जैसे आवश्यक सामानों के लिए संघर्ष करना पड़ा।

इस बीच, राजस्थान भाजपा प्रमुख सतीश पूनियां द्वारा पार्टी सांसद सुखबीर सिंह जोनपुरिया के नेतृत्व में गठित भाजपा की "जांच समिति" कोटा पहुंची और छबड़ा की ओर जाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उसे रोक दिया। इस समिति में विधायक संदीप शर्मा, चंद्रकांता मेघवाल और प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य आनंद गर्ग शामिल थे।

बाद में भाजपा नेताओं ने कोटा में एक संवाददाता सम्मेलन किया और हिंसा के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस सरकार ‘‘आंशिक रूप से एक ओर झुकी हुई थी’’ और जिला पुलिस प्राथमिक स्तर पर घटना से निपटने में विफल रही।

शर्मा ने कहा, ‘‘राज्य सरकार और पुलिस एक समुदाय को बचाने का प्रयास कर रही है, जबकि दूसरे समुदाय को भारी नुकसान हुआ है और इसके सदस्यों के खिलाफ अधिकारियों द्वारा मामला दर्ज किया जा रहा है।’’

शर्मा ने कहा कि जांच समिति ने तब कोटा में पुलिस महानिरीक्षक सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की और निष्पक्ष जांच की तथा दोषियों को दो दिनों के भीतर गिरफ्तार करने की मांग की।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Rajasthan: Tense peace after a day of communal violence in Baran

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे