now need to celebrate hindu diwas says swami jitendranand saraswati | 'भारत मे भी फादर्स डे और मदर्स डे मनाने का चलन शुरू हो गया, तो अब हिन्दू दिवस मनाने की जरूरत'
'भारत मे भी फादर्स डे और मदर्स डे मनाने का चलन शुरू हो गया, तो अब हिन्दू दिवस मनाने की जरूरत'

स्वामी विवेकानंद जयंती व राष्ट्रीय युवा दिवस को हिंदू दिवस के रूप में स्वर्णिम भारत मंच द्वारा मनाया गया। देशभक्ति से ओतप्रोत कार्यक्रम युवा संगम का आयोजन उज्जैन के हृदय स्थल टावर चौक फ्रीगंज उज्जैन पर किया गया। मुख्य वक्ता स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती ने राइट टू रिकॉल, राइट टू रिजेक्ट कानून बनाने के लिए पूरे देश में जनजागरण को लेकर कहा कि हमारे देश के संविधान में जितने भी अनुच्छेद है उन सब अनुच्छेदों में बचने के लिए 10-10 छेद है। 

राम मंदिर बनाने के लिए मोदी जी को किसी ने नहीं रोक रखा है। एक मन्दिर तो बनाओ और भी कई मुद्दे हैं, जिसको चुनाव लड़ा जा सकता है। स्वामी जितेन्द्रानंद ने बोला कि स्वर्णिम भारत मंच के बैनर तले राष्ट्रीय स्तर पर जनजागरण के माध्यम से राइट टू रिकॉल व राइट टू रिजेक्ट कानून बनाने की मांग करेंगे।

उज्जैन में कार्यक्रम में  20 से अधिक युवाओं को स्वामी जितेन्द्रानंद सरस्वती संस्थापक हिन्दू आश्रम मुंबई के हाथों से प्रसिद्ध चित्रकार स्व. ओपी भटनागर की स्मृति में पुत्र राजकुमार भटनागर व शशिराज भटनागर की ओर से सम्मानित किया गया।

स्वर्णिम भारत मंच के दिनेश श्रीवास्तव ने बताया कि स्वामी विवेकानंद के जन्म दिन पर युवा संगम देश भक्ति कार्यक्रम आयोजित किया गया। मुख्य वक्ता ने कहा कि देश को बचाने के लिए हमारे महा पुरुषों के बलिदान को याद रखना पड़ेगा। 

अब तो भारत में भी ना जाने कौन-कौन से डे मनाए जाने लगे हैं। जिस देश की संस्कृति में माता-पिता को भगवान माना जाता हो, वहाँ मदर्स डे, फादर्स डे मनेगा तो हमें हिन्दू दिवस मनाने की भी जरूरत है। स्वामी विवेकानंद जी के जन्म दिन को हिन्दू दिवस के रूप में मनाने की आज शुरुआत स्वर्णिम भारत मंच ने की है। स्वामी विवेकानंद ने ही हिंदुत्व होता क्या है सिखाया था।

स्वामी विवेकानंद जी ने तो विदेशी आक्रांताओं को भी हमारी भारतीय संस्कृति का लोहा मनवा दिया था, परन्तु आज षड्यंत्र पूर्व फेसबुक वाट्सअप के जरिये हमारे युवाओं का ब्रेन डेड किया जा रहा है। हजारों सालों से चली आ रही हमारी सनातन परम्पराओं को मिटाने की कोशिश की जा रही है। विदेश में बनी हुई खाने-पीने की वस्तुओं से मानसिक क्षरण होता है।

युवा संगम कार्यक्रम में धर्म-संस्कृति के लिए काम करने वाले 20 से अधिक युवाओं को वरिष्ठ चित्रकार स्वर्गीय श्री ओपी भटनागर की स्मृति में पुत्र राजकुमार भटनागर पुत्र वधू शशि राज भटनागर की ओर से प्रदान किए गए।

पवित्र नगरी के लिए आमरण अनशन करेंगे - मुंबई से आये स्वामी जितेन्द्रानंद ने स्वर्णिम भारत मंच द्वारा किये जा रहे पवित्र नगरी की मांग का समर्थन करते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार संतों के आशीर्वाद से बनी है। यदि सरकार चलाना है तो महाकालेश्वर मंदिर से 2 किमी क्षेत्र से कत्लखाने हटाये नहीं तो हजारों संन्यासियों को लेकर मैं आमरण अनशन करूंगा। विश्वभर से आने वाले श्रद्धालुओं को मांस लटका कर दर्शन करवाने में प्रशासन को शर्म नहीं आती है।

उज्जैन में भी हिन्दू आश्रम की स्थापना होगी- हिन्दू आश्रम मुंबई के संस्थापक जितेन्द्रानंद सरस्वती ने कहा कि स्वर्णिम भारत मंच के साथ मिलकर उज्जैन में भी हिन्दू आश्रम की स्थापना की जाएगी। स्वामी जी ने कहा कि मुसीबत में अन्य धर्म के लोग गुरुद्वारे, चर्च, मस्जिदों में मदद के लिए जाते हैं तो हिन्दू कहाँ जाए। इसके लिए वृहद कार्य योजना बनाकर हम उज्जैन में भी स्वर्णिम भारत मंच के बैनर तले हिन्दू आश्रम बनाएंगे, जिसमें कोई भी मुसीबत में देशभक्त नागरिक मदद के लिए आ सकेगा।

नसीरुद्दीन शाह, आमिर खान को उसी दिन पीट देना था- भारत मे कई फिल्मी कलाकारों ने असहिष्णुता के बयान दिए हैं। पहले आमिर खान बोला कि उसकी पत्नी को भारत में डर लगता है, अब नसीरुद्दीन बोला है। इनको पहले ही दिन पीट देना था तो दोबारा नहीं बोलते। हम अब्दुल कलाम को सर माथे पर रखेंगे, परन्तु अफजल गुरु जैसे देश द्रोहियों के सर कलम कर देंगे। भारत में रह कर भारत की बुराई बर्दाश्त नहीं करेंगे।


Web Title: now need to celebrate hindu diwas says swami jitendranand saraswati
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे