नागपुरः 38 ब्लैक स्पॉट्स, ‘आईरास्ते’ की टीम ने चिन्हित किए दुर्घटना संभावित स्थान

By सैयद मोबीन | Published: November 13, 2021 10:13 PM2021-11-13T22:13:47+5:302021-11-13T22:14:52+5:30

18 ब्लैक स्पॉट में 20 की वृद्धि होकर अब यह आंकड़ा 38 हो गया है. इसका खुलासा खुद केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के तहत आने वाली ‘आईरास्ते’ की टीम की रिपोर्ट में हुआ है.

Nagpur 38 black spots 'Iraaste' team has identified accident prone places | नागपुरः 38 ब्लैक स्पॉट्स, ‘आईरास्ते’ की टीम ने चिन्हित किए दुर्घटना संभावित स्थान

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय के प्रोटोकॉल के तहत इनमें से 38 स्थानों को ब्लैक स्पॉट चिह्नित किया गया है.

Next
Highlightsनागपुर शहर में पायलट प्रोजेक्ट के तहत आईरास्ते परियोजना शुरू की गई.हैदराबाद और इंटेल द्वारा संयुक्त रूप से शुरू की गई है.118 स्थानों को दुर्घटना संभावित स्थानों के तौर पर चिह्नित किया गया था.

नागपुरः नागपुर शहर में सड़क दुर्घटनाओं के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले ब्लैक स्पॉट्स की संख्या कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही है. प्रशासन चाहे उपाय के लाख दावे कर ले लेकिन वे खोखले साबित हो रहे हैं.

 

यही वजह है कि शहर में अब भी 38 ब्लैक स्पॉट मौजूद हैं, जो दुर्घटनाओं को न्यौता दे रहे हैं. चौंकाने वाली बात यह है कि पुराने 18 ब्लैक स्पॉट में 20 की वृद्धि होकर अब यह आंकड़ा 38 हो गया है. इसका खुलासा खुद केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के तहत आने वाली ‘आईरास्ते’ की टीम की रिपोर्ट में हुआ है.

पिछले दिनों नागपुर शहर में पायलट प्रोजेक्ट के तहत आईरास्ते परियोजना शुरू की गई. यह परियोजना नागपुर महानगरपालिका, केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान (सीआरआरआई), महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईएनएआई, अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी) हैदराबाद और इंटेल द्वारा संयुक्त रूप से शुरू की गई है.

सांसद सड़क सुरक्षा समिति के सदस्य चंद्रशेखर मोहिते ने बताया कि परियोजना के तहत नागपुर शहर के ब्लैक स्पाॅट का निरीक्षण करने बाद 118 स्थानों को दुर्घटना संभावित स्थानों के तौर पर चिह्नित किया गया था. बाद में सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय के प्रोटोकॉल के तहत इनमें से 38 स्थानों को ब्लैक स्पॉट चिह्नित किया गया है.

ब्लैक स्पाॅट को चिह्नित करने में महत्वपूर्ण किरदार निभाने वाले जिला सड़क सुरक्षा परिषद के सदस्य चंद्रशेखर मोहिते ने बताया कि अब इन 38 ब्लैक स्पॉट्स पर जरूरी कार्यवाही की जाएगी ताकि भविष्य में यहां दुर्घटनाएं न हो सकें.

ये हैं ब्लैक स्पॉटः

1. डोंगरगांव
2. राजीव नगर

3. आठवां मील
4. वड़धामना

5. धामना
6. दत्तवाड़ी चौक

7. मारुति सेवा, अमरावती रोड
8. खड़गांव टर्निंग

9. शिवणगांव फाटा
10. छत्रपति चौक

11. नीरी प्वाइंट
12. झांसी रानी चौक-1

13. झांसी रानी चौक-2
14. दत्तवाड़ी

15. कैंपस
16. रविनगर

17. झिंगाबाई टाकली से झंडा चौक
18. पागलखाना चौक से मानकापुर चौक

19. अयप्पा मंदिर से गोरेवाड़ा चौक
20. पुलिस तालाब

21. ऑटोमोटिव एचयूबी से टोल नाका
22. गिट्टीखदान से दिनशॉ फैक्टरी

23. काटोल न्यू टोल नाका से पुराना टोल नाका
24. गोरेवाड़ा से काटोल टोल नाका

25. मेयो चौक
26. टेलीफोन एक्सचेंज से सेंट्रल एवेन्यू

27. विहिरगांव चौक
28. म्हालगी नगर चौक

29. मानेवाड़ा चौक
30. श्रीनगर चौक

31. महेश ढाबा
32. चिंचभवन चौक

33. खरबी चौक
34. शीतला माता चौक

35. वाठोड़ा चौक
36. जूना पारडी नाका

37. प्रकाश हाईस्कूल
38. चिखली चौक।

नागपुर में पायलट प्रोजेक्ट

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय द्वारा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-संचालित परियोजना ‘प्रद्योगिकी और इंजीनियरिंग के माध्यम से सड़क सुरक्षा के लिए बुद्धिमान समाधान’ आईरास्ते को नागपुर में पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया गया है. इसका उद्देश्य शहर में 50 प्रतिशत तक सड़क दुर्घटनाओं को कम करने में मदद करना, इन घटनाओं के लिए जिम्मेदार कारकों को समझना और उन्हें कम करने के लिए समाधान निकालना है.

Web Title: Nagpur 38 black spots 'Iraaste' team has identified accident prone places

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे