muslim-youth-save-lady-of-hindu-family-from-violence-affected-mustafabad | दिल्ली: हिंसा वाले क्षेत्र में फंसी महिला, घर पर होने लगा हमला, तो युवकों के फेसबुक पोस्ट ने बचा ली जान, ये है पूरा मामला
दिल्ली में जारी हिंसा के बीच फेसबुक पोस्ट ने बचा ली महिला की जान

Highlightsमोहम्मद अनस नाम के एक युवक की पोस्ट ने हिंसा वाले क्षेत्र में फंसी एक महिला की जान बचा ली।दिल्ली में हिंसा के बीच भाजपा पार्षद मुस्लिम परिवार के लिए फरिश्ता बनकर आधी रात को सामने आया।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर भड़की हिंसा के बीच एक महिला फंस गई। इसके बाद मोहम्मद अनस नाम के एक युवक ने मंगलवार (25 फरवरी) को अपने सोशल मीडिया अकाउंट से अपील करते हुए लिखा- मेरे एक बहुत ही करीबी दोस्त का परिवार अकेला हिंदू परिवार है मुस्लिम मोहल्ले में। उनके घर पर माँ अकेली हैं। साठ वर्ष से अधिक उनकी आयु है। पिछले तीस सालों से मुस्तफाबाद में रह रहा है परिवार। अभी थोड़ी देर पहले उनके घर पर अटैक हुआ है।

मुसलमान मोहल्ले में अकेली फंसी थी हिंदू महिला, मुस्लिम युवक के फेसबुक पोस्ट ने बचा ली जान

इसके साथ ही पोस्ट में लिखा मेरी मुस्तफाबाद में रहने वालों से अपील है कि उन्हें बख्स दें। ऐसा न करें। उनका कोई कसूर नहीं है। यह बहुत ही गलत बात है। मुस्तफाबाद के लोग यदि मेरा पोस्ट पढ़ रहे हैं तो उनकी सुरक्षा करें। हाथ जोड़ कर विनती है मेरी। इसके बाद उसने लिखा कि दिल्ली में रह रहे दोस्त इस पोस्ट को वॉयरल करें। जैसे भी हो उनकी हिफाज़त कीजिए।

जनसत्ता के मुताबिक, पोस्ट वायरल होने के कुछ घंटों के अंदर ही मुस्तफाबाद इलाके के कुछ मुसलमान युवक सामने आए और उपद्रव के बीच फंसी महिला को सही सलामत निकाल लाए। महिला को सुरक्षित निकालने में अहम भूमिका निभाई मोमिन सैफी और शान अंसारी नाम के दो युवकों ने।महिला के सही सलामत मुस्तफाबाद से निकलने की जानकारी मोहम्मद अनस ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी। इस तरह महिला की जान बचाकर दिल्ली के युवाओं ने मिसाल पेश की है।

भाजपा पार्षद ने भी बचाई थी एक मुस्लिम परिवार की जान-
सोमवार से जारी हिंसा अभी भी जारी है। इसी बीच एक खबर आई है कि एक भाजपा पार्षद मुस्लिम परिवार के लिए फरिश्ता बनकर आधी रात को सामने आया। बता दें कि दिल्ली के कई इलाकों में हिंसक झड़प के बीच भारतीय जनता पार्टी के एक पार्षद ने हिंसक भीड़ के चंगुल से एक मुस्लिम परिवार और उसके घर को बचाकर इंसानियत की मिसाल पेश की। 

कौन हैं ये भाजपा पार्षद?
हिंसा के बीच दिल्ली के यमुना विहार से भाजपा के वार्ड पार्षद प्रमोद गुप्ता मुस्लिम शख्स शाहिद सिद्दीकी के परिवार की मदद के लिए आगे आए और लगभग 150 लोगों की हिंसक भीड़ से उनके घर को आग के हवाले होने से बचाया। बता दें कि सीएए को लेकर नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा में अब तक सात लोगों की मौत हो चुकी है।

पीड़ित ने भाजपा पार्षद के बारे में जो कहा है पढ़िए-
शाहिद सिद्दीकी ने एक टीवी चैनल से बातचीत में बीती रात की घटना को लेकर कहा कि भीड़ ने अचानक नारे लगाते हुए पड़ोस की ओर बढ़ना शुरू कर दिया। भीड़ ने उस ओर से प्रवेश किया जहां पुलिस ने बैरिकेडिंग नहीं कर रखा था और वह रास्ता जो मुस्लिम बहुल इलाके की ओर जाता था। सिद्दिकी ने कहा कि यह घटना करीब 11.30 बजे की है। सिद्दीकी ने कहा कि भीड़ ने पहले उनके घर के नीचे एक बुटीक जलाया, जो उनके किराएदार का था। उसके बाद उनके परिवार की एक कार और मोटरबाइक को भी भीड़ ने जला दिया।
 

Web Title: muslim-youth-save-lady-of-hindu-family-from-violence-affected-mustafabad
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे