Migrant laborers return home from Maharashtra hoping to return to work after coronavirus lockdown | Coronavirus Lockdown: काम पर फिर से लौटने की उम्मीद से पुणे से अपने घर जा रहे प्रवासी मजदूर
लॉकडाउन के बाद, मुझे राशन किट मिल रहा था, लेकिन दिन पर दिन गुजारा मुश्किल होता जा रहा था (सोशल मीडिया)

Highlightsमहाराष्ट्र के पुणे शहर से नौकरी गंवाने के बाद अपने गृह राज्यों को लौटे कई प्रवासी मजदूरों को उम्मीद है कि स्थिति सामान्य हो जाएगी और वे काम पर लौट पाएंगे। उनके पास फिलहाल कोई काम नहीं है और वे आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं।

पुणे: महाराष्ट्र के पुणे शहर से नौकरी गंवाने के बाद अपने गृह राज्यों को लौटे कई प्रवासी मजदूरों को उम्मीद है कि स्थिति सामान्य हो जाएगी और वे काम पर लौट पाएंगे। लेकिन उनका कहना है कि चूंकि उनके पास फिलहाल कोई काम नहीं है और वे आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं, उनके पास अपने घरों को लौटने और बेहतर समय आने का इंतजार करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर जा रही ट्रेन में सवार होने से पहले पुणे रेलवे स्टेशन पर पीटीआई-भाषा से बातचीत में 24 वर्षीय सराजुद्दीन शाह ने बताया कि वह यहां लक्ष्मी रोड पर एक दुकान में दर्जी का काम करते हैं और ग्राहक न मिलने की वजह से उन्होंने अपने मूल निवास स्थान पर लौटने का फैसला किया। यह पूछने पर कि क्या वह पुणे लौटना चाहेंगे, शाह ने कहा, “मैं क्यों नहीं लौटकर आऊंगा? मैं पिछले तीन साल से यहां दर्जी का काम कर रहा हूं। शहर ने मुझे रोजी रोटी दी है। एक बार स्थिति सामान्य हो जाए, मैं शहर लौट आऊंगा।

” शाह के अलावा कम से कम 10 अन्य दर्जी थे जो लक्ष्मी रोड पर अलग-अलग दुकानों में काम करते थे, वे भी उत्तर प्रदेश लौटने के लिए ट्रेन का इंतजार कर रहे थे। उनका कहना है कि अगर पुणे में अभी दुकानें खुल भी जाएं तो इस बात की बहुत कम संभावना है कि उन्हें जल्द ग्राहक मिल पाएंगे। समूह के एक अन्य दर्जी, मोहन प्रसाद (30) ने कहा कि वह अपने घर इसलिए लौट रहे हैं क्योंकि उनका परिवार वहां उन्हें लेकर चिंतित है और उनसे लौटने को कहा है। उन्होंने कहा, “मैं पिछले पांच-छह साल से लक्ष्मी रोड पर दर्जी की दुकान में काम कर रहा था।

लॉकडाउन के बाद, मुझे राशन किट मिल रहा था, लेकिन दिन पर दिन गुजारा मुश्किल होता जा रहा था और चूंकि ‘बीमारी’ (कोविड-19) दिनोंदिन बढ़ रही है, मेरे परिजन और पत्नी घर पर चिंतित हो रही थी और उन्होंने मुझे घर लौटने को कहा।” हालांकि, प्रसाद ने कहा कि स्थिति सामान्य होने के बाद वह पुणे लौटने को बेताब हैं। बिहार के रहने वाले रमैया यादव ने कहा कि वह पुणे के शिवाजी नगर इलाके में रह रहे थे जो कोविड-19 से अत्यधिक प्रभावित है।

बिहार जाने वाली ट्रेन की प्रतीक्षा करते हुए उन्होंने कहा, “इलाके में रहना बहुत मुश्किल हो रहा था और लॉकडाउन के बीच किसी दूसरी जगह पर रहने जाना बहुत मुश्किल था इसलिए मैंने घर जाने का फैसला चुना।” यादव ने कहा, “लेकिन मैं स्थिति सामान्य होने पर पुणे लौटकर आऊंगा।” पुणे जिला प्रशासन ने अब तक 1.2 लाख प्रवासी मजदूरों को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से उनके गृह राज्यों को भेजा है। 

Web Title: Migrant laborers return home from Maharashtra hoping to return to work after coronavirus lockdown
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे