Maharashtra order action against two journalists fake news beating one Ahmednagar | Maharashtra ki khabar: फर्जी खबर को लेकर दो पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश, अहमदनगर में एक की पिटाई
आव्हाड ने कहा कि देशमुख ने उनसे मामला दर्ज कराने को कहा लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं करने का फैसला किया है। (file photo)

Highlightsकोरोना वायरस महामारी को लेकर डर का माहौल है तो ‘फर्जी और दहशत फैलाने वाली’ खबरों का प्रसारण करना गलत है।घर में पृथक रह रहे कुछ परिवारों के बारे में एक खबर का प्रकाशन करने के लिए महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक पत्रकार पर हमला किया गया।

मुंबईः महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि राज्य के मंत्री जितेंद्र आव्हाड की बेटी के स्पेन से लौटने के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित होने की कथित तौर पर झूठी खबर चलाने वाले एक समाचार चैनल के संवाददाता और समाचार प्रस्तोता (एंकर) के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया गया है।

हालांकि, देशमुख ने संबद्ध समाचार चैनल का नाम नहीं बताया। देशमुख ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि इस प्रक्रिया में कोरोना वायरस से संक्रमित किसी भी मरीज के नाम का खुलासा नहीं करने की आचार संहिता का उल्लंघन किया गया। उन्होंने कहा कि चैनल ने यह जानबूझकर किया और यह गैर जिम्मेदारी भरा गंभीर मामला है।

देशमुख ने कहा कि ऐसे समय में जब कोरोना वायरस महामारी को लेकर डर का माहौल है तो ‘फर्जी और दहशत फैलाने वाली’ खबरों का प्रसारण करना गलत है। देशमुख ने बुधवार देर रात को अपने ट्वीट में कहा, ‘‘इसलिये संवाददाता और एंकर के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है।’’

हालांकि, आव्हाड ने कहा कि देशमुख ने उनसे मामला दर्ज कराने को कहा लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं करने का फैसला किया है क्योंकि वह प्रतिशोध से काम नहीं करना चाहते। आव्हाड ने खबर को लेकर चिंता जताने के लिये देशमुख का शुक्रिया अदा किया।

उन्होंने कहा, ‘‘ बदले की जगह, मैंने किसी के खिलाफ मामला नहीं दर्ज कराने का निर्णय लिया। चैनल अपना काम करते हैं। लोगों को निर्णय लेने दें। माफ करें और भूलें।’’ हाल ही में आवास मंत्री आव्हाड ने एक पुलिस अधिकारी से बातचीत की थी, जो बाद में संक्रमित पाया गया। मंत्री ने एहतियात के तौर पर खुद को पृथक कर लिया था। बुधवार को उन्होंने बताया कि उनकी जांच रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई और वह स्वस्थ हैं।

पृथक किये गये परिवारों के बारे में लिखने पर अहमदनगर में पत्रकार की पिटाई

कोरोना वायरस से बचने के लिए घर में पृथक रह रहे कुछ परिवारों के बारे में एक खबर का प्रकाशन करने के लिए महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक पत्रकार पर हमला किया गया। सोनई पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि जिले में नयासे के पास पनेगांव में बुधवार को बालासाहेब नवगिरे (35) पर 12 लोगों के एक समूह ने हमला किया।

हमला करने वाले लोगों में ज्यादातर महिलाएं शामिल थी। उन्होंने बताया कि नवगिरे ने कोरोना वायरस के संदेह में घर में पृथक किये गये लगभग 17 परिवारों के बारे में एक स्थानीय समाचार पत्र में खबर लिखी थी। आरोपियों का कथित तौर पर यह मानना था कि इस खबर के कारण उनके नियोक्ताओं ने उन्हें काम करने की अनुमति नहीं दी।

लगभग 12 लोगों का एक समूह बुधवार को नवगिरे के घर पहुंचा और उनकी पिटाई की। पुलिस अधिकारी ने बताया कि हमला करने, दंगा करने के साथ पृथक-वास में रहने संबंधी नियम का उल्लंघन करने के लिए इन लोगों के खिलाफ एक मामला दर्ज कर लिया गया है। हालांकि अभी तक इस संबंध में किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। 

Web Title: Maharashtra order action against two journalists fake news beating one Ahmednagar
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे