Lok Sabha elections: Yogi Adityanath gets 72 hours, Mayawati stops 48 hours election campaign | लोकसभा चुनाव 2019: योगी 72 घंटे और मायावती 48 घंटे तक नहीं कर सकेंगी प्रचार, चुनाव आयोग ने लगाई रोक
आयोग ने नोटिस में मायावती के बयान से प्रथम दृष्टया आचार संहिता का उल्लंघन होने की बात कहते हुये उनसे 24 घंटे में जवाब देने को कहा था।

Highlightsभाजपा नेता ने कहा था, 'अगर कांग्रेस, सपा, बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।'मायावती ने मुस्लिमों से सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने की अपील की थी।

लोकसभा चुनाव 2019 में चुनाव प्रचार में बयानबाजी को लेकर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ और मायावती पर चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है। आयोग ने सीएम योगी के  72 और मायावती के  48 घंटों तक चुनाव प्रचार पर रोक लगाई है। चुनाव आयोग का यह आदेश मंगलवार सुबह 6 बजे से लागू होगा। कल आगरा में मायावती की रैली होनी थी।

इससे पहले चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री एवं बसपा प्रमुख मायावती को चुनाव अभियान के दौरान आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में नोटिस जारी कर जवाब तलब किया। उपचुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बृहस्पतिवार को बताया कि योगी को मौजूदा चुनाव प्रक्रिया के दौरान आचार संहिता के उल्लंघन का दूसरा नोटिस जारी किया गया था।


योगी ने लोकसभा चुनावों की तुलना इस्लाम में अहम शख्सियत ‘अली’ और हिंदू देवता ‘बजरंगबली’ के बीच मुकाबले से की थी।

भाजपा नेता ने कहा था, 'अगर कांग्रेस, सपा, बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।' योगी ने देवबंद में बसपा प्रमुख मायावती के उस भाषण की तरफ इशारा करते हुए यह टिप्पणी की थी जिसमें मायावती ने मुस्लिमों से सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने की अपील की थी। इसके बाद योगी के बयान पर पलटवार करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा , ''हमारे अली और बजरंगबली दोनों हैं। 'बजरंगबली इसलिए चाहिए क्योंकि ये हमारी दलित जाति से जुड़े हैं। इनकी जाति की खोज मैंने नहीं की है, खुद यूपी सीएम ने की है।'' मायावती ने यह भी कहा कि 'नमो था नमो' वाले जा रहे हैं और 'जय भीम' वाले आ रहे हैं।


Web Title: Lok Sabha elections: Yogi Adityanath gets 72 hours, Mayawati stops 48 hours election campaign