Lok sabha Election 2019: BJP MP fears to cut tickets in Madhya pradesh election | लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी प्रदेश कार्यालय में लगा जमघट, टिकट कटने का सांसदों को सताने लगा डर
लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी प्रदेश कार्यालय में लगा जमघट, टिकट कटने का सांसदों को सताने लगा डर

परिवारवाद को लेकर कांग्रेस पर हमला करने वाले भाजपा नेता आज राजधानी भोपाल में प्रदेश कार्यालय में बेटे-बेटियों के लिए टिकट की मांग करते नजर आए। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से लेकर पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन भी इसके लिए कवायद करते रहे।मध्यप्रदेश भाजपा की आज राजधानी भोपाल में चुनाव प्रबंध समिति की बैठक हुई। प्रदेश भाजपा कार्यालय में हुई इस बैठक में राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन लोकसभा सीटों को लेकर फीडबैक लिया।

बैठक में विधायक, लोकसभा प्रभारी, संयोजक, जिला अध्यक्ष सहित पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों को बुलाया गया था। इनसे पार्टी के नेता संसदीय सीटों के हिसाब से फीडबैक लेते रहे। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, लोकसभा चुनाव प्रभारी स्वतंत्र देव सिंह, सह प्रभारी सतीश उपाध्याय, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, संगठन मंत्री सुहास भगत सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

प्रदेश कार्यालय में सांसदों का टिकट के लिए जमघट

बैठक के दौरान प्रदेश कार्यालय पर जमकर भीड़ लगी रही। भीड़ भाजपा के उन नेताओं के समर्थकों की थी, जो टिकट के लिए दावेदारी करने आए थे तो कोई अपना टिकट कटने से बचने के लिए समर्थकों के साथ आया था। टिकट के दावेदार बकायदा बायोडाटा के साथ आए थे। कुछ दिग्गज नेता खुद के लिए टिकट की दावेदारी करते नजर आए तो कुछ ने अपने बेटे और बेटी के लिए भी टिकट की दावेदारी की।

मंडला से सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते ने फिर से अपनी दावेदारी की। वहीं पूर्व विधायक रामदयाल अहिरवार ने अपने लिए टीकमगढ़ से दावेदारी की। पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन भी अपनी बेटी मौसम बिसेन के लिए बालाघाट से दावेदारी करते रहे। बिसेन ने पिछले लोकसभा चुनाव में भी बेटी के लिए दावेदारी की थी, मगर उस वक्त भी पार्टी ने उन्हें खाली हाथ लौटाया था। वहीं पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने भी सागर संसदीय क्षेत्र से टिकट के लिए दावेदारी की है।

भाजपा की इस बैठक के पहले सीधी की सांसद रीति पाठक, भिंड के सांसद भागीरथ प्रसाद, उज्जैन के सांसद डा। चिंतामणि मालवीय भी प्रदेश कार्यालय पहुंचे थे और पदाधिकारियों से मुलाकात की। इन सांसदों को टिकट कटने की आशंका है, जिसके चलते उन्होंने अपना पक्ष भी रखा।

तो क्या राजनेता के बेटे को भीख मांगनी चाहिए

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव भी बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। उन्होंने भी स्वीकार किया कि वे अपने बेटे अभिषेक के लिए टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। सागर या फिर दमोह संसदीय सीट से वे अपने बेटे का दावा पेश कर रहे हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने मीडिया से कहा कि मेरा बेटा मेरे साथ 14 साल से राजनीतिक में लगा है। भार्गव ने कहा कि नेताओं के लायक बेटा-बेटी को टिकट मिलेगा। उन्होंने कहा कि किसान का बेटा किसानी करता है, अधिकारी का बेटा नौकरी करता है'।।।तो क्या राजनेता के बेटे को भीख मांगनी चाहिए। भार्गव का साफ कहना था कि राजनेता अगर राजनीति से जुड़े अपने बेटे या फिर बेटी के लिए टिकट की मांग करे तो कोई हर्ज नहीं है।

26 सीट जीतने का दावा

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने प्रदेश में लोकसभा की 26 सीटों पर भाजपा की जीत का दावा किया है। प्रदेश कार्यालय में बैठक में पहुंचे सिंह ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चेहरे पर ही भाजपा चुनाव मैदान में उतर रही है। भाजपा को प्रदेश में 26 सीटों पर जीत हासिल होगी। उन्होंने कहा कि मालवा के बाद ग्वालियर-चंबल अंचल में हुई पार्टी की सभाओं में यह स्पष्ट दिखाई दिया कि मतदाता में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर विश्वास है। उन्होंने कहा कि चुनाव समिति की बैठक के बाद केन्द्रीय नेतृत्व ही प्रत्याशी चयन की प्रक्रिया को अंतिम रुप देगा। इसके बाद पहली सूची जारी की जाएगी।

भोपाल से लड़ने का विचार नहीं

केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर भी बैठक में शामिल हुए। उन्होंने चुनाव लड़ने को लेकर कहा कि मेरे जेहन में या फिर संगठन के जेहन में भोपाल से चुनाव लड़ने का विचार नहीं है। पार्टी मुझे जहां से चुनाव लड़ने का आदेश देगी, मैं वहां से चुनाव लड़ूंगा। तोमर ने कहा कि चुनाव की रणनीति को लेकर बैठक हुई है। इस तरह की बैठकें चुनाव तक होती रहेंगी। यह जरुरी है कि हमें चुनावी रणनीति पर पदाधिकारियों के साथ मंथन करना चाहिए। चुनाव की दृष्टि से इस तरह बार-बार बैठकों का होना आवश्यक है, इससे हर जगह का फीडबेक मिलता है।

English summary :
BJP leader who attacked the Congress on the issue of familism, has been seen demanding for tickets for sons and daughters in the state office in Bhopal, Madhya Pradesh. From the leader Gopal Bhargava to Gauri Shankar Chaturbhuj Bisen is trying for tickets. Madhya Pradesh BJP election management committee meeting is today in capital Bhopal.


Web Title: Lok sabha Election 2019: BJP MP fears to cut tickets in Madhya pradesh election