प्रवती परिदा और कनक वर्धन सिंह देव होंगे ओडिशा के डिप्टी सीएम, जानिए दोनों के बारे में सबकुछ

By मनाली रस्तोगी | Published: June 12, 2024 07:36 AM2024-06-12T07:36:45+5:302024-06-12T10:01:52+5:30

मोहन चरम मांझी को नए मुख्यमंत्री तो वहीं दो विधायकों कनक वर्धन सिंह देव और प्रवती परिदा को नए उपमुख्यमंत्री के रूप में चुना गया।

Kanak Vardhan Singh Deo & Pravati Parida to be Odisha's Deputy CM Who are they All you need to know about them | प्रवती परिदा और कनक वर्धन सिंह देव होंगे ओडिशा के डिप्टी सीएम, जानिए दोनों के बारे में सबकुछ

प्रवती परिदा और कनक वर्धन सिंह देव होंगे ओडिशा के डिप्टी सीएम, जानिए दोनों के बारे में सबकुछ

Highlightsभुवनेश्वर में हुई बीजेपी विधायकों की बैठक में कनक वर्धन सिंह देव को नया उपमुख्यमंत्री चुना गया हैउनके साथ प्रवती परिदा भी नई ओडिशा सरकार की उपमुख्यमंत्री होंगी।मोहन चरण मांझी को बीएलए विधायकों ने ओडिशा के नए मुख्यमंत्री के रूप में चुना है। 

भुवनेश्वर: भुवनेश्वर में हुई बीजेपी विधायकों की बैठक में कनक वर्धन सिंह देव को नया उपमुख्यमंत्री चुना गया है। उनके साथ प्रवती परिदा भी नई ओडिशा सरकार की उपमुख्यमंत्री होंगी। इसके अलावा मोहन चरण मांझी को बीएलए विधायकों ने ओडिशा के नए मुख्यमंत्री के रूप में चुना है। 

इससे पहले केंद्रीय पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह और भूपेन्द्र यादव भुवनेश्वर स्थित पार्टी कार्यालय पहुंचे और पार्टी विधायकों के साथ बैठक की। बैठक के दौरान मोहन चरम मांझी को नए मुख्यमंत्री तो वहीं दो विधायकों कनक वर्धन सिंह देव और प्रवती परिदा को नए उपमुख्यमंत्री के रूप में चुना गया।

कौन हैं कनक वर्धन सिंह देव?

-कनक वर्धन (67) ओडिशा के प्रमुख भाजपा नेताओं में से एक हैं। 

-उन्होंने 1995, 2000, 2004, 2009 और 2014 में लगातार पांच बार पटनागढ़ विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की। 

-​​बाद में 2019 में बीजू जनता दल (बीजेडी) के सरोज कुमार मेहर ने उन्हें 11,159 वोटों के अंतर से हराया। 

-1995 में अपनी पहली जीत से पहले, वह 1990 का विधानसभा चुनाव पटनागढ़ से हार गए थे। 

-वह जनता दल के बिबेकानंद मेहर से महज 1,925 वोटों से हार गए। इन चुनावों में उन्होंने पटनागढ़ से अपनी छठी जीत दर्ज की। 

-उन्होंने बीजद के सरोज कुमार मेहर को 1357 वोटों के मामूली अंतर से हराया। 

-पटनागढ़ शाही परिवार से आने वाले केवी सिंह देव ने 2000 से 2009 के बीच नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली बीजेडी-बीजेपी गठबंधन सरकार में मंत्री के रूप में भी काम किया था। 

-उन्होंने ओडिशा सरकार में उद्योग मंत्री और शहरी विकास मंत्री के रूप में कार्य किया था।

-उनकी पत्नी संगीता सिंह देव बोलांगीर से कई बार सांसद हैं। वह पिछले 35 वर्षों से भाजपा से जुड़े हुए हैं और पूर्व में भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

कौन हैं प्रवती परिदा?

-निमापारा निवासी पार्वती परिदा ने ओडिशा विधानसभा चुनाव के लिए निमापारा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। गौरतलब है कि पार्वती परिदा इस सीट से पहली बार विधायक बनी हैं।

-प्रवती परिदा पेशे से वकील हैं। भाजपा विधायक ने भुवनेश्वर के उत्कल विश्वविद्यालय से एलएलबी पाठ्यक्रम पूरा किया और ओडिशा उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में दाखिला लिया।

-परीदा कई सालों तक वकालत करने के बाद भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं। उन्होंने सबसे पहले ओडिशा में भाजपा की महिला शाखा की अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

-प्रवती परिदा की शादी पूर्व सरकारी कर्मचारी श्याम सुंदर नायक से हुई है।

-यह चौथी बार है जब भाजपा नेता प्रवती परिदा ने निमापारा सीट से चुनाव लड़ा, जो 2014 और 2019 में बीजद के समीर रंजन दाश से हार गईं। परिदा ने 2009 में भी निमापारा से चुनाव लड़ा था, लेकिन उन्हें केवल 4।52 प्रतिशत वोट मिले थे।

विधानसभा चुनाव में बीजेपी की परफॉरमेंस

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने ओडिशा विधानसभा चुनाव 2024 में 40।07 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 78 सीटें जीतीं। पूरे राज्य में बीजेपी को 1,00,64,827 वोट मिले। भगवा पार्टी ने 2019, 2014 और 2009 के ओडिशा विधानसभा चुनावों में 23, 10 और 6 सीटें जीतीं। 

2000 और 2004 के ओडिशा विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का नवीन पटनायक के नेतृत्व वाले बीजू जनता दल (बीजेडी) के साथ गठबंधन था। पार्टी ने 2000 और 2004 के विधानसभा चुनावों में क्रमशः 38 और 32 सीटें जीतीं।

Web Title: Kanak Vardhan Singh Deo & Pravati Parida to be Odisha's Deputy CM Who are they All you need to know about them

भारत से जुड़ीहिंदी खबरोंऔर देश दुनिया खबरोंके लिए यहाँ क्लिक करे.यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Pageलाइक करे