जेएमएम विधायक ने झारखंड सरकार गिराने की साजिश का आरोप लगाया, तीन महीने में दूसरी एफआईआर दर्ज

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: October 20, 2021 02:44 PM2021-10-20T14:44:12+5:302021-10-20T14:49:38+5:30

पूर्वी सिंघभूम जिले के घाटसिला से विधायक रामदास सोरेने ने बीते 12 अक्टूबर को जेएमएम के पूर्व कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल और कारोबारी अशोक अग्रवाल पर उन्हें पैसे ऑफर करने का मामला दर्ज कराया है ताकि वे नई पार्टी बनाकर भाजपा के साथ सरकार बना सकें. उन्होंने कैबिनेट मंत्री का पद भी ऑफर किए जाने का भी आरोप लगाया है.

jharkhand jmm-mla-claims-bid-to-destabilise-upa-government | जेएमएम विधायक ने झारखंड सरकार गिराने की साजिश का आरोप लगाया, तीन महीने में दूसरी एफआईआर दर्ज

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन. (फाइल फोटो)

Next
Highlightsएफआईआर में आरोप लगाया गया है कि राज्य में चुनी हुई सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है.पार्टी के एक पूर्व पदाधिकारी और एक कारोबारी पर पैसे का ऑफर देने का लगाया आरोप.पिछले तीन महीने में इस तरह का यह दूसरा आरोप है.

रांची: सत्ताधारी झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के एक विधायक ने पार्टी के एक पूर्व पदाधिकारी और एक कारोबारी पर मौजूदा यूपीए सरकार को अस्थिर करने के लिए उन्हें पैसे देने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी सिंघभूम जिले के घाटसिला से विधायक रामदास सोरेने ने बीते 12 अक्टूबर को जेएमएम के पूर्व कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल और कारोबारी अशोक अग्रवाल पर उन्हें पैसे ऑफर करने का मामला दर्ज कराया है ताकि वे नई पार्टी बनाकर भाजपा के साथ सरकार बना सकें. उन्होंने कैबिनेट मंत्री का पद भी ऑफर किए जाने का भी आरोप लगाया है.

एफआईआर में आरोप लगाया गया है कि राज्य में चुनी हुई सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है.

झामुमो के सूत्रों के अनुसार, केजरीवाल पार्टी की केंद्रीय समिति के कोषाध्यक्ष थे और उन्हें पार्टी प्रमुख शिबू सोरेन और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दोनों का करीबी माना जाता था.

केजरीवाल को वित्तीय अनियमितताओं की शिकायतों के बाद अगस्त 2020 में पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था. केजरीवाल को तत्कालीन रघुवर दास के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के दौरान सोरेन परिवार के लिए धन जुटाने के आरोपों का भी सामना करना पड़ा था.

रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र कुमार झा ने प्राथमिकी दर्ज होने की पुष्टि की है.

पिछले तीन महीने में इस तरह का यह दूसरा आरोप है. इससे पहले बेरमो से कांग्रेस विधायक अनूप सिंह उर्फ जयमंगल ने 22 जुलाई को कोतवाली थाने में कुछ लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, जो रांची के होटलों में ठहरे हुए सत्ताधारी पार्टी के विधायकों को सरकार गिराने का लालच दे रहे थे.

शिकायत के बाद, राज्य पुलिस की विशेष शाखा ने कई होटलों में छापेमारी की और रांची के लेक टैंक रोड के एक होटल से तीन लोगों को गिरफ्तार किया था.

गिरफ्तार किए गए आरोपी अभिषेक दुबे पलामू से, अमित सिंह और निवारण प्रसाद महतो (दोनों बोकारो से) पर कांग्रेस के विधायकों को नकदी के साथ लुभाने और झामुमो के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया गया था.

आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 124ए, 120बी व 34, जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 171 और भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा 8 व 9 के तहत मामला दर्ज किया गया है. रांची एसएसपी ने कहा कि पुलिस अभी भी जुलाई मामले में अपनी जांच जारी रखे हुए है.

बता दें कि, 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में यूपीए गठबंधन के 49 विधायक हैं जिसमें झामुमो के 30 विधायक, कांग्रेस के 18 और राजद के 1 सदस्य हैं. विपक्षी भाजपा के पास 26 विधायक हैं जबकि उसके सहयोगी आजसू के पास 2 हैं. विधानसभा में बहुमत के लिए 41 सदस्य होने चाहिए.

Web Title: jharkhand jmm-mla-claims-bid-to-destabilise-upa-government

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे