Jharkhand and Meghalaya Mine Collapses 12 dead many still stranded relief and rescue intensified | झारखंड और मेघालय में खदान दुर्घटना, 12 लोगों की मौत, कई अभी भी फंसे, राहत और बचाव तेज
यह घटना कोडरमा के घने जंगल घटरवा माइंस की है. (file photo)

Highlightsपुलिसकर्मी खदान में फंसे बाकी लोगों की तलाश कर रहे हैं।उपायुक्त ई खरमाल्की ने बताया कि यह घटना बृहस्पतिवार को दिनेशलालु, सरकरी और रेयम्बई गांवों के निकट एक खनन स्थल पर हुई.कोडरमा पुलिस और वन विभाग की टीम देर शाम घटनास्थल पहुंची.

रांचीः झारखंड के कोडरमा जिला मुख्यालय से सटे फुलवरिया के जंगल में चाल धंसने से दर्जनभर से अधिक लोग दब जाने की सूचना है.

यहां माइका के खदान में अवैध खनन हो रहा था, इसी दौरान चाल धंस गया. जिसमें कई मजदूर खदान में दबे गए. मेघालय के पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले में एक खदान में हुई दुर्घटना में छह लोगों की मौत हो गई। एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

कोडरमा में अब तक 6 शवों को बाहर निकाला जा चुका है. घटना की सूचना के बाद प्रशासनिक तंत्र सक्रिय हो गया और दबे हुए अन्य लोगों को निकालने के प्रयास किये जा रहे हैं, जबकि अन्य मजदूर घायल भी हैं. चाल धंसने के समय खदान संचालक मौजूद था. इस घटना के बाद वह फरार हो गया. 

प्राप्त जानकारी के अनुसार अवैध खदान में रोजाना की तरह मजदूर ढिबरा निकाल रहे थे. इसी दौरान चाल धंस गई और उसकी चपेट में मजदूर आ गए. घटना गुरुवार देर शाम की है. वहीं जानकारी मिलते ही कोडरमा पुलिस और वन विभाग की टीम देर शाम घटनास्थल पहुंची. यह घटना कोडरमा के घने जंगल घटरवा माइंस की है.

रात भर घटना स्थल पर थाना प्रभारी और रेंजर जमे रहे. घटनास्थल पर बड़ी संख्या में ग्रामीण जमा हो गए हैं. यही लोग मलबे में दबे लोगों और शवों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं. बताया जाता है कि फुलवरिया के जंगल में अवैध रूप से ढिबरा चुनने और निकालने का काम लंबे अरसे से चल रहा है.

ग्रामीणों के अनुसार किसी इस्लाम मियां का नाम इसमें सामने आया है. हालांकि इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है. ग्रामीणों ने बताया गया कि माइका खदान में अवैध उत्खनन कई सालों से हो रहा है. रोज की तरह ही खनन हो रहा था. लेकिन यह हादसा हो गया. 

थाना प्रभारी द्वारिका राम ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि राहत एवं बचाव कार्य आज भी जारी रहा. दबे हुए लोगों को निकाला गया है, जिसमें कुछ की स्थिती गंभीर है. जिन्हें ईलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. लोग मलबे में दबे लोगों और शवों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं.

हादसे के बाद अवैध खनन कराने वाला ठिकेदार फरार हो गया है. पुलिस के अधिकारी कैंप कर रहे है. खदान से निकले शवों को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. मामले की जांच की जा रही है कि इस खदान में आखिरकार कितने लोग थे. 

मेघालय में खदान दुर्घटना में छह लोगों की मौत

मेघालय के पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले में एक खदान में हुई दुर्घटना में छह लोगों की मौत हो गई. एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. उपायुक्त ई खरमाल्की ने बताया कि यह घटना बृहस्पतिवार को दिनेशलालु, सरकरी और रेयम्बई गांवों के निकट एक खनन स्थल पर हुई.

उन्होंने कहा, ‘‘इस हादसे में छह लोगों की मौत हुई है. श्रमिक जब खदान में गड्ढा खोद रहे थे तो अचानक यांत्रिक संरचना ध्वस्त हो गई जिसके बाद वे एक गड्ढे में गिर गए और उनकी मौत हो गई.’’ अधिकारी ने बताया कि हादसे में मारे गये छह लोगों में से पांच की पहचान हो गई है। उन्होंने बताया कि ज्यादातर पड़ोसी असम के रहने वाले थे.

उपायुक्त ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं हो सकता है कि श्रमिक क्या कोयला खनन में लगे थे या पत्थर खनन गतिविधियों में लगे थे. पुलिस ने नियोक्ता के खिलाफ मामला दर्ज किया है और जांच जारी है। गौरतलब है कि दिसम्बर 2018 में राज्य में इसी तरह की एक खनन दुर्घटना में 15 लोगों की मौत हो गई थी.

Web Title: Jharkhand and Meghalaya Mine Collapses 12 dead many still stranded relief and rescue intensified

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे