Jharkhand: 10 Indonesian citizens of Tabligi Jamaat not eating food, asking for biryani in isolation ward | झारखंड: आइसोलेशन वार्ड में तबलीगी जमात के 10 इंडोनेशियाई नागरिक नहीं खा रहे खाना, मांग रहे बिरयानी, कर रहे गलत हरकत
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (फाइल फोटो)

Highlightsझारखंड के धनबाद स्थित पीएमसीएच (पाटलीपुत्र मेडिकल कालेज एवं अस्पताल) के आइसोलेशन वार्ड में रखे गये तबलीगी जमात से जुड़े 10 इंडोनेशियाई नागरिक खाना नही खा रहे हैं और खाने में बिरयानी और प्रतिबंधित गोश्त की मांग कर रहे हैं. डॉक्टरों की मानें तो इनकी हरकतों से मेडिकल स्टाफ लोगों को काफी परेशानी हो रही है. इन लोगों को खाने में बिरयानी और प्रतिबंधित मांस चाहिए. अस्पताल का खाना अच्छा नहीं लग रहा है. यहां तक कि थूकने और अश्लील हरकतें भी करने लगते हैं.

झारखंड के धनबाद स्थित पीएमसीएच (पाटलीपुत्र मेडिकल कालेज एवं अस्पताल) के आइसोलेशन वार्ड में रखे गये तबलीगी जमात से जुड़े 10 इंडोनेशियाई नागरिक खाना नही खा रहे हैं और खाने में बिरयानी और प्रतिबंधित गोश्त की मांग कर रहे हैं.

डॉक्टरों की मानें तो इनकी हरकतों से मेडिकल स्टाफ लोगों को काफी परेशानी हो रही है. इन लोगों को खाने में बिरयानी और प्रतिबंधित मांस चाहिए. अस्पताल का खाना अच्छा नहीं लग रहा है. यहां तक कि थूकने और अश्लील हरकतें भी करने लगते हैं.

बताया जाता है कि गोविंदपुर की एक मस्जिद से तबलीगी जमात से जुड़े 10 इंडोनेशियाई नागरिक को निकालकर रखा गया है. इसके अलावे शहर के कई मस्जिदों से पकड़े गए ये संदिग्ध सदर अस्पताल में नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं.

डॉक्टर कर्मचारियों की किसी को परवाह नहीं. डॉक्टर और कर्मचारी उनकी हरकतों से काफी परेशान हैं. कुछ ऐसे भी संदिग्ध मरीज है जो शांत है और अपने वार्ड में हैं. अस्पताल के डॉक्टर भी इनसे परेशान हैं.

डॉक्टरों ने बताया कि आइसोलेशन वार्ड के पारा मेडिकल कर्मी जब 10 लोगों का खाना लेकर पहुंचते हैं और इंडोनेशियाई नागरिकों को दरवाजा खोलने के लिए कहते हैं. लेकिन वे दरवाजा जल्दी नहीं खोलते हैं. काफी देर बाद इंडोनेशियाई नागरिक दरवाजा खोलते भी हैं तो हिंदी जानते नहीं, लेकिन खाने को देखकर बिरयानी और गोश्त की मांग करते हैं.

जब अस्पताल के कर्मी यह कहते हैं कि अस्पताल का खाना है तो इंडोनेशियाई नागरिकों के द्वारा बाहर ही खाना रखवा दिया जाता है. इसके बाद दरवाजे को पटक कर अंदर से कुंडी लगा ली जाती है. बाहर रखा खाना यूं ही खराब हो जाता है.

बताया जाता है कि खाना पड़ा-पड़ा खराब हो जाता है, लेकिन वे खाते नही हैं. वहीं, जब नर्स पहुंचती हैं तो इंडोनेशियाई नागरिक उसको देख गलत हरकत करते हैं. जिसके बाद नर्स डर कर वहां से चली जाती है. यही नही वार्ड के अंदर कोई शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो रहा है.  इंडोनेशियाई नागरिक कभी खिड़की के पास खड़े रहते हैं तो कभी दरवाजे पर. कभी-कभी बरामदे में चहलकदमी करने लगते हैं. 

पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ. एके चौधरी बताते हैं कि पीएमसीएच में भर्ती इंडोनेशियाई नागरिक परेशान कर रहे हैं. उन्हें अस्पताल का खाना अच्छा नहीं लग रहा है. अपने बेड पर भी नहीं रहते हैं. खाने में बिरयानी की मांग करते हैं. कर्मियों से ठीक से पेश नहीं आ रहे हैं और उनके साथ गलत व्यवहार भी कर रहे हैं. 

अस्पताल में भर्ती संदिग्धों में कई लोग परेशानी उत्पन्न कर रहे हैं. इसकी सूचना वरीय पदाधिकारी को दी गई है.  वहीं, सिविल सर्जन डॉ. गोपाल दास ने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े लोगों को जांच के लिए सदर अस्पताल और पीएमसीएच में रखा जा रहा है. पीएमसीएच के आइसोलेशन वार्ड में 10 इंडोनेशियाई नागरिक हैं. वहीं सदर अस्पताल में 83 संदिग्ध भर्ती हैं. हर दिन ऐसे लोगों की संख्या अस्पताल में बढ़ रही है.

Web Title: Jharkhand: 10 Indonesian citizens of Tabligi Jamaat not eating food, asking for biryani in isolation ward
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे