Jammu Kashmir 'tunnel' found on Jammu border, possibility of being made by Pakistan | Jammu Kashmir: जम्मू सीमा पर मिले 'सुरंग' से हलचल, पाकिस्तान की ओर बनाए जाने की आशंका, जांच जारी
जम्मू सीमा पर मिली 'सुरंग' से हलचल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Highlightsजम्मू फ्रंटियर के पिंडी चाढ़का के तारबंदी से सटे खेतों में मिली सुरंग, पाकिस्तान की नापाक हरकत की आशंकाये सुरंग है या कुछ और, इस स्थिति को स्पष्ट करने के लिए आसपास की जमीन की जेसीबी से खोदाई की जाएगी

जम्मू फ्रंटियर के पिंडी चाढ़का के तारबंदी से सटे खेतों में मिली सुरंगों ने सबके होश उड़ा दिए हैं। यह सुरंग पाकिस्तान की ओर से बनाई गई है या फिर ये कोई बोरवेल है, इसे लेकर पुलिस और बीएसएफ की ओर से जांच की जा रही है। सवाल ये भी उठ रहे हैं कि सीमा पर तारबंदी के पास किसने बोरवेल की खुदाई किसकी इजाजत से की है। 

इतना ही नहीं एक और सुरंग के मिलने के बाद यह सवाल भी उठ खड़ा हो रहा है कि जम्मू सीमा को पाकी सुरंगों से मुक्ति कब मिलेगी।

अरनियां सब सेक्टर में जीरो लाइन के बिल्कुल नजदीक मिली सुरंग को पाकिस्तान की ओर खोदे जाने की आशंका जताई जा रही है। पुलिस भले ही इसे पुख्ता तौर पर सुरंग मानने को लेकर फिलहाल कुछ भी स्पष्ट नहीं कह रही है और इसके बोरवेल होने की भी बात कही जा रही है लेकिन जिस तरह से आला अधिकारियों में हलचल रही, उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि मामला बेहद गंभीर है।

खेत में काम कर रहे किसानों ने सबसे पहले देखा सुरंग 

स्थिति को स्पष्ट करने के लिए आसपास की जमीन की जेसीबी से खोदाई की जाएगी। मिली जानकारी के अनुसार उक्त स्थान पर किसान धान की कटाई कर रहे थे। किसानों ने सुरंग मिलने की जानकारी सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों को दी। उन्होंने बीएसएफ को सूचना दी कि सीमा क्षेत्र में सुरंग निकली है। जवानों ने उक्त स्थान पर तलाशी अभियान चलाया। 

सीमा सुरक्षा बल व पुलिस के अधिकारियों के मौके पर पहुंचने पर निरीक्षण किया गया। सरपंच नीलम सिंह का कहना है कि थाना प्रभारी ने उन्हें सीमा सुरक्षा बल की पोस्ट पर बुलाया था, लेकिन उन्हें उस स्थान पर नहीं ले जाया गया जहां सुरंग मिलने की बात की गई। 

उन्होंने कहा कि उस स्थान का निरीक्षण करने पर ही इसका पता चलेगा कि वहां सुरंग है या पंप सेट लगाने पर जमीन धंसी है। इस दौरान क्षेत्र में दिनभर सर्च अभियान चलाया गया, जिसे फिलहाल जारी रखा गया है। हालांकि आईजी मुकेश सिंह ने बताया कि मौके का मुआयना किया गया है। वहां सुरंग मिलने जैसी कोई बात नहीं है। पानी लगाने से मिट्टी धंसी है। फिर भी इस बारे में आसपास के क्षेत्र की जांच की जा रही है।

2012 से अब तक मिल चुके हैं 8 सुरंग

इतना जरूर था कि इंटरनेशनल बार्डर पर 2012 से अब तक 8 सुरंगों का पता लगाया जा चुका है। वर्ष 2012 और 2014 में अखनूर सेक्टर में दो सुरंगों का पता लगाया गया था। इसके अलावा, 2013 में सांबा सेक्टर में एक सुरंग मिली थी। वर्ष 2016 में दो और 2017 में भी दो सुरंगें मिली थीं।

जानकारी के लिए वर्ष 2016 में ही मार्च में भी बीएसएफ ने आरएसपुरा सेक्टर में एक सुरंग का पता लगाकर पाकिस्तान की साजिश को नाकाम कर दिया था। अखनूर सेक्टर में भी यही हुआ था। आरएस पुरा सेक्टर में मिली सुरंग 22 फीट लंबी थी। इसे बनाने के लिए लेटेस्ट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था।

इसके बाद बीएसएफ ने कहा था कि बिना पाकिस्तानी रेंजर्स की मदद के इस तरह की टनल बनाना नामुमकिन है। बीएसएफ ने तब पाकिस्तानी रेंजर्स के साथ मीटिंग में इस हरकत को लेकर विरोध दर्ज कराया था।

वर्ष 2016 के दिसंबर महीने में भी बीएसएफ को जम्मू के चमलियाल में 80 मीटर लंबी और 2 गुणा 2 फीट की एक सुरंग मिली थी। तब बीएसएफ ने कहा था कि सांबा सेक्टर में मारे गए तीन आतंकियों ने इसी का इस्तेमाल किया था। 

फरवरी 2017 में भी रामगढ़ सेक्टर में एक सुरंग का पता लगाया गया था। उसका एक सिरा भारत और दूसरा पाकिस्तान में था। अक्टूबर 2017 में अरनिया सेक्टर में भी एक सुरंग मिली थी। सुरंगें मिलने वाले स्थान से जम्मू-पठानकोट राजमार्ग करीब 10 किमी की दूरी पर है और रेल लाइन 3 से 4 किमी की दूरी पर है।

Web Title: Jammu Kashmir 'tunnel' found on Jammu border, possibility of being made by Pakistan

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे