Jammu Kashmir Lok Sabha Chunav Result 2024: इंजीनियर राशिद के चुनाव जीतने के बाद उनके भविष्‍य पर उठ रहे हैं कई सवाल

By सुरेश एस डुग्गर | Published: June 6, 2024 02:46 PM2024-06-06T14:46:59+5:302024-06-06T14:47:13+5:30

इंजीनियर राशिद ने कुल 472,481 वोट हासिल किए और जेकेएनसी के उमर अब्दुल्ला, जेकेपीसी के सज्जाद गनी लोन और पीडीपी के मीर फैयाज जैसे राजनीतिक दिग्गजों को 204,142 वोटों के बड़े अंतर से हराया।

Jammu Kashmir Lok Sabha Chunav Result 2024 After Engineer Rashid won the election many questions are being raised about his future | Jammu Kashmir Lok Sabha Chunav Result 2024: इंजीनियर राशिद के चुनाव जीतने के बाद उनके भविष्‍य पर उठ रहे हैं कई सवाल

Jammu Kashmir Lok Sabha Chunav Result 2024: इंजीनियर राशिद के चुनाव जीतने के बाद उनके भविष्‍य पर उठ रहे हैं कई सवाल

श्रीनगर: जेल में बंद नेता अब्दुल राशीद शेख, जिन्हें इंजीनियर राशीद के नाम से भी जाना जाता है, की 2024 के लोकसभा चुनावों में बारामुल्ला संसदीय क्षेत्र से 2 लाख से ज़्यादा वोटों के महत्वपूर्ण अंतर से जीत के बाद, सवाल उठता है कि जेल से उनकी रिहाई के बारे में क्या निहितार्थ और अगले कदम हो सकते हैं।
इस पर कश्‍मीर के कई वकीलों के मुताबिक, चुनाव जीतने का उनकी रिहाई पर कोई सीधा कानूनी असर नहीं है। हालाँकि, शपथ समारोह में शामिल होने के लिए उन्हें ट्रायल कोर्ट से अंतरिम ज़मानत की ज़रूरत होगी।

भारत के सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता एडवोकेट सुनील फ़र्नांडिस के बकौल, इंजीनियर राशीद विशेष अदालत का रुख़ कर सकते हैं, इस मामले में एनआईए अदालत उन्हें विचाराधीन कैदी के लिए अंतरिम ज़मानत दे सकती है।

वे कहते थे कि वह शपथ समारोह में शामिल होने के लिए उस कानूनी उपाय का लाभ उठा सकते हैं और बाद में वे नियमित ज़मानत के लिए आवेदन कर सकते हैं। दोनों मामलों में, यह धन शोधन निवारण अधिनियम के अनुसार अदालत के समक्ष एनआईए द्वारा अपनाए जाने वाले रुख पर निर्भर करता है।

एडवोकेट फर्नांडीस ने कहा कि एनआईए अदालत द्वारा नियमित जमानत तभी दी जा सकती है जब याचिकाकर्ता न्यायाधीश को यह संतुष्टि दे सके कि प्रथम दृष्टया उसने अपराध की आय नहीं ली है, जिसे साबित करना याचिकाकर्ता के लिए इस समय बहुत मुश्किल लगता है।

जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय सीनियर एडवोकेट सैयद फासिल कादरी इस मामले वा अपना रूख रचाते हुए कहते थे कि इंजीनियर राशिद जमानत के लिए एनआईए अदालत का दरवाजा खटखटा सकते हैं। अगर जमानत मिल जाती है, तो उन्हें शपथ समारोह के लिए संसद में उपस्थित होने की अनुमति दी जाएगी।

स्थानीय अदालत के एक अन्य वकील एडवोकेट समीर ने कहा कि इंजीनियर राशिद की कैद उनकी चुनावी जीत से अलग मामला है। संसद में उपस्थित होने से पहले उन्हें आवश्यक कानूनी औपचारिकताएं पूरी करनी चाहिए। जब ​​तक एनआईए अदालत द्वारा जमानत नहीं दी जाती है, या दोषी साबित नहीं किया जाता है, तब तक उन्हें रिहा नहीं किया जा सकता है।

समीर ने यह भी कहा कि अगर इंजीनियर राशिद अपनी कैद के कारण शपथ समारोह के 60 दिनों के भीतर संसद में शामिल होने में विफल रहते हैं, तो उनकी सीट खाली हो जाएगी। इसके अलावा, अगर वह दो साल तक जेल में रहता है, तो उसे अयोग्य ठहराया जा सकता है।

जानकारी के लिए इंजीनियर राशिद 9 अगस्त, 2019 से तिहाड़ जेल में आतंकवाद के वित्तपोषण के आरोप में कैद है। और संसद में उपस्थित होने के लिए, जेल में बंद सांसद को शपथ ग्रहण समारोह में ले जाने के लिए अधिकारियों से अनुमति लेनी होगी। शपथ लेने के बाद, उसे जेल वापस लौटना होगा।

इसके बाद, उसे सदन की कार्यवाही में शामिल होने में अपनी असमर्थता के बारे में अध्यक्ष को सूचित करना होगा। इसके बाद अध्यक्ष सदन की अनुपस्थिति संबंधी समिति से परामर्श करेंगे। समिति यह सिफारिश करेगी कि सांसद को संसदीय सत्रों से छुट्टी दी जानी चाहिए या नहीं। इसके बाद अध्यक्ष इस सिफारिश पर मतदान करेंगे।
गौरतलब है कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद पहली बार आम चुनाव हुए। इंजीनियर राशिद ने कुल 472,481 वोट हासिल किए और जेकेएनसी के उमर अब्दुल्ला, जेकेपीसी के सज्जाद गनी लोन और पीडीपी के मीर फैयाज जैसे राजनीतिक दिग्गजों को 204,142 वोटों के बड़े अंतर से हराया।

Web Title: Jammu Kashmir Lok Sabha Chunav Result 2024 After Engineer Rashid won the election many questions are being raised about his future

भारत से जुड़ीहिंदी खबरोंऔर देश दुनिया खबरोंके लिए यहाँ क्लिक करे.यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Pageलाइक करे