Indian Newspaper Society condemns Sonia Gandhi's suggestion to ban advertising | सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को दिया विज्ञापनों पर रोक का सुझाव, इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी ने की निंदा
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी। (फाइल फोटो)

Highlightsआईएनएस ने कांग्रेस प्रमुख से कहा कि ‘‘जीवंत और स्वतंत्र प्रेस’’ के हित में वह अपना सुझाव वापस लें।'' आईएनएस ने एक बयान में कहा कि उसके अध्यक्ष शैलेश गुप्ता ने आईएनएस सदस्यों की ओर से कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष के सुझाव से असहमति जतायी और उसकी निंदा की।

इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी (आईएनएस) ने सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा मीडिया विज्ञापनों पर दो साल के लिए रोक लगाने के कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के सुझाव की बुधवार को निंदा करते हुए कहा कि ऐसा प्रस्ताव "वित्तीय सेंसरशिप" की तरह है।

आईएनएस ने कांग्रेस प्रमुख से कहा कि ‘‘जीवंत और स्वतंत्र प्रेस’’ के हित में वह अपना सुझाव वापस लें।''

सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक पत्र में कोरोना संकट के मद्देनजर कई सुझाव दिए, जिसमें सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा "मीडिया विज्ञापनों- टेलीविज़न, प्रिंट और ऑनलाइन पर दो साल की अवधि के लिए पूर्ण रोक लगाना शामिल है।''

आईएनएस ने एक बयान में कहा कि उसके अध्यक्ष शैलेश गुप्ता ने आईएनएस सदस्यों की ओर से कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष के सुझाव से असहमति जतायी और उसकी निंदा की।

बयान में कहा गया, ‘‘इस तरह का प्रस्ताव वित्तीय सेंसरशिप के समान है। जहां तक ​​सरकारी खर्च का सवाल है तो यह बहुत छोटी राशि है, लेकिन यह अखबार उद्योग के लिए एक बड़ी राशि है जो बचे रहने के लिए संघर्ष कर रहा है। अखबार उद्योग किसी भी जीवंत लोकतंत्र के लिए आवश्यक है।’’

इसमें कहा गया, ‘‘प्रिंट एकमात्र उद्योग है, जिसमें एक वेतन बोर्ड है और सरकार तय करती है कि कर्मचारियों को कितना भुगतान किया जाना चाहिए। यह एकमात्र उद्योग है जहां बाजार की ताकतें वेतन का फैसला नहीं करती हैं, सरकार की इस उद्योग के प्रति एक जिम्मेदारी है।’’

वहीं एक दिन पहले मंगलवार को न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने सरकार और सरकारी उपक्रमों द्वारा मीडिया विज्ञापनों पर दो साल के लिए रोक लगाये जाने संबंधी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के सुझाव की ‘‘कड़ी निंदा’’ की थी। एनबीए ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष का यह सुझाव मीडियाकर्मियों के ‘‘मनोबल को गिराने’’ वाला है।

Web Title: Indian Newspaper Society condemns Sonia Gandhi's suggestion to ban advertising
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे