छात्रा के सुसाइड नोट में आरोपी पुलिस अधिकारी को थाना प्रभारी पद से हटाया गया

By भाषा | Published: November 24, 2021 08:30 PM2021-11-24T20:30:25+5:302021-11-24T20:30:25+5:30

In the suicide note of the student, the accused police officer was removed from the post of station in-charge | छात्रा के सुसाइड नोट में आरोपी पुलिस अधिकारी को थाना प्रभारी पद से हटाया गया

छात्रा के सुसाइड नोट में आरोपी पुलिस अधिकारी को थाना प्रभारी पद से हटाया गया

Next

कोच्चि, 24 नवंबर केरल में कानून की पढ़ाई करने वाली 21 वर्षीय छात्रा द्वारा आत्महत्या करने के एक दिन बाद उस पुलिस अधिकारी को बुधवार को थाना प्रभारी के पद से हटा दिया गया जिसका नाम मृतका ने सुसाइड नोट में लिखा था। उक्त पुलिस अधिकारी को राज्य पुलिस प्रमुख के सामने पेश होने का निर्देश दिया गया है। छात्रा ने अपने सुसाइड नोट में आत्मघाती कदम उठाने के पीछे अपने पति, ससुराल वालों और पुलिस थाना प्रभारी को जिम्मेदार ठहराया था।

आरोपी पुलिस अधिकारी सी एल सुधीर का नाम सामने आने के बाद उन्हें थाना प्रभारी के रूप में बरकरार रखने पर केरल सरकार को आलोचना का सामना करना पड़ा जिसके बाद पुलिस प्रमुख अनिल कांत ने सुधीर को पद से हटा दिया। इसके साथ ही पुलिस ने मृतका के पति और सास ससुर को भी गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि इन तीनों पर दहेज के लिए परेशान करना, दहेज हत्या, आत्महत्या के लिए उकसाना समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।

बुधवार को कांग्रेस सांसद बेनी बेहनन और अलुवा से विधायक अनवर सादात ने थाना प्रभारी के विरुद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस थाने के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। मोफिया परवीन तीसरे वर्ष की कानून की पढ़ाई कर रही थी और उसने सुसाइड नोट में आरोप लगाया था कि जब वह अपने ससुराल पक्ष के विरुद्ध मारपीट और दहेज उत्पीड़न की अपनी शिकायत के संबंध में बयान दर्ज कराने अपने पिता के साथ पुलिस थाने गई तब उक्त पुलिस अधिकारी ने उसके साथ गलत व्यवहार किया।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वी डी सतीशन ने आज संवाददाताओं से कहा कि सरकार पुलिस अधिकारी के विरुद्ध कोई कार्रवाई इसलिए नहीं कर रही है क्योंकि वह पार्टी से जुड़ा हुआ है। इस बीच एक अन्य महिला सामने आई और उसने उक्त पुलिस अधिकारी के विरुद्ध अनुचित व्यवहार का आरोप लगाया।

महिला ने एक समाचार चैनल को बताया कि पुलिस थाने में 18 घंटे तक इंतजार करने के बावजूद पुलिस अधिकारी ने उसकी दहेज उत्पीड़न की शिकायत नहीं सुनी और उसे अपशब्द कहे।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: In the suicide note of the student, the accused police officer was removed from the post of station in-charge

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे