ओबीसी कोटा पर हरियाणा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की, क्रीमी लेयर की गणना में वेतन और कृषि आय भी जोड़ा

By विशाल कुमार | Published: November 22, 2021 09:18 AM2021-11-22T09:18:35+5:302021-11-22T09:25:27+5:30

वेतन और कृषि आय समेत सभी स्रोतों से आय को क्रीम लेयर की गणना में शामिल करने वाले हरियाणा सरकार की 2018 की अधिसूचना को शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई थी, जिसने इस साल अगस्त में यह कहते हुए आदेश को रद्द कर दिया था कि आय एकमात्र मानदंड नहीं हो सकता है।

haryana-bjp government-disregards-supreme-court-order-on-obc-quota creamy layer salary farm income | ओबीसी कोटा पर हरियाणा सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की, क्रीमी लेयर की गणना में वेतन और कृषि आय भी जोड़ा

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर. (फाइल फोटो)

Next
Highlightsक्रीमी लेयर की गणना के लिए हरियाणा सरकार ने उसमें वेतन और कृषि आय को शामिल कर लिया।सुप्रीम कोर्ट ने कहा था वेतन और कृषि से आय को क्रीमी लेयर की पहचान के लिए नहीं माना जा सकता।

चंडीगढ़: अन्य पिछड़ी जाति (ओबीसी) उम्मीदवार के क्रीमी लेयर की गणना करने के लिए हरियाणा सरकार ने उसमें वेतन और कृषि आय को भी शामिल कर लिया जबकि केवल तीन महीने पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे ही आदेश को रद्द कर दिया।

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट ने 1992 के एक फैसले में ओबीसी आरक्षण का लाभ क्रीमी लेयर को देने से इनकार करते हुए कहा था कि वेतन और कृषि से आय को क्रीमी लेयर की पहचान के लिए नहीं माना जा सकता है।

इसके बाद केंद्र ने 1993 में इस बिंदु को दोहराते हुए एक आदेश जारी किया. इसका मतलब यह था कि क्रीमी लेयर की पहचान के लिए माता-पिता की आय की गणना करते समय, आय जैसे कि जोत (कृषि योग्य जमीन) और अकेले व्यवसाय से होने वाली आय पर विचार किया गया था।

हालांकि, हरियाणा सरकार ने 2018 में एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि यह निर्धारित करते समय कि कौन क्रीमी लेयर से संबंधित है, वेतन और कृषि आय समेत सभी स्रोतों से आय पर विचार किया जाएगा।

इसे शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई थी, जिसने इस साल अगस्त में यह कहते हुए आदेश को रद्द कर दिया था कि आय एकमात्र मानदंड नहीं हो सकता है।

अदालत के आदेश में क्रीमी लेयर की पहचान के लिए वेतन और कृषि आय पर विचार करने की अवैधता का विशेष रूप से उल्लेख नहीं किया गया था, लेकिन 1993 के सरकारी आदेश का उल्लेख किया गया था।

हरियाणा सरकार की 17 नवंबर की अधिसूचना में माता-पिता के पदों का उल्लेख है जो ओबीसी उम्मीदवार को आरक्षण के लिए अयोग्य बनाते हैं.

हरियाणा सरकार ने इससे पहले 2016 में एक अधिसूचना जारी की थी, जिसमें वस्तुतः टू-ग्रेड क्रीमी लेयर की शुरुआत की गई थी, जिसमें कहा गया था कि ओबीसी को आरक्षण में प्राथमिकता दी जाएगी, जिनके माता-पिता की वार्षिक आय 3 लाख रुपये से कम होगी, 3-6 लाख रुपये के ब्रैकेट में विचार करने से पहले ओबीसी को प्राथमिकता दी जाएगी। हरियाणा में क्रीमी लेयर की आय में कटौती 6 लाख रुपये है।

इस अधिसूचना को भी 2018 के आदेश के साथ शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई थी और इसे रद्द कर दिया गया था।

Web Title: haryana-bjp government-disregards-supreme-court-order-on-obc-quota creamy layer salary farm income

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे