गुजरात: वडोदरा, राजकोट और भावनगर के बाद अहमदाबाद नगर निगम में भी स्ट्रीट नॉनवेज फूड बेचने पर पाबंदी

By विशाल कुमार | Published: November 16, 2021 10:08 AM2021-11-16T10:08:53+5:302021-11-16T10:12:30+5:30

सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि हमें इस बात से कोई समस्या नहीं है कि कौन शाकाहारी खाता है और कौन मांसाहारी लेकिन इन ठेलों पर बेचे जाने वाले खाने स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह नहीं होने चाहिए. और अगर वे ट्रैफिक बाधित करते हैं तो नगर निगम उन्हें हटा सकता है.

gujarat-ahmedabad non-veg-street-food-sale-ban-bjp-bhupendra patel | गुजरात: वडोदरा, राजकोट और भावनगर के बाद अहमदाबाद नगर निगम में भी स्ट्रीट नॉनवेज फूड बेचने पर पाबंदी

गुजरात: वडोदरा, राजकोट और भावनगर के बाद अहमदाबाद नगर निगम में भी स्ट्रीट नॉनवेज फूड बेचने पर पाबंदी

Next
Highlightsस्ट्रीट नॉनवेज फूड पर पाबंदी वाला अहमदाबाद गुजरात का चौथा नगर निगम बन गया.इससे पहले वडोदरा, राजकोट और भावनगर में ऐसे आदेश पहले ही दिए जा चुके हैं.मुख्यमंत्री और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने इस मामले से बनाई दूरी.

अहमदाबाद/वडोदरा: अहमदाबाद गुजरात का चौथा ऐसा नगर निगम बन गया, जहां सड़क किनारे मांसाहारी खाना बेचने वाले ठेलों को मेन रोड से हटाने का फैसला किया गया है. इससे पहले वडोदरा, राजकोट और भावनगर में ऐसे आदेश पहले ही दिए जा चुके हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, हालांकि, मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि सरकार को इस बात से कोई समस्या नहीं है कि लोग क्या खाते हैं.

सोमवार को भाजपा के एक कार्यक्रम में बोलते हुए अहमदाबाद नगर निगम की स्थायी समिति के अध्यक्ष और अहमदाबाद से विधायक पटेल ने कहा कि पिछले दो दिनों से खाने के ठेलों को लेकर बहस चल रही है.

उन्होंने कहा कि हमें इस बात से कोई समस्या नहीं है कि कौन शाकाहारी खाता है और कौन मांसाहारी लेकिन इन ठेलों पर बेचे जाने वाले खाने स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह नहीं होने चाहिए. और अगर वे ट्रैफिक बाधित करते हैं तो नगर निगम उन्हें हटा सकता है.

इससे पहले, राजकोट, वडोदरा और भावनगर के नगर निगमों के राजनीतिक नेताओं ने मुख्य सड़कों से मांसाहारी खाने के ठेलों को हटाने के लिए इसी तरह के निर्देश जारी किए थे और अपनी स्थायी समितियों की मंजूरी के बिना उन्हें अपने नियमित अतिक्रमण विरोधी अभियान के हिस्से के रूप में हटा दिया था.

गुजरात प्रांतीय नगर निगम अधिनियम, 1949 के अनुसार, स्थायी समिति द्वारा लिए गए किसी भी निर्णय को लागू करने से पहले नगर आयुक्त को मंजूरी देनी होती है.

इससे पहले प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल ने कहा था कि मैंने वडोदरा और राजकोट नगर निकायों के अधिकारियों से बात की है और उनसे कहा है कि वे मांसाहारी खाने के स्टॉलो को सड़कों से न हटाएं. यह स्वतंत्र नेताओं की निजी राय थी और राज्य भाजपा का इससे कोई लेना-देना नहीं है और हम इसे पूरे राज्य में लागू नहीं करेंगे.

हालांकि, एएमसी की नगर योजना और संपदा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष देवांग दानी का कहना है कि मंगलवार से ठेलों को हटाने का काम शुरू हो जाएगा. इन्हें धार्मिक स्थलों की 100 मीटर की परिधि में प्रतिबंधित कर दिया गया है.

Web Title: gujarat-ahmedabad non-veg-street-food-sale-ban-bjp-bhupendra patel

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे