gopalganj triple murder case tejashwi yadav Want to go gopalganj but police security residence | गोपालगंज ट्रिपल मर्डर: पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे तेजस्वी यादव को पुलिस ने रोका, RJD नेता बोले- 'सरकार में बैठे लोग अपराध की जननी हैं'
तस्वीर स्त्रोत- ANI ट्विटर हैंडल

Highlightsतेजस्वी यादव ने ट्वीट किया- आतंक राज के आकाओं, रोकना है तो अपने अपराधियों और आतंकियों को रोकिए। तेजस्वी यादव के साथ उनके भाई तेजप्रताप यादव भी गोपालगंज पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे थे।तेजस्वी यादव लगातार जेडीयू के विधायक अमरेंद्र पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

पटना: गोपालगंज में ट्रिपल मर्डर मामले में बिहार में सिसासी पारा तेज हो गया गया है। आरजेडी नेता जेपी यादव के घर पर हुए हमले को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ गोपालगंज जाने के लिए आज ( 29 मई) को राबड़ी आवास से निकले। इस बीच प्रशासन द्वारा तेजस्वी यादव को पीड़ित परिवार के घर जाने से रोक दिया गया है। पुलिस ने तेजस्वी यादव के साथ राबड़ी देवी और तेजप्रताप यादव के काफिले को भी रोका है। प्रशासन ने तेजस्वी यादव को गोपालगंज जाने की अनुमति नहीं दी है। कोरोना संकट और लॉकडाउन के मद्देनजर प्रशासन की ओर से ये फैसला लिया गया है। 

जिसके बाद तेजस्वी यादव ने कहा, अपराधियों को गिरफ्तार नहीं कर रहें, लेकिन हम न्याय के लिए पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे हैं तो हमें रोका जा रहा है। गोपालगंज रेड जोन में अपराधियों को छूट है लेकिन हमें ये लोग रोक रहे हैं इससे साबित होता है कि सरकार में बैठे लोग अपराध की जननी हैं। 

अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर तेजस्वी ने लिखा है, आतंक राज के आकाओं, रोकना है तो अपने अपराधियों और आतंकियों को रोकिए। शासन को पूर्व सूचना देकर मैं नरसंहार पीड़ितों से मिलने जा रहा हूं तो अब मुझे क्यों रोक रहे हैं? प्रशासन जबरदस्ती भीड़ लगाकर हमारे आवास के सामने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रही है।

आरजेडी ने अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो जारी कर लिखा है, 'नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को गोपालगंज नरसंहार कांड पीड़ितों से मिलने जा रहे थे। उससे पहले उनके आवास के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर उन्हें रोकने की कोशिश की जा रही है। राजद अन्याय के खिलाफ लड़ने वाली न्यायप्रिय पार्टी है। हमारे नेता चुप बैठने वाले नहीं हैं।'

बिहार के गोपालगंज में हत्या मामला में तेजस्वी नीतीश कुमार पर विधायक को ‘बचाने’ का आरोप लगा चुके हैं

तेजस्वी यादव ने 27 मई को कहा था मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी पार्टी जद(यू) के एक विधायक को गोपालगंज जिले में तीन लोगों की हत्या के मामले में ‘बचाने’ में लगे हैं। उन्होंने कहा था,  पुलिस गोपालगंज जिले में कुचायकोट विधानसभा क्षेत्र से जदयू विधायक अमरेंद्र नाथ पांडेय उर्फ पप्पू पांडे को गिरफ्तार नहीं कर रही है क्योंकि वे मुख्यमंत्री के "करीबी" हैं।

तेजस्वी ने कहा था, "अगर कल (28 मई) शाम तक पप्पू पांडेय को गिरफ्तार नहीं किया जाता है, तो मैं सरकार को चेतावनी देता हूं, मैं अपनी पार्टी के सभी विधायकों को साथ लेकर गोपालगंज पहुंच जाउंगा।" बाद में तेजस्वी ने अपनी पार्टी के नेताओं के साथ राजभवन जाकर राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात की और एक ज्ञापन सौंपा जिसमें गोपालगंज में हुई हत्याओं की सीबीआई जांच कराने की मांग की गई है।

जानें क्या है गोपालगंज ट्रिपल मर्डर केस का पूरा मामला?

गोपालगंज के हथुआ थाना इलाके के रुपनचक गांव में रविवार रात अपराधी आरजेडी नेता जेपी यादव के घर में घुस गए और उन्होंने जेपी यादव समेत उनके चार परिजनों पर गोलियों चला दी। फायरिंग की वजह से आरजेडी नेता जेपी यादव के माता-पिता की मौत हो गई थी, जबकि गंभीर रूप से घायल उनके एक भाई ने सोमवार की सुबह गोरखपुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। वहीं आरजेडी नेता जेपी यादव और उनके एक भाई अभी भी पटना के पीएमसीएच में इलाजरत हैं। 

गोपालगंज ट्रिपल मर्डर केस में कुचायकोट विधानसभा क्षेत्र से जदयू विधायक अमरेंद्र नाथ पांडेय उर्फ पप्पू पांड का नाम इस हमले के संबंध में दर्ज प्राथमिकी में दर्ज किया गया है। इस मामले में पुलिस ने पांडेय के भाई और भतीजे को गिरफ्तार कर लिया है जबकि पुलिस द्वारा विधायक का पता लगाया जा रहा है।

Web Title: gopalganj triple murder case tejashwi yadav Want to go gopalganj but police security residence
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे