four family members died due to covid only two daughters left alone | दुखद: पूरे परिवार की कोरोना से मौत, अब घर में बची है केवल दो बेटियां, अंतिम संस्कार के लिए भी कोई नहीं आया आगे
फोटो सोर्स - सोशल मीडिया

Highlightsगाजियाबाद के एक ही परिवार के 4 लोगों की मौत. घर में बची है केवल 2 बच्चियांकोरोना संक्रमण से गई जान, अंतिम संस्कार में नहीं हुआ कोई शामिलमृतक की बेटी ने किया अंतिम संस्कार, भाई की बेटियों को बुआ ने दिया सहारा

लखनऊ :भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर घातक साबित हो रही है । हर दिन लगभग  4 हजार लोगों की मौत हो रही है । इस महामारी में कई लोगों ने अपनों को खोया है । अब गाजियाबाद की क्रॉसिंग रिपब्लिक सोसायटी के एक हंसते-खेलते परिवार को कोरोना ने बर्बाद कर दिया । यहां एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गई है और अब परिवार में केवल 8 और 6 साल की बच्चियां बच्ची है  । इस हादसे के बाद सोसाइटी के सभी लोग डरे हुए हैं ।

 परिवार के चार सदस्यों की मौत

क्रॉसिंग रिपब्लिक सोसायटी में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि टावर 2 के फ्लैट नंबर 205 में दुर्गेश प्रसाद का परिवार रहता था । दुर्गेश रिटायर शिक्षक दिन है और बहुत अच्छे स्वभाव के व्यक्ति थे । वह सामाजिक कामों में हमेशा बढ़-चढ़कर भाग लेते थे । कोरोना संक्रमित होने के बाद दुर्गेश होम आइसोलेशन में  थे और डॉक्टर की सलाह पर दवाइयां भी ले रहे थे लेकिन एक दिन अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई  । 27 अप्रैल को उनकी मौत हो गई । 

दुर्गेश के बाद उनकी पत्नी , बेटा और बहू भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए । फिर  सोसाइटी वालों ने तीनों को ग्रेटर नोएडा के शारदा अस्पताल में भर्ती करवा दिया । यहां इलाज के दौरान 4 मई को दुर्गेश के बेटे अश्विनी की मौत हो गई । इस दुख से परिवार अभी उभरा भी नहीं था कि 5 मई को अश्विनी की मां की मौत हो गई । उसके बाद 7 अप्रैल को अश्विनी की पत्नी की मौत हो गई । कोरोना ने एक ही बार में पूरे परिवार को तबाह करके रख दिया । उनके हंसते -खेलते परिवार को उजाड़ कर रख दिया । अब घर में केवल 8 और 6 साल की दो बच्चियां बची है ।

अंतिम संस्कार के लिए भी कोई नहीं आया आगे

पूरे परिवार की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई । संक्रमण के अंदर से कोई भी व्यक्ति अंतिम संस्कार के लिए भी आगे नहीं आया । इसके बाद दुर्गेश प्रसाद की बेटी को यह पता चली तो वह गाजियाबाद पहुंचे परिवार के लोगों का अंतिम संस्कार किया । 

अश्विनी की दोनों बच्चियों को समझ नहीं आ रहा है कि उनके साथ क्या हुआ । अब वह बार-बार अपने माता-पिता और दादा-दादी के बारे में पूछ रही है लेकिन किसी के पास  उनके किसी सवाल का कोई जवाब नहीं है । रिश्तेदारों के सामने चुनौती है कि बच्चों की परवरिश कैसे और कहां होगी । फिलहाल बुआ ने दोनों बच्चों की जिम्मेदारी ली है ।
 

Web Title: four family members died due to covid only two daughters left alone

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे