Farmer part of rally dies protesters allege cops fired at his tractor | दुखद: ट्रैक्टर परेड के दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस में टकराव, 1 किसान की मौत
ट्रैक्टर परेड में मची अफरातफरी। (फोटो सोर्स- सोशल मीडिया)

Highlights प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक्टर परेड के निर्धारित समय से काफी पहले ही दिल्ली के विभिन्न सीमा बिन्दुओं से दिल्ली के भीतर बढ़ना शुरू कर दिया था ।दिल्ली पुलिस ने किसानों को इस शर्त के साथ ट्रैक्टर परेड की अनुमति दी थी कि वे राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड के समाप्त होने के बाद तय किए गए मार्गों पर ही अपनी परेड करेंगे। आज किसान मध्य दिल्ली की ओर बढ़ने पर अड़ गए जिससे अफरातफरी मच गई।

दिल्ली में किसानों का ट्रैक्टर परेड उग्र रूप लेता जा रहा है। इस प्रदर्शन से जुड़ी कई तरह की खबरें सामने आ रही है। एनडीटीवी में छपी रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के आईटीओ पर हंगामें के दौरान उत्तराखंड निवासी नवनीत नामक शख्स की मौत हो गई । वह उत्तराखण्ड के बाजपुर इलाके का रहना वाला है। पुलिस की मानें तो किसान की मौत ट्रैक्टर पलटने की वजह से हुई है।

लेकिन इस मौत के लिए वहां मौजूद किसानों ने पुलिस को जिम्मेदार ठहराया है। किसान नेताओं का दावा है कि आईटीओ पर पुलिस की फायरिंग के दौरान शख्स की मौत हो गई है। राष्ट्रीय राजधानी में कई जगहों पर प्रदर्शन कर रहे किसानों और पुलिस के बीच झड़प हुई और वे लाल किला और आईटीओ पहुंच गए। कई जगहों पर वे ट्रैक्टर परेड के लिए तय रास्तों को छोड़कर अन्य रास्तों से जाने लगे और उन्हें रोकने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले भी दागे गए। पुलिस द्वारा आईटीओ से खदेड़े गए प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह अपने ट्रैक्टर लेकर लालकिला परिसर पहुंच गया।

ये प्रदर्शनकारी लालकिला परिसर में घुस गए और उस ध्वज-स्तंभ पर अपना झंडा लगाते दिखे जहां से प्रधानमंत्री 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं। उन्होंने लालकिले के कुछ गुंबदों पर भी अपने झंडे लगा दिए। इससे पहले प्रदर्शनकारी किसान आईटीओ पहुंच गए और लुटियंस इलाके की तरफ बढ़ने की कोशिश की। इसपर पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना पड़ा। 

हिंसा समाधान नहीं, देशहित में कृषि कानूनों को वापस लिया जाए

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कुछ जगहों पर पुलिस एवं किसानों के बीच झड़प होने के बाद कहा कि हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं है और सरकार को देशहित में तीनों कृषि कानून वापस लेने चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया कि हिंसा किसी समस्या का हल नहीं है। चोट किसी को भी लगे, नुक़सान हमारे देश का ही होगा। देशहित के लिए कृषि-विरोधी क़ानून वापस लो! 

Web Title: Farmer part of rally dies protesters allege cops fired at his tractor

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे