निजी अस्पतालों में जाने वाली हर दूसरी गर्भवती महिला का ऑपरेशन से प्रसव, NFHS आंकड़ों में आया सामने

By विशाल कुमार | Published: November 27, 2021 12:09 PM2021-11-27T12:09:39+5:302021-11-27T12:14:36+5:30

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों से पता चलता है कि देशभर के निजी अस्पतालों में सी-सेक्शन की यह संख्या 2014-15 में 17.2 फीसदी से बढ़कर 2019-20 में 21.5 फीसदी हो चुकी है। इसका मतलब है कि निजी या सार्वजनिक अस्पतालों में जाने वाली पांच में से एक महिला सी-सेक्शन से गुजरती है।

every second-women-undergoes-c-section-in-private-hospitals-shows-nfhs-data | निजी अस्पतालों में जाने वाली हर दूसरी गर्भवती महिला का ऑपरेशन से प्रसव, NFHS आंकड़ों में आया सामने

निजी अस्पतालों में जाने वाली हर दूसरी गर्भवती महिला का ऑपरेशन से प्रसव, NFHS आंकड़ों में आया सामने

Next
Highlightsनिजी अस्पतालों में सी-सेक्शन 2014-15 में 17.2 फीसदी से बढ़कर 2019-20 में 21.5 फीसदी.निजी या सार्वजनिक अस्पतालों में जाने वाली पांच में से एक महिला सी-सेक्शन से गुजरती है.विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, सी-सेक्शन की आदर्श संख्या 10-15 फीसदी तक रहनी चाहिए.

नई दिल्ली: देश में निजी अस्पतालों में जाने वाली हर दूसरी गर्भवती महिला का ऑपरेशन से प्रसव (सी-सेक्शन) होता है. राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों से यह पता चला है।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, आंकड़ों से पता चलता है कि देशभर के निजी अस्पतालों में सी-सेक्शन की यह संख्या 2014-15 में 17.2 फीसदी से बढ़कर 2019-20 में 21.5 फीसदी हो चुकी है। इसका मतलब है कि निजी या सार्वजनिक अस्पतालों में जाने वाली पांच में से एक महिला सी-सेक्शन से गुजरती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, सी-सेक्शन की आदर्श संख्या 10-15 फीसदी तक रहनी चाहिए. जब यह दर 10 फीसदी तक बढ़ जाती है, तो मां और नवजात की मौत की संख्या कम हो जाती है। जब दर 10 फीसदी से अधिक हो जाती है, तो इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मृत्यु दर में सुधार होता है।

कई राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के निजी अस्पताल सी-सेक्शन के माध्यम से 10 में से सात या आठ प्रसव करते हैं। इनमें पश्चिम बंगाल (82.7 फीसदी), जम्मू और कश्मीर (82.1 फीसदी), तमिलनाडु (81.5 फीसदी), अंडमान और निकोबार (79.2 फीसदी) और असम (70.6 फीसदी) शामिल हैं।

असम में ऐसे ऑपरेशनों की दर में 17.3 फीसदी की बढ़ोतरी होकर 70.6 फीसदी पहुंच चुकी है. वहीं, ओडिशा में 17 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 70.7 फीसदी, पंजाब में 15.8 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 55.5 फीसदी, तमिलनाडु में 12.5 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 63.8 फीसदी और कर्नाटक में 12.2 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 52.5 फीसदी हो गई है।

यही नहीं, सार्वजनिक अस्पतालों में भी सी-सेक्शन प्रसव दरों में बढ़ोतरी देखी गई है. यह दर 2014-15 में 52.1 फीसदी से बढ़कर 2019-20 में 61.9 फीसदी तक हो चुकी है।

Web Title: every second-women-undergoes-c-section-in-private-hospitals-shows-nfhs-data

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे