Election Commission issues notice to Mamata Banerjee for comment on central forces | चुनाव आयोग ने केंद्रीय बलों पर टिप्पणी के लिए ममता बनर्जी को नोटिस जारी किया
चुनाव आयोग ने केंद्रीय बलों पर टिप्पणी के लिए ममता बनर्जी को नोटिस जारी किया

नयी दिल्ली, नौ अप्रैल चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को राज्य में चुनाव ड्यूटी पर तैनात केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के खिलाफ उनकी कथित टिप्पणी के लिए नोटिस जारी किया है।

आयोग ने कहा है कि प्रथमदृष्टया ममता बनर्जी के " पूरी तरह निराधार, भड़काऊ और तीखे बयानों" से चुनाव ड्यूटी में तैनात केंद्रीय सशस्त्र बलों का मनोबल गिरा है।

आयोग द्वारा बृहस्पतिवार की रात को जारी नोटिस में कहा गया है कि केंद्रीय बलों के खिलाफ टिप्पणी कर बनर्जी ने प्रथमदृष्टया भारतीय दंड संहिता की कई धाराओं का उल्लंघन किया है।

मुख्यमंत्री को शनिवार दिन में 11 बजे तक नोटिस का जवाब देने के लिए कहा गया है।

नोटिस में कहा गया है, ‘‘...प्रथमदृष्टया बनर्जी के पूरी तरह निराधार, भड़काऊ और तीखे बयान... चुनावी प्रक्रिया के दौरान केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की गरिमा को गिराने और अपमानित करने का प्रयास है। इससे इन बलों के कर्मियों का मनोबल गिरा है जो 1980 के दशक के आखिर से चुनाव दर चुनाव अपनी सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने विशेषकर क्षेत्र में अपनी प्रधानता सुनिश्चित की है और अपनी उपस्थिति से असामाजिक तत्वों पर लगाम लगाकर सराहनीय योगदान दिया है।’’

नोटिस के अनुसार केंद्रीय अर्द्धसैनिक बल स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी और सबकी पहुंच वाला चुनाव आयोजित कराने में चुनाव आयोग के सहायक के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

केंद्रीय बलों पर उनके बयानों का हवाला देते हुए नोटिस में कहा गया है, ‘‘सबसे दुखद बात यह है कि बनर्जी ने केंद्रीय बलों के कर्मियों पर हमला करने के लिए भावनात्मक बातों से महिला वोटरों को भड़काने का प्रयास किया।’’

नोटिस में बनर्जी के बयान का उल्लेख किया गया है जिसमें उन्होंने कहा था, ‘‘उन्हें किसने इतना अधिकार दिया है कि केंद्रीय पुलिस बल महिलाओं को वोट डालने से रोक रहे हैं और उन्हें धमकी दे रहे हैं? मैंने यही चीज 2019 के चुनाव में देखी थी। यही बात मैंने 2016 के चुनाव में भी देखी थी।’’

बयान में उन्होंने कहा, ‘‘अगर सीएपीएफ (केंद्रीय पुलिस) ऐसे ही परेशान और बाधा उत्पन्न करती रही तो मैं आप महिलाओं को बता दूं कि आप सभी समूह में जायें और उनका घेराव करें। अन्य समूह अपना वोट डालकर आये। अपने वोट को बर्बाद नहीं जाने दें। अगर आप उनका घेराव करने में ही लगी रहेंगी तो अपना वोट नहीं डाल पायेंगी। यह उनकी योजना है। यह भाजपा की योजना है।’’

नोटिस में जिक्र किये गये बनर्जी के बयान के अनुसार, ‘‘और आपकी योजना यह होगी कि आप उनसे डरे नहीं... फिर उनसे बात करें। वास्तव में आपको उनका घेराव नहीं करना है।’’

पिछले कुछ दिनों में बनर्जी को चुनाव आयोग का यह दूसरा नोटिस है।

आयोग ने कथित रूप से वोट के लिए सांप्रदायिक अपील करने को लेकर बुधवार को उन्हें नोटिस जारी किया था और कहा था कि यह जन प्रतिनिधि कानून और चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है।

नोटिस में कहा गया कि 28 मार्च और सात अप्रैल के ममता के बयान और इसके बाद के बयानों पर गौर करने से पता चलता है कि ‘‘बनर्जी ने बार-बार केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों का मनोबल गिराने का प्रयास किया है जिन्होंने संबंधित राज्य सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों में कानून व्यवस्था बहाल करने में अहम भूमिका निभायी है।’’

इसमें कहा गया है कि तृणमूल कांग्रेस और बनर्जी ने केंद्रीय बलों को अपमानित करने का चलन बना लिया है।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Election Commission issues notice to Mamata Banerjee for comment on central forces

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे