मणिपुर में भूस्खलन की घटना में आठ लोगों की मौत, 70 से ज्यादा लापता, मंडरा रहा एक और बड़ा खतरा

By भाषा | Published: June 30, 2022 08:19 PM2022-06-30T20:19:30+5:302022-06-30T20:28:45+5:30

मणिपुर के नोनी जिले में भूस्खलन की घटना में 8 लोगों की मौत हो गई है। घटना बुधवार रात टुपुल यार्ड रेलवे निर्माण शिविर में हुई। मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने हादसे में जान गंवाने वालों के परिजन को एक लाख रुपये की घोषणा की है।

Eight people killed, more than 70 missing in Manipur landslide incident | मणिपुर में भूस्खलन की घटना में आठ लोगों की मौत, 70 से ज्यादा लापता, मंडरा रहा एक और बड़ा खतरा

मणिपुर में विनाशकारी भूस्खलन (फोटो- एएनआई)

Next
Highlightsमणिपुर के नोनी जिले में रेलवे निर्माण स्थल पर भूस्खलन में कम से कम आठ लोगों की मौत।घटना बुधवार रात टुपुल यार्ड रेलवे निर्माण शिविर में हुई, बचाव कार्य अभी भी जारी है।भूस्खलन के मलबे ने इजेई नदी के रास्ते को रोक दिया है, इससे एक बड़ा जलाशय बन गया है, निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात का खतरा

इंफाल: मणिपुर के नोनी जिले में एक रेलवे निर्माण स्थल पर हुए विनाशकारी भूस्खलन में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई और 70 से अधिक अन्य लोग लापता हो गए हैं। अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों के मुताबिक, यह घटना बुधवार रात टुपुल यार्ड रेलवे निर्माण शिविर में हुई। उन्होंने बताया कि प्रादेशिक सेना के सात जवानों समेत आठ लोगों के शवों को निकाल लिया गया है और करीब 72 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। बचाव अभियान जारी है।

इजेई नदी अवरुद्ध, मंडरा रहा एक और खतरा

भूस्खलन के कारण बड़े पैमाने पर मलबे ने इजेई नदी को अवरुद्ध कर दिया है, जिससे एक जलाशय बन गया है, जो निचले इलाकों को जलमग्न कर सकता है। नोनी जिले के उपायुक्त द्वारा जारी एक परामर्श में कहा गया है, “टुपुल यार्ड रेलवे निर्माण शिविर में भूस्खलन के कारण हुए दुर्भाग्यपूर्ण हादसे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। भूस्खलन के कारण बड़े पैमाने पर मलबे ने इजेई नदी को अवरुद्ध कर दिया है, जिसके परिणामस्वरूप एक जलाशय बन गया है, जो नोनी जिला मुख्यालय के निचले इलाकों को जलमग्न कर सकता है।”

प्रशासन ने इन इलाकों में रहने वाले लोगों को एहतियात बरतने की सलाह दी है। कई स्थानों पर सड़कों के अवरुद्ध होने के कारण लोगों को राष्ट्रीय राजमार्ग-37 की यात्रा नहीं करने की सलाह दी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस घटना को लेकर मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की है। अमित शाह ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की एक टीम भूस्खलन वाली जगह पर पहुंच गई है, जबकि दो और टीम जल्द ही पहुंच जाएंगी।

केंद्रीय गृह मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘मणिपुर में टुपुल रेलवे स्टेशन के पास हुए भूस्खलन के मद्देनजर मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की। बचाव कार्य जोरों पर है। एनडीआरएफ की एक टीम पहले ही मौके पर पहुंच गई है और बचाव कार्य में जुट गई है। एनडीआरएफ की दो और टीम जल्द ही टुपुल पहुंच जाएंगी।’’

मृतकों के परिजनों को एक लाख रुपये की मुआवजा राशि

मुख्यमंत्री सिंह ने स्थिति का जायजा लेने के लिए एक आपात बैठक बुलाई है। एन बीरेन सिंह ने ट्वीट किया, “ टुपुल में हुई भूस्खलन की घटना का आकलन करने के लिए आज एक आपातकालीन बैठक बुलाई गई। खोज और बचाव अभियान पहले से ही चल रहा है। मृतकों और लापता लोगों के लिए प्रार्थना करें। बचाव अभियान में सहायता के लिए डॉक्टरों के साथ एम्बुलेंस भी भेजी गई हैं।”

मुख्यमंत्री ने हादसे में जान गंवाने वालों के परिजन को एक लाख रुपये और घायलों के लिए 50,000 मुआवजा राशि देने की घोषणा की है। मणिपुर के राज्यपाल एल गणेशन ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर हादसे में लोगों की मौत पर शोक जताया और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।

Web Title: Eight people killed, more than 70 missing in Manipur landslide incident

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे