Controversy over Gandhi's statue in Malawi | आखिर क्यों मलावी में गांधी की प्रतिमा को लेकर हुआ विवाद
आखिर क्यों मलावी में गांधी की प्रतिमा को लेकर हुआ विवाद

मलावी की आर्थिक राजधानी ब्लांटायर में महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित करने की योजना के विरोध में करीब 3,000 लोगों ने एक याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं। उनका कहना है कि भारतीय स्वतंत्रता के नायक ने दक्षिणी अफ्रीकी देश के लिए कुछ नहीं किया है।

गांधी के नाम पर बने एक मार्ग के साथ-साथ उनकी प्रतिमा बनाने का काम दो महीने पहले शुरू हुआ था। मलावी सरकार का कहना है कि यह प्रतिमा एक समझौते के तहत खड़ी की जा रही है जिसके तहत भारत ब्लांटायर में एक करोड़ डॉलर की लागत से एक सम्मेलन केंद्र का निर्माण करेगा।

‘‘गांधी मस्ट फॉल” समूह ने एक बयान में कहा, “महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता एवं आजादी के लिए मलावी के संघर्ष में कोई योगदान नहीं दिया।” 

बयान में कहा गया, “इसलिए हमें लगता है कि मलावी के लोगों पर यह प्रतिमा थोपी जा रही है और यह एक विदेशी ताकत का काम है जो मलावी के लोगों पर अपना दबदबा और उनके मन में अपनी बेहतर छवि बनाना चाहती है।” 

याचिकाकर्ताओं का कहना है कि गांधी नस्लवादी थे। 

English summary :
About 3,000 people have signed a petition against the planned Mahatma Gandhi's statue in Malawi's commercial capital Blantyre. They say that the hero of Indian Independence, Mahatma Gandhi, has done nothing for the Southern African country.


Web Title: Controversy over Gandhi's statue in Malawi
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे