लद्दाख में तनाव शुरू होने से पहले से ही सीमावर्ती गांवों पर काम शुरू कर चुका था चीन: रिपोर्ट

By विशाल कुमार | Published: November 30, 2021 01:53 PM2021-11-30T13:53:37+5:302021-11-30T13:57:56+5:30

चीन की नीतियों को दुनिया के सामने लाने के लिए पिछले दो साल से 'डिकोडिंग चाइनीज कम्यूनिस्ट पार्टी' शीर्षक हैंडबुक पर काम कर रहे तिब्बती शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्हें कई ऐसी रिपोर्ट्स मिली हैं जहां चीनी पक्ष सेना के साथ-साथ सीमावर्ती गांवों का भी बल के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

china-started-work-on-border-villages-long-before-ladakh lac-standoff-began-report | लद्दाख में तनाव शुरू होने से पहले से ही सीमावर्ती गांवों पर काम शुरू कर चुका था चीन: रिपोर्ट

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग. (फाइल फोटो)

Next
Highlightsचीन की नीतियों को दुनिया के सामने लाने के लिए पिछले दो साल से काम कर रहे तिब्बती शोधकर्ता।चीनी पक्ष सेना के साथ-साथ सीमावर्ती गांवों का भी बल के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

नई दिल्ली: पिछले साल मई में लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को बदलने के चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के एकतरफा प्रयासों से एक साल पहले ही भारतीय जमीनों पर अपने दावे करने और भारत की ओर नजर रखने के लिए सीमावर्ती इलाकों में संसाधन जुटाने तैयार कर दिए थे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की नीतियों को दुनिया के सामने लाने के लिए पिछले दो साल से 'डिकोडिंग चाइनीज कम्यूनिस्ट पार्टी' शीर्षक हैंडबुक पर काम कर रहे तिब्बती शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्हें कई ऐसी रिपोर्ट्स मिली हैं जहां चीनी पक्ष सेना के साथ-साथ सीमावर्ती गांवों का भी बल के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

अगस्त, 2019 की ऐसी ही एक रिपोर्ट चीनी मैसेजिंग ऐप्स और वेबसाइट्स पर प्रसारित की गई जिसमें सिक्किम की सीमा पर बसे गेरु गांवों में सीमावर्ती गश्ती और प्रोपगेंडा गतिविधियां शुरू की गई थीं। रिपोर्ट में गेरु में तैनात एक पार्टी सचिव हर गेरु निवासी और हर घर को जासूस बताते हैं।

हैंडबुक को तैयार करने वाले तिब्बती मानवाधिकार और लोकतंत्र केंद्र के कार्यकारी निदेशक सेरिंग त्सोमो ने कहा कि परियोजना पर काम करने वाले पांच शोधकर्ताओं ने ऐसी और रिपोर्टें उठाईं जो चीन के एलएसी जैसी ही इरादों की ओर इशारा करती हैं।

चीनी पक्ष न केवल तिब्बतियों को भर्ती करने का प्रयास कर रहा है बल्कि अपने समुदायों की वफादारी सुनिश्चित करने का भी प्रयास कर रहा है।

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि भारत को अक्टूबर में लागू हुए चीन के नए भूमि कानून से जरूर चिंतित होना चाहिए. जनवरी से प्रभाव में आने वाला यह कानून चीन की भूसीमाओं की सुरक्षा को मजबूत करेगा।

जहां चीन की 14 देशों के साथ भू-सीमाएं हैं, उसका विवाद केवल भारत और भूटान के साथ है। मई 2020 में शुरू हुए लद्दाख में गतिरोध ने द्विपक्षीय संबंधों को अब तक के सबसे निचले स्तर पर ले गया है और भारत और चीन कई दौर की बातचीत के बावजूद सीमावर्ती सैनिकों को हटाने में असमर्थ रहे हैं।

Web Title: china-started-work-on-border-villages-long-before-ladakh lac-standoff-began-report

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे