Before becoming a hero, there were clerks in the railways Dharmendra, Untold stories | हीरो बनने से पहले रेलवे में क्लर्क थे धर्मेंद्र, अनकही कहानियां
फाइल फोटो

धर्मेंद्र कल 8 दिसंबर को अपना 83वां बर्थडे मनाएंगे. वह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के एक ऐसे सितारे हैं, जिसने ब्लैक एंड व्हाइट के दौर से लेकर रंगीन पर्दे पर और आज के एचडी-थ्रीडी सिनेमा में भी अपनी अदाकारी के जलवे बिखेरे हैं. धर्मेंद्र हमेशा फिल्मों के दीवाने रहे हैं और उनकी यही दीवानगी उन्हें बॉलीवुड में ले आई.

धर्मेंद्र खुद बताते हैं कि उन्होंने स्कूल के दिनों में एक फिल्म करीब 40 बार देखी. स्कूल बंक करके वह फिल्म देखने जाते थे. यह फिल्म थी 'दिल्लगी'. फिल्मों में आने से पहले धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क थे. उन्हें सवा सौ रुपए सैलरी मिलती थी. लेकिन उनका मन नौकरी में कम और एक्टिंग में ज्यादा लगता था.

फिल्मफेयर की तरफ से आयोजित टैलेंट हंट प्रतियोगिता जीत कर वह मुंबई आए थे. लेकिन उनके लिए फिल्मों की राह आसान नहीं थी. फिल्म निर्माताओं के दफ्तर में चक्कर लगाने के लिए वे मीलों पैदल चलते थे ताकि पैसे बचा सके और उससे कुछ खा सके. कई बार वह चने खाकर बेंच पर सो जाते थे. कभी-कभी तो चना भी नसीब नहीं होता था.

आखिरकार उनका संघर्ष रंग लाया और धर्मेंद्र ने 1960 में 'दिल भी तेरा हम भी तेरे' फिल्म से अभिनय की शुरुआत की. अर्जुन हिंगोरानी ने महज 51 रु. देकर इस फिल्म के लिए उन्हें साइन किया था. फिल्म 'फूल और पत्थर' धर्मंेद्र के करियर की पहली हिट फिल्म थी. अपने सिने करियर में लगभग 250 फिल्मों में काम कर चुके धर्मेंद्र हाल ही में फिल्म 'यमला पगला दीवाना 3' में नजर आए थे.

धर्मेंद्र अपने समय में बॉलीवुड के उन सितारों में शामिल रहे हैं जो अपनी फिटनेस के लिए पहचाने जाते थे. हालांकि उन्होंने खुद को फिट रखने के लिए कभी भी जिम का सहारा नहीं लिया, बल्कि देसी अंदाज में कसरत करके उन्होंने अपनी बॉडी बनाई थी. शायद यही वजह थी कि बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी भी उनके शादीशुदा होने के बावजूद उन पर अपना दिल हार बैठी थीं.

धर्मेंद्र आज भी खुद को फिट रखने के लिए रोज एक्सरसाइज, योगा और प्राणायाम करते हैं, साथ ही डाइट पर भी पूरा ध्यान देते हैं. धर्मेंद्र सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं और अक्सर अपनी फोटो शेयर करते रहते हैं. उनकी कुछ हालिया तस्वीरों में उन्हें फॉर्म हाउस में काम करते देखा गया. धर्मेंद्र आजकल आर्गेनिक खेती कर रहे हैं.


Web Title: Before becoming a hero, there were clerks in the railways Dharmendra, Untold stories
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे