वाइट ब्लड सेल्स यानी श्वेत रक्त कोशिकाएं अस्थि मज्जा में निर्मित होती हैं। यह संक्रमण और भड़काऊ प्रतिक्रियाओं से लड़ने में शामिल होती हैं। श्वेत रक्त कोशिकाओं में गड़बड़ी होने से आपको ल्यूकोसाइटोसिस, ऑटोइम्यून न्यूट्रोपेनिया और साइक्लिक न्यूट्रोपेनिया आदि का खतरा हो सकता है। इससे होने वाला रोग ल्यूकेमिया काफी घातक हो सकता है। 

वाइट ब्लड सेल्स  की नॉर्मल रेंज

वयस्क: प्रति लीटर 4 से 11 बिलियन कोशिकाएं
बच्चे : 2: 9 से 30 बिलियन सेल प्रति लीटर

वाइट ब्लड सेल्स विकारों के लक्षण

वेरीवेलहेल्थ के अनुसार, सफेद रक्त कोशिका विकारों के लक्षण बीमारी के प्रकार के आधार पर भिन्न होते हैं, हालांकि कुछ लोगों में कोई भी लक्षण नहीं होता है। लक्षण मुख्य रूप से संक्रमण से संबंधित होते हैं। इसके लक्षणों में मुख्यतः बार-बार संक्रमण होना, असामान्य बैक्टीरिया, वायरस या कवक के साथ संक्रमण होना, बुखार, मुंह के छालें, त्वचा पर फोड़े-फुंसी होना और निमोनिया शामिल हैं। 

वाइट ब्लड सेल्स से होने वाली बीमारियां

ल्यूकोसाइटोसिस, ल्यूकेमिया, ऑटोइम्यून न्यूट्रोपेनिया, साइक्लिक न्यूट्रोपेनिया, क्रोनिक ग्रैनुलोमैटस डिजीज, ल्यूकोसाइट अधेंसन डेफिशियेंसी।

वाइट ब्लड सेल्स कम होने के कारण

मेयो क्वालिनिक के अनुसार, वायरल संक्रमण जो अस्थि मज्जा के काम को अस्थायी रूप से बाधित करते हैं, जन्मजात विकार जिसमें अस्थि मज्जा कार्य कम होता है, कैंसर या अन्य बीमारियां जो अस्थि मज्जा को नुकसान पहुंचाती हैं, ऑटोइम्यून डिसऑर्डर, एंटीबायोटिक्स जैसी दवाएं, जो श्वेत रक्त कोशिकाओं को नष्ट करती हैं, सारकॉइडोसिस, 
अप्लास्टिक एनीमिया, कीमोथेरपी, एचआईवी/एड्स, हाइपरस्प्लेनिज्म, कोस्टमन सिंड्रोम, लेकिमिया, कुपोषण और विटामिन की कमी, मायलोयड्सप्लास्टिक सिंड्रोम, मायलोकोथेक्सिस, तपेदिक और अन्य संक्रामक रोग। 

वाइट ब्लड सेल्स बढ़ाने के लिए खायें ये चीजें

खट्टे फल
हेल्थलाइन के अनुसार, आपको नियमित रूप से खट्टे फलों का सेवन करना चाहिए। विटामिन सी से भरपूर खट्टे फल आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। विटामिन सी को सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाने के लिए माना जाता है। ये संक्रमण से लड़ने में भी मदद करते हैं।

लाल शिमला मिर्च
लाल शिमला मिर्च में खट्टे फलों के मुकाबले दोगुना विटामिन सी होता है। यह बीटा कैरोटीन का भी बेहतर स्रोत है। आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के अलावा, विटामिन सी स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने में मदद कर सकता है। बीटा कैरोटीन आपकी आंखों और त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

ब्रोकोली
ब्रोकोली विटामिन और खनिजों का भंडार है। इसके अलावा इसमें विटामिन ए, सी, और ई, साथ ही कई अन्य एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर पाए जाते हैं। ब्रोकोली स्वास्थ्यप्रद सब्जियों में से एक है जिसे आप रोजाना सलाद के रूप में भी खा सकते हैं। 

लहसुन
लहसुन दुनिया में लगभग हर व्यंजन में पाया जाता है। यह संक्रमण से लड़ने में सक्षम है। नेशनल सेंटर फॉर कॉम्प्लिमेंटरी एंड इंटीग्रेटिव हेल्थट्रस्टेड के अनुसार, लहसुन निम्न रक्तचाप और धमनियों को सख्त बनाने में मदद कर सकता है। लहसुन की प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले गुण सल्फर युक्त यौगिकों जैसे एलिसिन से भारी मात्रा में आते हैं। 

अदरक
अदरक सूजन को कम करने में मदद कर सकता है, जो गले में खराश, मतली और अन्य सूजन संबंधी बीमारियों को कम करने में मदद कर सकता है। अदरक में जिंजरोल और कैप्सैसिन होता है जो स्वास्थ्य के लिए बेहतर है। अदरक क्रोनिक दर्द को कम करने में मदद कर सकता है और कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण भी होते हैं। 

Web Title: White blood cell disorders, causes, symptoms, risk factors, White blood cell disorders normal range, food that can boost immune system
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे